पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

मिलेगी उपलब्धि:सेंटर ऑफ एक्सीलेंस की राष्ट्रीयस्तर पर होगी पहचान

बिहारशरीफ11 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
एक्सीलेंस फॉर वेजिटेबल सेंटर का निरीक्षण करते केन्द्रीय टीम। - Dainik Bhaskar
एक्सीलेंस फॉर वेजिटेबल सेंटर का निरीक्षण करते केन्द्रीय टीम।
  • निबंधन के लिए आवेदन देने के एक साल बाद पहुंची केंद्रीय टीम, कोरोना के कारण हुई देर

इंडो-इजरायल प्रोजेक्ट के तहत चंडी में स्थापित सेंटर ऑफ एक्सिलेंस फॉर वेजिटेबल को अब जल्द ही राष्ट्रीय स्तर पर पहचान मिलेगी। इसके लिए रेटिंग की प्रक्रिया शुरू कर दी गई है। सोमवार को राष्ट्रीय बागवानी बोर्ड के प्रतिनिधि डॉ. इन्द्रमोहन वर्मा एवं उप निदेशक डीके पाल निरीक्षण करने सेंटर ऑफ एक्सिलेंस फॉर वेजिटेबल पहुंचे। उन्होंने नर्सरी डेवलप करने कब तरीके, क्षेत्रफल, गुणवत्ता, प्रयोग किये जाने वाले बीज, पौधा का उत्पादन आदि का निरीक्षण किया और काफी प्रभावित हुए। डॉ. वर्मा ने कहा कि सेंटर ऑफ एक्सिलेंस फॉर वेजिटेबल काफी बेहतर तरीके से सजाया गया है। यहां पौधा तैयार करने में भी बीज की गुणवत्ता का काफी ध्यान रखा जाता है। इस नर्सरी से राज्य के किसानों को काफी लाभ मिलेगा। यहां जो भी देखा गया है उसकी रिपोर्ट राष्ट्रीय बागवानी बोर्ड को सौंपी जाएगी। इसके बाद ही इसकी रेटिंग होगी। इस मौके पर केवीके हरनौत के कृषि वैज्ञानिक डॉ. विभा रानी, सहायक निदेशक रसायन संदीप राज, सीओई रोहिताश्व रॉय आदि उपस्थित थे।
राष्ट्रीय स्तर पर बनेगी पहचान
सेंटर के परियोजना पदाधिकारी डॉ. अभय कुमार गौरव ने बताया कि अब इसकी पहचान राष्ट्रीय स्तर पर बनाने की तैयारी चल रही है। निबंधन के लिए एक साल पूर्व ऑनलाइन आवेदन किया गया था लेकिन कोरोना के कारण काम पूरा नहीं हो पाया। पहले नर्सरी का स्टार मार्किंग किया जाएगा। इसी अनुसार नर्सरी का निबंधन होगा। उन्होंने बताया कि तीन तरह का स्टार मार्किंग, स्टार वन, स्टार टू और स्टार थ्री होता है। रेटिंग के आधार पर ही नर्सरी की गुणवत्ता का आकलन किया जाता है। अगर थ्री स्टार मिल जाता है तो राष्ट्रीय स्तर पर इसकी पहचान बनेगी।

देश स्तर पर किसान ले जाएंगे पौधा : परियोजना पदाधिकारी ने बताया कि वर्तमान में सिर्फ बिहार राज्य के ही किसान यहां से पौधा ले जाते हैं। लेकिन रेटिंग हो जाने के बाद सेंटर ऑफ एक्सिलेंस फ़ॉर वेजिटेबल की पहचान देश स्तर पर होगी और देश भर से किसान पौधा लेने के लिए ऑनलाइन आवेदन करेंगे। जांच अधिकारी भी नर्सरी के देख काफी प्रभावित हुए हैं। उम्मीद है कि बेहतर रेटिंग मिलेगी।

खबरें और भी हैं...