पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

प्रधानमंत्री स्व निधि योजना:योजना को पलीता लगा रहे बैंक; 240 आवेदनों को देखा तक नहीं, 305 बिना कारण बताए ही रिजेक्ट

बिहारशरीफ20 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
ऑनलाइन आवेदन के लिए खड़े वेंडर - Dainik Bhaskar
ऑनलाइन आवेदन के लिए खड़े वेंडर
  • फुटपाथी दुकानदारों को जोड़ने का प्रयास कर रही सरकार, लेकिन योजना धरातल से दूर

फुटपाथी दुकानदारों को चिन्हित कर प्रधानमंत्री स्व निधि योजना से जोड़ने का प्रयास किया जा रहा है। ताकि बैंक द्वारा लोन देकर वेंडरों की आर्थिक स्थिति में सुधार लाया जा सके। लेकिन बैंकों के उपेक्षापूर्ण रवैये के कारण योजना धरातल पर नहीं उतर रही है। जबकि इस संबंध में डीएम द्वारा भी कई बार बैठक कर सभी बैंक को निर्देश दिया गया है लेकिन कोई सकारात्मक परिणाम सामने नहीं आ रहा है। जितने लोगों ने अब तक इस योजना के लिए आवेदन किया है, उसमें आधे लोगों का ही आवेदन स्वीकृत किया गया है।

उपनगर आयुक्त विनोद कुमार ने बताया कि अब तक 1264 वेंडरों ने ऑनलाइन आवेदन किया है। जिसमें 662 का ही आवेदन स्वीकृत किया गया है। 569 को लोन उपलब्ध करा दिया गया है। लेकिन समस्या है कि ऑनलाइन आवेदन को भी बैंक द्वारा रिजेक्ट किया जा रहा है। जबकि ऑनलाइन आवेदन की प्रक्रिया में जो भी जरूरी होता है उसका कॉलम बना होता है। अगर गलत रिपोर्ट भरा जाता है तो कम्प्यूटर ही रिजेक्ट कर देता है। लेकिन कम्प्यूटर द्वारा स्वीकृत करने के बाद भी बैंक द्वारा बिना कारण बताए आवेदन को रिजेक्ट किया जा रहा है। इस कारण आवेदकों को योजना का लाभ नहीं मिल रहा है।

57 लोगों को योजना के योग्य नहीं बताया गया
विभागीय रिपोर्ट के मुताबिक 1264 आवेदन में मात्र 662 ही बैंक द्वारा स्वीकृत किया गया है। शेष 602 आवेदन में 305 को बिना कारण बताए रिजेक्ट कर दिया गया है। 57 लोगों को योग्य नहीं बताया गया है। जबकि 240 ऐसे आवेदन है जिसे करीब 6 माह से पोर्टल पर बैंक द्वारा देखा ही नहीं गया है। साफ है कि योजना के प्रति बैंक द्वारा लापरवाही बरती जा रही है।

सर्वर धीमा रहने के कारण हो रही है परेशानी

सिटी मैनेजर विनय रंजन ने बताया कि सर्वर धीमा रहने के कारण भी समस्या हो रही है। नगर निगम क्षेत्र विस्तार के बाद शामिल किए गए सभी क्षेत्र में वेंडरों का सर्वे किया जा रहा है। लेकिन सर्वर की समस्या के कारण रिपोर्ट अपलोड नहीं हो पा रहा है। बीते दो दिनों में करीब 200 वेंडरों का सर्वे किया गया है । लेकिन अभी तक मात्र 80 का रिपोर्ट ही अपलोड हो पाया है। इसके अलावा स्व निधि योजना के लिए आवेदन करने में भी समस्या हो रही है। सोमवार को स्थिति ऐसी बन गई की एक आवेदन को ऑनलाइनकरने में करीब 2 घंटा लग गया फिर भी नहीं हो पाया।

कैसे मिलेगा लाभ

  • बैंक बरत रहे हैं लापरवाही, ऑनलाइन आवेदन को भी बिना कारण बताए किया जा रहा रिजेक्ट
  • 1264 वेंडरों ने ऑनलाइन आवेदन किया है, जिसमें 662 का ही आवेदन स्वीकृत किया गया है, 569 को लोन

उपनगर आयुक्त बोले- पूछा जा रहा कारण, कराया जाएगा सुधार

उपनगर आयुक्त ने कहा कि इसके लिए बैंक से लगातार संपर्क किया जा रहा है। ताकि जो लोग पहले आवेदन कर चुके हैं उन्हें योजना का लाभ दिया जा सके। इस योजना के तहत जिन लोगों का आवेदन रिजेक्ट किया गया है। उसका भी कारण पूछा जा रहा है। ताकि सुधार कर फिर से आवेदन कराया जा सके। इस मामले पर नजर है। आगे की कार्यवाही की जा रही है।

खबरें और भी हैं...