पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

सर्वे में खुलासा:सर्वे का 85 प्रतिशत काम पूरा, आधे से ज्यादा प्लॉट खेती करने के लायक नहीं

बिहारशरीफ13 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
खेत की सिंचाई के लिए जुगाड़ करते किसान
  • सिंचाई व्यवस्था सुदृढ़ करने को हर खेत पानी के तहत हो रहा है प्लॉट का सर्वे
  • 57 प्रतिशत ऐसे प्लॉट है जिसमें मकान, तालाब व अन्य संरचना तैयार हो चुकी

जिले में 57 प्रतिशत प्लॉट गैर कृषि कार्य योग्य, 43 प्रतिशत सिंचित और .48 प्रतिशत असिंचित है। सिंचाई व्यवस्था को सुदृढ़ करने के लिए सरकार द्वारा हर खेत पानी कार्यक्रम के तहत प्लॉट का सर्वे कराया जा रहा है। सर्वे के दौरान सिंचित, असिंचित, कृषि योग्य या कृषि योग्य नहीं रहने वाले प्लॉट की सूची व सिंचाई के लिए कौन सा साधन उपयुक्त हो सकता है। इन तमाम बातों की जानकारी जुटाई जा रही है। सर्वे के क्रम में ही यह तथ्य सामने आया है। हालांकि सॉफ्वेयर में लगातार बदलाव किए जाने के कारण सही डाटा सरकार तक नहीं पहुंच पा रही है। सहायक निदेशक कृषि अभियंत्रण आनंद कुमार ने बताया कि 85 प्रतिशत सर्वे का काम पूरा कर लिया गया है। शेष 15 प्रतिशत कार्य को शीघ्र पूरा करने का निर्देश संबंधित कृषि विभाग के अधिकारियों व कर्मियों को दिया गया है। उन्होंने बताया कि विभाग द्वारा जारी किए गए डाटा के अनुसार जिले में 16 लाख 89 हजार 401 प्लॉट का सर्वे करना है। जिसमें 14 लाख 42 हजार 541 प्लॉट का सर्वे किया जा चुका है। 2 लाख 46 हजार 860 प्लॉट का सर्वे किया जाना है। उन्होंने बताया कि किसानों को सिंचाई की समस्या से निजात दिलाने के लिए यह सरकार की अच्छी पहल है। सर्वे रिपोर्ट के आधार पर सिंचाई संसाधन के लिए कृषि मैप तैयार किया जाएगा ताकि हर खेत तक पानी पहुंच सके।

सरकार को नहीं मिल रहा सही डाटा
विभागीय सूत्रों के मुताबिक सरकार जिस उद्देश्य से सर्वे करा रही है वह सफल नहीं हो रहा है। इसका मुख्य वजह सॉफ्टवेयर में हो रहे बदलाव है। शुरूआती दौर में वैसा जमीन जिसपर कृषि कार्य नहीं हो रहा है उसका सर्वे के लिए डाटा उपयुक्त नहीं है का ऑप्शन दिया गया था। जिसके कारण सर्वे करने वाले कर्मियों द्वारा कई प्लॉट का डाटा अपलोड नहीं किया जा सका। इसके बाद इस समस्या में सुधार के लिए दुबारा सर्वे योग्य नहीं/ गैर कृषि कार्य में प्रयुक्त का ऑप्शन दिया गया। पूर्व में दिए गए ऑप्शन के कारण एरिया और प्लॉट का सही डाटा तैयार नहीं हो पाया । इसके अलावा नक्शा नहीं मिलना भी एक बड़ी समस्या है। सर्वे के दौरान नक्शा नहीं उपलब्ध कराए जाने के कारण गांव से मिलने वाले पुराने नक्शा से ही सर्वे करना और कर्मचारियों का सहयोग नहीं मिलने के कारण भी सही डाटा तैयार करने में परेशानी हुई।

खेती में उत्पादन का रिकार्ड बनाने वाले जिले का हाल
कृषि के क्षेत्र में रिकार्ड बनाने वाले नालंदा में अाधा से ज्यादा प्लॉट कृषि योग्य भूमि नहीं है। विभागीय जानकारी के मुताबिक अब तक 14 लाख 42 हजार 541 प्लॉट का सर्वे किया गया है। जिसमें 6 लाख 15 हजार 517 प्लॉट सिंचित, 6985 प्लॉट असिंचित और 8 लाख 20 हजार 39 प्लॉट कृषि योग्य नहीं है। इन प्लाॅटो पर गैर कृषि योग्य कार्य किया जा चुका है। ऐसा कहा जा सकता है कि 57 प्रतिशत ऐसे प्लॉट है जिसमें मकान, तालाब व अन्य संरचना तैयार की जा चुकी है।

बंद कर दिया गया संसाधन
बारिश के मौसम में किसानों को आहर, नहर, पैन आदि के माध्यम से खेतों तक पानी पहुंचाने के लिए सरकार द्वारा प्रयास तो किया गया लेकिन संवेदकों द्वारा बरती गई लापरवाही के कारण किसान लाभ से वंचित हो रहे हैं। पैन की खुदाई तो की गई लेकिन देख-रेख के आभाव में खेत तक पानी पहुंचने के संसाधन को बंद कर दिया गया। नतीजतन पैन में पानी तो है लेकिन स्रोत बंद रहने के कारण ट्यूबवेल से सिंचाई करने को किसान विवश हैं। उदाहरणस्वरूप गिरियक प्रखंड के ईशुआ गांव में पैन खुदाई के दौरान छोटे-छोटे स्रोत को भर दिया गया। जिसके कारण किसान पानी होते हुए भी दर्जनो एकड़ खेत की सिंचाई ट्यूबवेल से करने को मजबूर हैं। बारिश नहीं होने व खर्च के कारण कई किसानों ने तो अब सिंचाई करना भी बंद कर दिया है।

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- मेष राशि वालों से अनुरोध है कि आज बाहरी गतिविधियों को स्थगित करके घर पर ही अपनी वित्तीय योजनाओं संबंधी कार्यों पर ध्यान केंद्रित रखें। आपके कार्य संपन्न होंगे। घर में भी एक खुशनुमा माहौल बना ...

और पढ़ें