सड़क हादसे में ससुर, दामाद और नाती की मौत:भोजपुर में बोलेरो-ऑटो में सीधी भिड़ंत, ऑटो पर सवार मां-बेटी और ड्राइवर सहित 6 घायल

भोजपुरएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
आरा-मोहनिया हाईवे को आक्रोशित लोगों ने किया जाम। - Dainik Bhaskar
आरा-मोहनिया हाईवे को आक्रोशित लोगों ने किया जाम।

आरा-मोहनिया नेशनल हाईवे पर मंगलवार सुबह बोलेरो और ऑटो में सीधी भिड़ंत हो गई। हादसे में ऑटो पर सवार ससुर, दामाद और नाती की घटनास्थल पर ही मौत हो गई। जबकि, मां-बेटी और ऑटो चालक समेत 6 लोग घायल हो गए। घटना के बाद बोलेरो चालक गाड़ी छोड़ फरार हो गया। हादसा जगदीशपुर थाना क्षेत्र के कितापुर गांव के पास हुआ। घायलों का इलाज आरा सदर अस्पताल में चल रहा है।

इधर, घटना के बाद स्थानीय ग्रामीणों का आक्रोश भड़क उठा। आरा- मोहनिया नेशनल हाईवे को बभनियांव गांव के पास जाम कर दिया। गांव वाले तीनों शव को सड़क के बीचों-बीच रखकर बोलेरो चालक की गिरफ्तारी और उचित मुआवजा देने की मांग कर रहे हैं। सड़क जाम होने के कारण वाहनों की लंबी कतारें लग गई है। आवागमन पूरी तरह ठप है। इधर, घटना की सूचना मिलते ही जगदीशपुर थानाध्यक्ष संजीव कुमार अपने दलबल के साथ घटनास्थल पर पहुंचे और लोगों को समझाने बुझाने में जुट गए।

हादसे में क्षतिग्रस्त ऑटो।
हादसे में क्षतिग्रस्त ऑटो।

मृतकों में जगदीशपुर थाना क्षेत्र के बभनियांव गांव निवासी स्व.नगीना भगत के पुत्र हीरालाल भगत, रोहतास जिला के बिक्रमगंज थाना क्षेत्र के घुसियां गांव के ललन भगत (हीरालाल का दामाद) और उनके 5 वर्षीय पुत्र पुरुषोत्तम कुमार शामिल है।

वहीं, घायलों में रोहतास जिले के बिक्रमगंज थाना क्षेत्र के घुसियां गांव निवासी और मृतक ललन भगत की पत्नी पूनम देवी, 11 वर्षीय पुत्री पम्मी कुमारी, जगदीशपुर थाना क्षेत्र के बभनियांव गांव निवासी ऑटो चालक महेंद्र राम का पुत्र रविंदर राम, पटना जिले के खगौल थाना क्षेत्र के दानापुर लखनी बीगहा गांव निवासी तेतरी देवी, उसकी पुत्री नैना कुमारी एवं देवर पंकज कुमार शामिल हैं।

लौट रहे थे घर

घायल तेतरी देवी ने बताया, 'एक सप्ताह पूर्व अपनी बेटी नैना कुमारी और देवर पंकज कुमार के साथ जगदीशपुर थाना क्षेत्र के बभनियांव गांव मायके आई थी। ललन भगत अपनी पत्नी पूनम देवी, पुत्री पम्मी कुमारी और पुत्र पुरुषोत्तम कुमार के साथ बीते माह की 19 तारीख को अपने साले पप्पू कुमार की शादी में अपने ससुराल बभनियांव गांव आए थे। आज सुबह सभी लोग ऑटो रिजर्व कर अपने घर लौट रहे थे। उसी दौरान कितापुर गांव के समीप विपरीत दिशा से आ रही बोलेरो से सीधी भिड़ंत हो गई।'

हादसे में हीरालाल भगत,दामाद ललन भगत एवं नाती पुरुषोत्तम कुमार की घटनास्थल पर ही मौत हो गई। मृतक ललन भगत कुछ वर्षों से अपने पूरे परिवार के साथ अहमदाबाद में रहकर प्राइवेट कंपनी में जॉब करते थे।

ग्रामीणों ने आरा- मोहनिया नेशनल हाईवे पर तीनों शव को सड़क के बीचों-बीच रख जाम कर दिया।
ग्रामीणों ने आरा- मोहनिया नेशनल हाईवे पर तीनों शव को सड़क के बीचों-बीच रख जाम कर दिया।