योजना:पंजीकृत किसान ही समितियों को बेंच सकेंगे धान

भभुआ24 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
  • सहकारिता, कृषि व खाद्य एवं उपभोक्ता संरक्षण विभाग ने संयुक्त रूप से निर्देश जारी किया है

अब पंजीकरण के बाद ही किसानों से धान की अधिप्राप्ति की जा सकेगी। किसानों की तेजी से पंजीकरण कराई भी जा रही है। इसमें तेजी लाने के निर्देश भी दिए गए हैं।इसके लिए तैयारियां तेजी से पूरी की जा रही है। जिन किसानों के कृषि विभाग में पंजीकरण पूरे हो चुके होंगे, उन्हीं किसानों से पैक्स व व्यापार मंडल धान की अधिप्राप्ति करेंगे,जो किसान पहले ही कृषि विभाग में पोर्टल में पंजीकरण करा चुके हैं, उन्हें अपने भूमि से संबंधित व्यौरे पोर्टल में अपडेट करने होंगे। जिले के विभिन्न हिस्सों में चिन्हित किसान सलाहकार किसानों के भूमि संबंधित आंकड़े कृषि विभाग के पोर्टल पर अपलोड करने में प्रोत्साहन व आवश्यक सहयोग करेंगे। प्रखंड सहकारिता प्रसार पदाधिकारियों के जिम्मे धान अधिप्राप्ति किए जाने की दायित्व दी गई है। तीन विभागों के आपसी समन्वय से होगी मॉनिटरिंग: धान अधिप्राप्ति की मॉनिटरिंग व्यवस्थित होगी। इसके लिए तीन विभागों की आपस में समन्वय समन्वय रहेगी। सहकारिता विभाग, कृषि विभाग व खाद्य एवं उपभोक्ता संरक्षण विभाग ने संयुक्त रूप से दिशा निर्देश जारी किया है। जिसमें स्पष्ट किया गया है कि किसानों के पंजीकरण के बाद ही उनके धान अधिप्राप्ति किए जाएंगे। इसके पहले धान अधिप्राप्ति के लिए सहकारिता विभाग के द्वारा किसानों से अलग तरीके से पंजीकरण की व्यवस्था रही है। किसानों को न्यूनतम समर्थन मूल्य दिलाने के लिए शुरू की गई कवायद: विभाग के आधिकारिक सूत्रों का कहना है कि अधिक से अधिक किसानों को उनकी फसल की न्यूनतम समर्थन मूल्य दिलाने के लिए व्यवस्थित तैयारी की जा रही है। खरीफ विपणन मौसम 2021-22 में धान अधिप्राप्ति के लिए पहले ही संयुक्त आदेश भी जारी किए जा चुके हैं। । भूमि संबंधी अभिलेख कृषि विभाग के पोर्टल पर अपलोड किए जाने हैं।

खबरें और भी हैं...