पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

योजना:1765 आंगनबाड़ी केंद्रों में मिलेगा स्कूल पूर्व शिक्षा किट

भभुआ15 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
आंगनबाड़ी केंद्र में बच्चे। - Dainik Bhaskar
आंगनबाड़ी केंद्र में बच्चे।
  • इससे बच्चों की सीखने की समझ बढ़ेगी, मुख्यालयों में एक यूनिट सैंपल के तौर पर भी रखा जाएगा

स्कूल पूर्व शिक्षा को तकनीक से जोड़कर इसे और भी आसान बनाया जाएगा। यह व्यवस्था आंगनबाड़ी केंद्रों में शीघ्र ही लागू की जाएगी। इसके लिए कैमूर के सभी 11 परियोजनाओं के 1765 आंगनबाड़ी केंद्रों को स्कूल पूर्व शिक्षा किट उपलब्ध कराए जाएंगे। किट की उपलब्धता के लिए बाल विकास निदेशालय ने दो एजेंसियों को हायर किया है। तथा स्पष्ट कहा है कि शीघ्रता से सभी जिला कार्यालयों को 1-1 स्कूल पूर्व शिक्षा किट सैंपल के तौर पर उपलब्ध कराएं। वहीं निदेशालय ने बाल विकास विभाग के जिला कार्यक्रम पदाधिकारियों को दिशा निर्देश देते हुए कहा है कि एजेंसियों से उपलब्ध होने वाली स्कूल पूर्व शिक्षा किट की जांच कराकर रिपोर्ट निदेशालय को भेजें। ताकि यह व्यवस्था शीघ्रता जे आंगनबाड़ी केंद्रों को उपलब्ध कराई जा सके।

बच्चों के सीखने समझने की क्षमता भी बढ़ेगी
विभाग के जुड़े एक पदाधिकारी ने बताया कि इस किट के आंगनबाड़ी केंद्रों पर उपलब्ध होने के बाद स्कूल पूर्व शिक्षा बच्चों के लिए आसान होगी। बच्चों के सीखने समझने की क्षमता भी बढ़ेगी। मनोरंजक तरीके से वे सब सिख सकेंगे। माना जा रहा जा रहा है कि यह आंगनबाड़ी केंद्रों को प्ले स्कुलो की तर्ज पर विकसित करने की कवायद की जा रही है। यह सब डिजिटल फॉर्म में होगा। बता दें कि इसके पहले भी आंगनबाड़ी केंद्रों में स्कूल पूर्व शिक्षा के लिए खेल खेल में शिक्षा देने की कवायद शुरू हुई थी। हालांकि करीब डेढ़ सालों से कोरोना संक्रमण के चलते आंगनबाड़ी केंद्र बंद चल रहे हैं।

इसके चलते इन केंद्रों से स्कूल पूर्व शिक्षा भी ठप है। बहरहाल दिए जाने पोषाहार व अन्य गतिविधियां डोर टू डोर उपलब्ध कराई जा रही है। विभाग के मिली जानकारी के मुताबिक यह तकनीकी उपकरण उपलब्ध कराने का दायित्व दो एजेंसियों निनिष्मा टेक्नोलॉजी प्राइवेट लिमिटेड व अरोरा मेडी लाइन प्राइवेट लिमिटेड को दी गई है। पटना समेत 13 जिलों में किट आपूर्ति के लिए दायित्व अरोरा मेडी लाइन प्राइवेट लिमिटेड कंपनी को जिम्मेवारी दी गई है। वहीं विनीता टेक्नोलॉजी को कैमूर समेत 26 जिलों को किट आपूर्ति करने का दायित्व दिया गया है।

खबरें और भी हैं...