पहल:बच्चों के लिए मेरा दूरदर्शन मेरा विद्यालय की शुरुआत

भभुआ6 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • ऑनलाइन पढ़ाई में नेटवर्क व आर्थिक समस्या

कोरोना काल में सरकार ने सभी सरकारी और निजी विद्यालय को बंद करने का आदेश जारी किया है।जिसके बाद सरकारी विद्यालय के बच्चों के लिए मेरा दूरदर्शन मेरा विद्यालय कार्यक्रम की शुरुआत की गई है।डीडी बिहार पर चल रहे मेरा दूरदर्शन मेरा विद्यालय कार्यक्रम के जरिए बच्चे अपनी पढ़ाई पूरी कर सकते हैं।विद्यालय बंद होने के बाद इस कार्यक्रम का संचालन किया जा रहा है। जिसमें सुबह नौ बजे से लेकर बारह बजे तक अलग-अलग कक्षाओं की पढ़ाई हो रही है। इसके अलावा शाम तीन बजे से लेकर पांच बजे तक दिन में जो पढ़ाई हुई है उसे ही दोहराया जा रहा है। जो बच्चे सुबह की कक्षा में शामिल नहीं हो सके हैं वह शाम में आयोजित होने वाले क्लास में पढ़ाई पूरी कर सकते हैं। वैसे इस विशेष क्लास में अधिकांश बच्चे रुचि नहीं ले रहे हैं। अधिकांश बच्चे इस तरह के एकतरफा संवाद वाले व्यवस्था में अपनी रुचि नहीं दिखा रहे हैं। जबकि कई घरों में टेलीविजन की व्यवस्था नहीं है।जिसकी वजह से यह व्यवस्था कारगर रही हो पा रही है।पिछले साल हुए लाक डाउन में भी यह व्यवस्था कारगर नहीं हो पाई थी। इसके अलावा विभिन्न स्रोतों के माध्यम से ऑनलाइन पढ़ाई भी बच्चों के लिए कारगर सिद्ध नहीं हो पा रही है।

इंटरनेट की व्यवस्था भी खस्ताहाल
सरकारी विद्यालयों में पढ़ने वाले अधिकांश बच्चे आर्थिक रूप से कमजोर हैं।इसके अलावा मोबाइल नेटवर्क और आर्थिक समस्या भी सामने आ रही है।कोरो ना के चलते लगाई गई पाबंदियों का असर छात्र-छात्राओं के भविष्य पर भी पड़ रहा है।विद्यालय बंद होने से बच्चों की पढ़ाई प्रभावित हो रही है। इंटरनेट की व्यवस्था बेहतर नहीं होने की वजह से ग्रामीण क्षेत्रों में ऑनलाइन पढ़ाई पूरी तरह फेल है। इसके अलावा कई छात्रों के पास बेहतर एंड्रॉयड फोन नहीं होने की वजह से भी ऑनलाइन पढ़ाई की व्यवस्था कारगर नहीं हो पा रही है। पिछले वर्ष भी लॉकडाउन के बाद सरकार ने पढ़ाई के लिए कई व्यवस्था की इसके बावजूद यह व्यवस्था पूरी तरह सफल नहीं हो पाई है।

खबरें और भी हैं...