दुर्घटना:छुट्टी पर आ रहे सीआरपीएफ जवान के ऑटो में हाइवा ने मारी ठोकर, हुई मौत

बिदुपुर20 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
रोते-बिलखते परिजन। - Dainik Bhaskar
रोते-बिलखते परिजन।
  • छत्तीसगढ़ से झारखंड ट्रांसफर होने के बाद जवान दस दिनों की छुट्टी पर आ रहा था घर

हाजीपुर-जन्दाहा एनएच पर रहिमापुर चौक के पास शुक्रवार की सुबह हाइवा की ठोकर से ऑटो कर घर लौट रहे सीआरपीएफ जवान की मौत हो गई। घटना के बाद गंभीर हालत में जवान को इलाज के लिए सदर अस्पताल लाया गया था, जहां इलाज के क्रम में उसे मृत घोषित किया गया। हाइवा की ठोकर उस टेम्पो का ड्राइवर व एक अन्य भी जख्मी हुए हैं। हादसे की सूचना मृतक जवान के मोबाइल नम्बर से ही घटनास्थल पर उपस्थित किसी ने परिजनों को दी थी। उसके बाद घर में कोहराम मचा हुआ है। भागे भागे घरवाले सदर हाजीपुर पहुंचे। बताया बिदुपुर थाने के खोखसा गांव के दिनेश रजक का पुत्र रविभूषण कुमार जो सीआरपीएफ रैंक CT/GD 175324469 छत्तीसगढ़ में पोस्टेड था। वहां से पोस्टिंग झारखण्ड किये जाने के बाद 10 दिनों की छुट्टी मिलने पर घर आ रहा था।

विस्फोट जैसी तेज आवाज होने पर लोग घटनास्थल की ओर दौड़े

शुक्रवार की सुबह वह हाजीपुर जंक्शन पर ट्रेन से उतरा। उसने ऑटो रिजर्व की और घर लौट रहा था। जब रहिमापुर चौक पर टेम्पो पहुंची ही थी कि अनियंत्रित गति से जा रही हाइवा ने जबरदस्त ठोकर मारकर टेम्पो को उड़ा दिया। जिसके चलते सड़क से कई फीट नीचे टेम्पू जा गिरा। कड़ाके की ठंड की वजह से इक्के दुक्के लोग ही चौक पर थे। विस्फोट जैसी आवाज होने पर लोग घटनास्थल की ओर दौड़े। शोर मच जाने पर अन्य लोग भी जुटे। स्थानीय लोगों ने टेम्पो में फंस गए जवान को किसी तरह निकाला। सभी को सदर भेज दिया। स्थानीय लोगों के मुताबिक चालक, सीआरपीएफ जवान के साथ एक अन्य व्यक्ति टेम्पु पर था जो दुर्घटना में घायल था।

सही सलामत घर भी नहीं पहुंच पाया जवान
देश व सीमा की हिफाजत करने वाला जवान खुद की। हिफाजत नहीं कर पाया। दस दिनों तक परिवार, गांव में रहने की खुशी के साथ वह घर लौट रहा था। ग्रामीणों ने बताया कि छत्तीसगढ़ से निकट झारखंड में पोस्टिंग मिलने से रवि के साथ घरवाले भी खुश थे। उन्हें क्या पता था कि मौत उनका पीछा करते आ रहा है जो घरवालों को उसका मुंह तक नहीं देखने देगा। इस हादसे के कारण घर सहित गांव में कोहराम मचा है। परिवार में मृतक रविभूषण के पिता, माता का रो-रोकर बुरा हाल है। उसका बड़ा भाई शशि कुमार जो झारखण्ड में ही किसी प्राइवेट कम्पनी में कार्यरत है। उनके पहुंचने की लोग प्रतीक्षा करते पाए गए। वहीं थाना के प्रभारी थानाध्यक्ष परशुराम सिंह ने बताया है कि सदर हाजीपुर अस्पताल में मृतक के परिजन का फर्द बयान लिया गया है। आगे की कार्यवाही की जा रही है।

खबरें और भी हैं...