पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

मिलेगी सुविधा:पंचायतों में ही आईटी रिटर्न दाखिल कर सकेंगे पैन कार्डधारी, मिलेगी सुविधा

भभुआ2 दिन पहले
  • कॉपी लिंक

डिजिटल हो रहे गांवों में अब हर तरह की गतिविधियां और सुविधाएं आसपास में ही मिल जाएंगी। डिजिटल इंडिया कार्यक्रम के राहत आयकर सेवाओं को भी जोड़ा जा चुका है। पंचायतों में स्थापित सीएससी के जरिए पैन कार्डधारी आयकर रिटर्न्स भी दाखिल कर सकेंगे। इस व्यवस्था से वे टीडीएस भी वापस पा सकेंगे। सीएससी पोर्टल से टैक्स टू विन लिंक जोड़ा गया है। इसी के जरिए सीएससी संचालक लाभुक के विभिन्न स्रोतों से होने वाले आय की जानकारी भरेंगे। एक नियत शुल्क का भुगतान कर वे रिटर्न्स पा सकेंगे।

इसके पहले रिटर्न्स दाखिल करने में कई तरह की परेशानियां होती थी। जिसमें टैक्स एडवोकेट का सलाह लेना पड़ता था। माना जा रहा है कि पैन कार्ड धारियों को रिटर्न्स दाखिल करने आसान हो जाएगा। आने वाले समय में समय में इसे अनिवार्य भी की जा सकती है। बता दें कि अब पैन कार्ड को भी आधार से जोड़ा जाना है। यहां यह बजी उल्लेखनीय है कि इसी व्यवस्था के पहले बैंक ग्राहकों की सिबिल स्कोर(साख अंक) निकलने की भी सहूलियत दी गई है। इससे ग्राहकों के ऋण लेने की क्षमता का आंकलन किया जाता है। शीघ्र ही न्यायिक परामर्श आसानी से मिल सकेगा। यह सुविधा ग्राम पंचायतों में स्थापित किए गए सीएससी के जरिए मिल सकेगी। इसे भी सीएससी से जोड़ा जा रहा है। सीएससी के पोर्टल पर शीघ्र ही इसे क्रियान्वित भी कर दिया जाएगा। यह सुविधा आम लोगों को राष्ट्रीय स्तर पर गठित अधिवक्ताओं के पैनल के जरिए डिजिटल फॉर्म में उपलब्ध होगी।। पोर्टल पर इस सुविधा को शीघ्रता से लाइव की जा रही| सीएससी के पदाधिकारियों ने बताया कि पोर्टल पर इस सुविधा को शीघ्रता से लाइव की जा रही है। यह सभी ग्राम पंचायतों में स्थापित कॉमन सर्विस सेंटर के जरिए उपलब्ध कराई जाएगी। न्यायिक परामर्श के लिए इच्छुक व्यक्ति सीएससी के जरिए सुविधा के लिए अपना पंजीकरण करा सके सकते हैं। पंजीकरण के बाद उन्हें विशेष तिथि और समय निर्धारित की जाएगी। उस दौरान पैनल के अधिवक्ताओं से सीधी ऑनलाइन बातचीत भी होगी।

खबरें और भी हैं...