• Hindi News
  • Local
  • Bihar
  • Patna
  • Bhabhua
  • Now The Ministry Of Culture Will Save The Heritage Of The Villages, The Identity And Heritage Of The Culture Of The Villages Will Be Recorded

बढ़ेगी उपलब्धि:अब गांवों की विरासत सहेजेगा संस्कृति मंत्रालय, गांवों की संस्कृति की पहचान और धरोहर को किया जाएगा दर्ज

भभुआ19 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
गांव में दरख्त के नीचे बैठे युवा और बुजुर्ग। - Dainik Bhaskar
गांव में दरख्त के नीचे बैठे युवा और बुजुर्ग।
  • सीएससी ने इसके लिए विकसित किया मोबाइल ऐप, इसी के जरिए आंकड़ा संग्रहण

भारत सरकार गांव की विरासत सहेजेगा। इसकी तैयारी की जा रही है। यह दायियित्व कला एवं संस्कृति मंत्रालय को दी गई है। मंत्रालय, सूचना एवं प्रौद्योगिकी मंत्रालय की अनुषंगी कंपनी सीएससी के समन्वय से यह कार्य करेगी। कंपनी की ओर से खासतौर पर एक मोबाइल एप्लीकेशन विकसित की जा चुकी है। जिसके जरिए सीएसपी संचालक गांव में जा जाकर संबंधित गांव की सांस्कृतिक विरासत से जुड़ी तथ्यों को मोबाइल एप्लीकेशन में एंटर करेंगे। प्रशिक्षण के बाद कर्मी गांव के बुजुर्गों से बातचीत कर भी उनके फीडबैक को रखेंगे।मिली जानकारी के मुताबिक केंद्रीय संस्कृति मंत्रालय ने हर गांव के सांस्कृतिक धरोहर को मोबाइल ऐप में दर्ज करने के लिए सीएससी के साथ करार किया है।

देश में पहली बार किए जा रहे इस अभियान को “मेरा गांव, मेरी धरोहर” नाम दिया गया है। कॉमन सर्विस सेंटर, सूचना प्रौद्योगिकी मंत्रालय का एक इकाई है। जो देश भर में चार लाख से अधिक सेंटर संचालित करता है। इस अभियान के तहत देश के हर गांव, ब्लॉक, जिला स्तर पर वहां की संस्कृति की पहचान और धरोहर को दर्ज किया जाएगा। इसके लिए स्थानीय लोगों से बातचीत की जाएगी। जिसमें वे अपने गांव की खासियत को दर्ज कराएंगे। इसके अलावा उससे संबंधित फोटो अन्य दस्तावेज भी लोगों से लेकर ऐप पर दर्ज की जाएगी।संरक्षण के बारे में जानकारी देते हुए सीएससी के जिला प्रबंधक नीतीश कुमार व रवि कुमार ने बताया कि सीएससी की ओर से विशेष मोबाइल ऐप विकसित की जा चुकी है। सीएससी संचालकों के जरिए गांव गांव जाकर लोगों की प्रतिक्रियाएं और उनसे हासिल फोटो और अन्य दस्तावेज भी पर अपलोड किए जाएंगे।

खबरें और भी हैं...