पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

अच्छी खबर:सदर अस्पताल में 45+ के लिए 24 घंटे टीकाकरण की सुविधा जल्द

बिहारशरीफ18 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
वैक्सीन देती स्वास्थ्य कर्मी। - Dainik Bhaskar
वैक्सीन देती स्वास्थ्य कर्मी।
  • वैक्सीन उपलब्ध हुआ तो 18+ को भी टीका लगेगा

जिले के 45 वर्ष व उससे अधिक उम्र के लोगों के लिए अच्छी खबर है। अब उन्हें टीका लेने के लिए निर्धारित समय का इन्तजार नहीं करना होगा। अब जिले में 24 घंटे साताें दिन टीकाकरण की सुविधा देने की तैयारी की जा रही है। सदर अस्पताल में यह सुविधा शुरू होगी। जहां 45 वर्ष व उससे अधिक उम्र के लाभुक किसी भी समय जाकर टीका लगवा सकेंगे। इस सम्बंध में राज्य स्वास्थ्य समिति के कार्यपालक निदेशक मनोज कुमार, कार्यपालक निदेशक ने डीएम व सीएस को एक पत्र भी भेजा है। जिसके अनुसार जल्द ही तैयारी शुरू कर दी जायेगी। कार्यपालक निदेशक ने कहा है कि जिले में ऐसे केंद्र बनाया जाये जहां पर 24 घंटे साताें दिन टीकाकरण की सुविधा हो। इसके लिए जिला मुख्यालय में सदर अस्पताल में विशेष सत्र का आयोजन किया जाये। यह निर्णय कोविड-19 टीकाकरण के वृहत्त लक्ष्य को देखते हुए लिया गया है।

केयर इंडिया के अधिकारी भी टीकाकरण में करेंगे सहयोग
पत्र के अनुसार जिले के 45+ के लाभार्थियों को कोविड-19 टीकाकरण के लिए सत्र आयोजन के लिए पूर्व में जारी दिशा-निर्देशों का ही पालन किया जाना है। साथ ही, आगामी दिनों में टीके की उपलब्धता सुनिश्चित होने पर 18 वर्ष से लेकर 44 वर्ष तक के लाभार्थियों के लिए भी इस प्रकार के सत्र का आयोजन किया जायेगा। वहीं, सदर अस्पताल में एडवर्स इवेन्ट फॉलोइंग इम्यूनाइजेशन (एईएफआई) किट के साथ-साथ एक चिकित्सक की प्रतिनियुक्ति अनिवार्य रूप से करनी है। सत्र संचालन के लिए आवश्यकता के अनुसार केयर इंडिया का भी सहयोग लिया जाएगा।

प्रचार प्रसार का निर्देश
टीकाकरण सत्र के संचालन के संबंध में लोगों को जानकारी हो सके। इसके लिए व्यापक स्तर पर प्रचार-प्रसार करने जो कहा गया है। ताकि अधिक से अधिक लाभार्थी इस सुविधा का लाभ उठा सकें । सत्र के संचालन के दौरान लाभार्थियों को किसी प्रकार की कोई परेशानी न हो इसके लिए पूरी तैयारी रहेगी। जिस स्थान पर लाभार्थियों के लिए टीकाकरण की सुविधा होगी, वहां साफ-सफाई की मुकम्मल व्यवस्था रखी जायेगी। पीने का पानी, बैठने की व्यवस्था, सत्र स्थल पर सैनिटाइजर व साबुन आदि की पूर्ण व्यवस्था रखनी होगी। सबसे जरूरी इस बात का ध्यान रखाना होगा की किसी भी हाल में टीके की बर्बादी नही हो।

खबरें और भी हैं...