पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

तैयारी:घर में ही घाट बनाकर अर्घ्य देने की अपील घाट पर नहीं जा पाएंगे 60 वर्ष के बुजुर्ग

बिहारशरीफ12 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
  • चार दिनों के आस्था का महाअनुष्ठान छठ नहाय-खाय के साथ शुरू
  • आज खरना के बाद शुरू होगा 36 घंटे का निर्जला उपवास

कोरोना संक्रमण की आशंका के साये में सूर्योपासना का महापर्व छठ बुधवार को नहाय-खाय के साथ शुरू हो गया। नहाय-खाय को लेकर तड़के सुबह ही छठ व्रतियों ने आसपास के नदी-तालाबों और पवित्र जल के अन्य स्रोतों में स्नान कर भगवान भास्कर की पूजा अर्चना कर चार दिवसीय महाव्रत की शुरुआत की। पूजा-अर्चना के बाद छठ व्रत वाले घरों में प्रसाद बनाने का क्रम शुरू हो गया।

छठी मईया के गीत के बीच व्रतियों ने प्रसाद बनाये। इसके बाद भगवान भास्कर की पूजा अर्चना कर प्रसाद के रूप में अरवा चावल, चना का दाल, दाल-कद्दू, आकाश के फूल का बजका, साग, सब्जी आदि का प्रसाद ग्रहण किया। दोपहर बाद तक प्रसाद खाने-खिलाने का कार्यक्रम चलता रहा। खासकर वैसे लोगों को विशेष रूप से आमंत्रित कर प्रसाद खिलाया गया जिनके घरों में छठ व्रत नहीं होता है। हालांकि इस बार 60 वर्ष से ऊपर के लोगों को घाट जाने की मनाही है।
भक्तिभाव में डूबे लोग
नहाय-खाय के साथ ही वातावरण पूरी तरह भक्तिमय हो गया है। अधिकांश घरों से छठ से संबंधित भक्ति गीतों की मधुर आवाज सुनाई पड़ने लगी है और लोग पूजा की तैयारी में जुटे हैं। यात्री वाहनों पर भी छठ के ही गीत बज रहे हैं। बाजार में चहल-पहल काफी बढ़ी हुई है। चारों ओर सिर्फ छठ की ही चर्चा है। घर से घाट तक लोग छठ की तैयारियों में जुटे हुए हैं।

आज मनेगा लोहंडा, खीर-रोटी का लगेगा भोग

गुरुवार को खरना यानी लोहंडा मनेगा। व्रती व प्रसाद बनाने में सहयोग करने वाले पूरे दिन उपवास पर रहकर अरवा चावल का भात, पिट्ठा, चना, दाल, खीर, रसिया, रोटी, दूध, मीठा आदि का प्रसाद तैयार करेंगे। व्रती संध्या को खरना कर अपना उपवास तोड़ेंगे और श्रद्धालुओं को भी प्रसाद खिलाया जायेगा। लोहंडा को लेकर बुधवार को व्रती सारा दिन चावल, दाल आदि अनाज साफ करने में जुटे रहे।

आज भी वैसे लोगों को विशेष रूप से आमंत्रित कर लोहंडा का प्रसाद खिलाया जायेगा जिनके घर में छठ व्रत नहीं होता है। बता दें कि लोहंडा का प्रसाद के रूप में भात, चना का दाल मिट्टी या पीतल के वर्तन में आम के लकड़ी की आग पर पूरी पवित्रता के साथ बनाते हैं। पूरी सादगी, शुद्धता और किसी भी तरह के तेल-मसाले का उपयोग नहीं किये जाने के बावजूद स्वादिष्ट प्रसाद बनता है।

सड़कों की साफ-सफाई की जाने लगी

छठ शुरू होते ही सड़क की सफाई होने लगी लगा है। प्रशासन के साथ-साथ स्थानीय लोग भी सड़कों की साफ-सफाई और सजावट व रोशनी की व्यवस्था करने में जुट गये हैं। निगम के कर्मियों को भी सफाई में झोंक दिया गया है जो स्थानीय लोगों को सहयोग कर रहे हैं। छठ के दिन तक शहर सहित जिले के सभी घाट की ओर जाने वाले रास्ते पूरी तरह साफ कर दिये जायेंगे।

हालांकि कोरोना संक्रमण को लेकर इस बार प्रशासन द्वारा लोगों से अपने अपने घर पर ही छठ करने की अपील की गई है। बावजूद इसके जो लोग घाट पर अर्घ्य देंगे उनकी सुविधा को लेकर सड़क से घाट तक साफ सफाई सहित सभी जरूरी व्यवस्थाएं की जा रही है। इस दौरान ख्याल रखा जा रहा है कि छठव्रितयों को किसी तरह की कोई परेशानी नहीं हो और वे सही तरीके से आस्था के महापर्व छठ का त्यौहार मनाएं।

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- इस समय ग्रह स्थितियां पूर्णतः अनुकूल है। सम्मानजनक स्थितियां बनेंगी। आप अपनी किसी कमजोरी पर विजय भी हासिल करने में सक्षम रहेंगे। विद्यार्थियों को कैरियर संबंधी किसी समस्या का समाधान मिलने से ...

और पढ़ें