शारदीय नवरात्रि:पुलपर 40 फीट ऊंची मंदिर में विराजमान होंगी बड़ी दुर्गा

बिहारशरीफ10 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
  • 150 वर्ष पूरा होने पर होगी विशेष सजावट, कोरोना गाइडलाइन का भी इस बार विशेष रूप से रखा जाएगा ख्याल

कोरोना के कारण प्रभावित हुई अर्थ व्यवस्था का असर पूजा समितियों की तैयारियों पर भी दिख रहा है। पूजा पंडालों के बजट में कटौती कर दी गई है। हालांकि कम बजट में भी पूजा पंडालों को आकर्षक लूक देने का प्रयास किया जा रहा है। जगह कम रहने के बावजूद आकर्षक पंडाल बनाने के लिए प्रसिद्ध बड़ी दुर्गा पूजा समिति पुलपर द्वारा इस बार भी आकर्षक एवं भव्य पंडाल तैयार कराया जा रहा है। इस बार देश विदेश के किसी मंदिर या ऐतिहासिक इमारत का प्रारूप नही बल्कि कल्पना के आधार पर मन्दिर बनवाया जा रहा है। जिसमें बड़ी दुर्गा में विराजमान होंगी। कोरोना एवं देर से आदेश मिलने के कारण कोई विशेष तैयारी नहीं की गई है। साथ ही आर्थिक समस्या के कारण बजट में भी कटौती की गई है। पूजा समिति के अध्यक्ष कंचन कुमार ने कहा कि इस वार काल्पनिक मंदिर का निर्माण किया जा रहा है। बंगाल आर्ट के तर्ज पर स्थानीय कारीगर द्वारा प्रतिमा तैयार किया जा रहा है। वहीं पंडाल का निर्माण के लिए बंगाल से कारीगर बुलाए गए हैं। पंडाल निर्माण के लिए करीब 10 कारीगर माह भर से भी अधिक समय से दिन रात काम कर रहे हैं। कोरोना गाइडलाइन का पालन हो इसके लिए रास्ता को चौड़ा किया गया है। अध्यक्ष ने बताया कि पहले भव्य पंडाल रहने के कारण 10 फीट का रास्ता रहता था लेकिन इस बार करीब 15 फीट रास्ता छोड़ा गया है। साथ ही वॉलंटियर की संख्या भी बढ़ा दी गई है ताकि लोगों को एक जगह जमा होने नहीं दिया जा सके। मेला के दौरान माइक से भी लोगों जागरूक किया जाएगा।

बजट में भी कटौती
अध्यक्ष ने बताया कि कोरोना के कारण आर्थिक समस्या का मार हर किसी को झेलना पड़ा है। इस कारण बजट में भी कटौती की गई है। 2019 में मूर्ति एवं पंडाल निर्माण पर करीब 21 लाख खर्च किया गया था। वहीं 2020 में प्रतिमा स्थापित कर सिर्फ परम्परा को निर्वहन किया गया था। जिसमें मात्र 2.50 लाख खर्च किए गए थे। इस वर्ष पंडाल का निर्माण कराया जा रहा है लेकिन पहले की तरह भव्य नहीं होगा। मात्र 40 फीट उंची काल्पनिक मंदिर का निर्माण कराया जा रहा है जिसमें करीब 7-8 लाख खर्च होने की संभावना है।

150 वर्ष पूरे किए : इस वर्ष बड़ी दुर्गापूजा समिति पुलपर ने स्थापना का 150 वर्ष पूरा कर लिया है। मेला के दौरान दर्शकों को आकर्षित करने के लिए पंडाल के साथ-साथ सजावट पर विशेष तैयारी की गई है। पंडाल को आकर्षित बनाने के साथ-साथ लाइटिंग की व्यवस्था भी लोगो को खुब लुभाएगी।
कई ऐतिहासकि स्थलों से कराया गया रूबरू : समिति के अध्यक्ष ने बताया कि पुलपर पूजा समिति द्वारा पंडाल के माध्यम से अब तक ताजमहल, चारमिनार जैसे कई ऐतिहासिक स्थलों के साथ-साथ प्रसिद्ध मंदिर से दर्शकों को रूबरू कराया है। यहां 100 फीट उंचा तक पंडाल का निर्माण कराया गया है।

खबरें और भी हैं...