पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

हड़ताल जारी:शहर की सड़कों पर करीब नौ सौ टन कचरा पसरा, पैदल चलना भी मुश्किल, बारिश से स्थिति और बिगड़ी

बिहारशरीफ4 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
कूड़े का उठाव नहीं होने से भरावरपर चौराहा के समीप लगा कचरे का ढेर। - Dainik Bhaskar
कूड़े का उठाव नहीं होने से भरावरपर चौराहा के समीप लगा कचरे का ढेर।
  • कचरों के ढेर पर शहर, सिकुड़ी सड़क की चौड़ाई, कचरे और कीचड़ से फिसल रहे दो पहिया वाहनों के चक्के
  • हड़ताली कर्मियों के विरोध के कारण नगर निगम भी कोई वैकल्पिक व्यवस्था नहीं कर पा रहा है

नगर निगम के सफाई कर्मियों की हड़ताल ने शहर की सूरत बिगाड़ कर रख दी है। शहर कचरों के ढेर पर है। जगह- जगह पर कूड़ा कचरा का अंबार लगा है। गंदगी के कारण लोगों का पैदल चलना भी मुश्किल हो गया है। बारिश ने स्थिति और भी खराब कर दी है। हड़ताली कर्मी छठे दिन भी हड़ताल पर डटे रहे। फिलहाल हड़ताल समाप्त होने की कोई उम्मीद भी नही दिख रही। सफाई कर्मी छठे दिन भी हड़ताल पर डटे रहे। कूड़ा उठाव नहीं होने के कारण शहर के मुहल्लों की गलियों से लेकर मुख्य सड़कों तक पर कचरा का ढेर जमा हो गया है। जमा कुड़ा के कारण शहर की सड़कें भी सिकुड़ने लगी है। अब तो स्थिति यह बन गई है कि 900 टन से भी ज्यादा कचरा सड़कों पर पसर गया है। जिसमें 60 प्रतिशत गीला और 40 प्रतिशत सूखा कचरा है। आने-जाने राहगीरों को नाक बंद कर गुजरना पड़ रहा है। आसपास के घर और दुकान में लोगों का रहना दुश्वार हो गया है। हड़ताली कर्मियों के विरोध के कारण नगर निगम भी कोई वैकल्पिक व्यवस्था नहीं कर पा रही है।

वन लेन बनी सड़कें
कई जगहों पर तो सड़कें टू लेन से वन लेन बन गई है। एक लेन पर कचरा पसरा है। डोर टू डोर कचरा कलेक्शन नहीं होने के कारण लोग अपने घरों में ही कचरा जमा कर रहे थे। लेकिन 2-3 दिनों के बाद लोग हिम्मत हार गए, नतीजतन जहां-तहां कचरा फेंकने को मजबूर हैं। इधर बारिश होने के कारण दुर्गंध तेजी से फैलने लगा है। पहले सिर्फ राहगीरों को ही परेशानी हो रही थी लेकिन अब आस-पास के लोगो को घर के अंदर भी नाक बंद कर रहना पड़ रहा है। दुर्गंध से बचने के लिए लोग घर में सुगंधित धूप जला रहे हैं।

सरकारी कार्यालयों व स्कूली बच्चों को हो रही परेशानी
शहर के विभिन्न चौक चौराहों व गलियों के साथ-साथ कुछ सरकारी कार्यालयों व स्कूलों के समीप भी कचरा जमा हो जाने के कारण अधिकारियो के साथ-साथ स्कूली बच्चों को भी परेशानी हो रही है। अनुमंडल कार्यालय, जिला परिषद, मॉडल मध्य विद्यालय, प्रधान डाकघर,गुफापर शहरी स्वस्थ्यकेन्द्र के समीप आदि जगहों पर कचरा का अंबार लग गया है। नगर निगम द्वारा निजी स्तर से कचरा साफ कराने का प्रयास भी किया गया था लेकिन हड़ताल कर्मियों ने उसे रोक दिया।

आवारा पशु व गाड़ी के टायर से फैल रहा कचरा
सड़कों पर जमा कचरा गाड़ी की टायर के सहारे व आवारा पशुओं द्वारा फैलाया जा रहा है। वहीं कबाड़ी का समान चुनने वाले बच्चे भी इस कचरे में अपना भविष्य तलाशने के चक्कर में भी कचरा इधर-उधर फैला रहे है। जिन कुड़ा प्वाइंट से प्रति दिन 50 गाड़ियों के माध्यम से कचरा का उठाव होता था, आज वह सभी गाड़ी को निगम में खड़ा कर दिया गया है।

नाले का कीचड़ भी रोड पर : शनिवार और रविवार को हुई बारिश से स्थिति और भी बद्तर हो गई है। नाले का कीचड़ भी सड़क पर आ गया है। कीचड़ के कारण सड़क पर फिसलन हो गई है। दोपहिया वाहनों के चक्के सड़क पर स्लिप कर रहे हैं। कूड़ा भी पानी के साथ बहकर सड़क पर पसर गया है।
महामारी की आशंका
भीषण गर्मी और बारिश के बीच कचरों का अंबार से निकल रह सड़ांध भरी गंध के कारण लोगो को अब संक्रामक बीमारी फैलने का भय सताने लगा है। लोग नगर निगम से कोई वैकल्पिक व्यवस्था करने की मांग कर रहे हैं।

खबरें और भी हैं...