भोजपुर में 3 जज और 10 न्यायालय कर्मी कोरोना पॉजिटिव:उच्च न्यायालय के आदेश पर सिविल कोर्ट में कराया गया था कोरोना जांच

भोजपुर19 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
प्रतीकात्मक फोटो। - Dainik Bhaskar
प्रतीकात्मक फोटो।

कोरोना ने जिले में बड़े पैमाने पर पांव पसारना शुरू कर दिया है। आज आरा व्यवहार न्यायालय में 3 जज और 10 न्यायालय कर्मी कोरोना संक्रमित पाए गए है। उच्च न्यायालय के आदेश पर आरा सिविल कोर्ट में सभी न्यायधीश और न्यायालय कर्मियों का कोरोना जांच किया गया। जहां आरा सिविल कोर्ट में स्वास्थ्य विभाग द्वारा किए गए कोरोना जांच में सभी न्यायिक पदाधिकारी और न्यायालय कर्मी ने अपना जांच करवाया। जिसमें 3 न्यायधीश (जज) और 10 न्यायालय कर्मी कोरोना संक्रमित पाए गए। सभी संक्रमितों को होम क्वॉरेंटाइन में रहने का आदेश दिया गया।

अपर जिला एवं सत्र न्यायाधीश रंजीत कुमार ने बताया कि यह कोरोना जांच व्यवहार न्यायालय, आरा के साथ-साथ पीरो एवं जगदीशपुर अनुमंडल व्यवहार न्यायालय के सभी न्यायिक पदाधिकारी और सभी न्यायालय कर्मियों की जांच की गई। उन्होंने बताया कि कोरोना महामारी की तीसरी लहर को देखते हुए जारी गाइडलाइंस का पूरी तरह पालन किया जा रहा है। यह कोरोना जांच सभी के लिए सुरक्षा हेतु आवश्यक था। सभी जांच रिपोर्ट माननीय निरीक्षी न्यायाधीश, उच्च न्यायालय,पटना को भेजी जानी है ।

वहीं, जिले में कोरोना संक्रमितों की संख्या अब तक 67 हो गयी है। जिलाधिकारी द्वारा बढ़ते कोरोना के संक्रमण के तीव्र गति से फैलाव को देखते हुए पर्याप्त संख्या में आवश्यक दवाइयां की उपलब्धता, फ्लो मीटर,ऑक्सीजन,मास्क, कांस्ट्रेटर एवं अन्य चिकित्सीय उपकरण की व्यवस्था सुनिश्चित कराने का निर्देश दिया गया है। एंटीजन किट से जांच में कोरोना पॉजिटिव आने के बाद दुबारा आरटीपीसीआर से जांच नहीं कराई जायेगी। गुरुवार को मुख्य सचिव ने वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग में इस संबंध में निर्देश दिया है।