पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

आरा नगर निगम में कमीशनखोरी की कहानी:JE बोला- यहां ऊपर से नीचे तक सबका रेट फिक्स है, बिना 15% दिए रिलीज नहीं होता है टेंडर का पैसा

आरा4 महीने पहले
आरा नगर निगम के प्रभारी जूनियर इंजीनियर रमेश शर्मा। (फाइल फोटो)

बिहार में भ्रष्टाचार चरम पर है। बिना पैसा दिए कोई काम नहीं होता है, यह आरोप लोगों के साथ-साथ विपक्ष भी समय-समय पर लगाता रहता है। अब सुशासन व्यवस्था की पोल खोलने वाला आरा से एक वीडियो सामने आया है, जिसमें भ्रष्टाचार की रेट लिस्ट बताई जा रही है और बिना पैसा दिए काम करने से रोका जा रहा है।

इस वीडियो में आरा में एक जूनियर इंजीनियर की कमीशनखोरी का काला चिट्‌ठा है। मत्स्य विभाग और आरा नगर निगम के प्रभारी जूनियर इंजीनियर रमेश शर्मा नगर निगम के ठेकेदार मुकेश कुमार सिंह से 60 हजार रुपए कमीशन देने की डिमांड कर रहा है। JE अपने कमीशन के साथ-साथ नगर आयुक्त और नगर निगम के कई अधिकारियों की हिस्सेदारी की भी बात कर रहा है।

वीडियो में JE रमेश शर्मा और ठेकेदार ये बातचीत करते सुने जा रहे हैं कि 'नगर आयुक्त का 3 परसेंट, मेयर का 3 परसेंट, जूनियर इंजीनियर का 6 परसेंट, डिप्टी मेयर और ऑफिस का 3 परसेंट यानी काम कराने के लिए कुल 15 परसेंट कमीशन देना होगा।' इसके बाद ठेकेदार कहता कि फिलहाल वह 9 परसेंट ही देगा। लेकिन, JE 10 परसेंट कमीशन देने की बात कह रहा है।

ठेकेदार बोला- बहन की शादी के कारण पैसे देने में असमर्थ

इसके बाद ठेकेदार कहता कि कि उसकी बहन की शादी है। इसलिए वह पैसे देने में असमर्थ है। ठेकेदार JE को ये भी कह रहा है कि आप मुझे मौखिक रूप से वादा कीजिए कि पैसे लेकर आप मेरा काम कर देंगे। बाद में किसी के अड़चन का बहाना नहीं बनाएंगे कि नगर आयुक्त ने रोक दिया या किसी ने रोक दिया। वीडियो में दोनों सोमवार के दिन लेन-देन की डील तय करते हैं।

अपने साथ-साथ अधिकारियों के लिए भी कमीशन मांगता है

वीडियो वायरल होने के बाद नगर निगम के ठेकेदार मुकेश कुमार सिंह ने बताया कि ये लोग आरा नगर निगम का टेंडर निकलने पर ठेका लेकर काम कराते हैं। काम पूरा हो जाने के बाद जब ये पैसा रिलीज कराने जाते हैं तो निगम के जूनियर इंजीनियर रमेश शर्मा कमीशन मांगता हैं। आरोप है कि JE अपने कमीशन के साथ-साथ अधिकारियों के हिस्से का भी कमीशन मांगता है।

काम पूरे होने के 6 महीना के बाद भी नहीं मिला ठेकेदार को पैसा

ठेकेदार मुकेश कुमार सिंह ने बताया कि इस तरीके से JE और अफसरों को कमीशन भरने पर काम कराना संभव नहीं हो पाता है। मुकेश का कहना है कि 3 लाख रुपये के काम में JE 60 हजार रुपए कमीशन मांग रहे हैं। अगर 20 परसेंट कमीशन ही भर देंगे तो काम कैसे पूरा होगा। ठेकेदार ने कहा कि पूरा काम कराने पर उन्हें 10 परसेंट यानी कि 3 लाख के काम में 30 हजार रुपये बचता है।

मुकेश का कहना है कि आरा के वार्ड नंबर 24 में नाली और गली का काम कराने के लिए उसने ठेका लिया था। काम पूरा करने के बाद पैसे के लिए वह 6 महीने से नगर निगम का चक्कर काट रहा है। 6 महीने बीत जाने के बावजूद जूनियर इंजीनियर MV का कार्य नहीं कर रहा है।

JE बोला- मुझे फंसाया जा रहा है

मामले पर JE रमेश शर्मा ने कहा कि मुझे साजिश के तहत फंसाया जा रहा है। मुझे कुछ भी नहीं कहना है। मेरे ऊपर लगाए जा रहे सारे आरोप बेबुनियाद हैं। वहीं, DM रौशन कुशवाहा ने कहा कि इस मामले में कुछ भी नहीं पता है। वीडियो के आधार पर जांच की जाएगी, जांच रिपोर्ट आने बाद ही कार्रवाई की जाएगी।

खबरें और भी हैं...