पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

मामलों के निष्पादन:राष्ट्रीय लोक अदालत में 305 मामलों का निपटारा करने पर जिले को मिला 7वां रैंक

बिहारशरीफ19 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
  • दावा के 14 मामले में अब तक सर्वाधिक 75 लाख 64 हजार रुपये का सेटलमेंट हुआ

राष्ट्रीय लोक अदालत में मामलों के निष्पादन में जिले को सूबे में सातवां रैंक मिला है। कोरोना काल में भी अधिक मामलों का निष्पादन कर टॉप टेन में जगह बनाना जिले के लिए एक बड़ी उपलब्धि है। जिला विधिक सेवा प्राधिकार के सचिव सह अपर जिला एवं सत्र न्यायाधीश पंचम प्रभाकर झा ने 10 जुलाई को आयोजित राष्ट्रीय लोक अदालत में सुलहनीय विवादों का सुलह के आधार पर किये गये निपटारे के बाद राज्य भर में जिला को सातवां रैंक प्राप्त होने पर खुशी जाहिर की है।

उन्होंने इस सफलता के लिए न्यायिक पदाधिकारियों, कर्मियों, अधिवक्ताओं व मीडिया को सहयोग के लिए आभार व्यक्त किया है। उन्होंने कहा कि सभी के सहयोग व मीडिया के साथ देने से सूचनाएं देना काफी आसान हुआ जो आयोजन की सफलता का मूल मंत्र रहा। उन्होंने कहा कि अल्प समय में सहयोग के लिए अच्छे परिणाम के लिए सभी धन्यवाद के पात्र हैं।

आठ बेंच बने थे : 1 करोड़ 43 लाख का हुआ था सेटलमेंट

मामलों का निष्पादन के लिए 8 न्यायिक बेंच गठित किये गये थे। जिसमें हिलसा अनुमंडल न्यायालय सहित बैंक ऋण के कुल 305 मामलों के निपटारों के साथ 1 करोड़ 43 लाख 99 हजार 102 रूपये का सेटलमेंट हुआ था। दावा के 14 मामले में अब तक सर्वाधिक 75 लाख 64 हजार रुपये का सेटलमेंट हुआ। जबकि पारिवारिक विवाद के 10 मामले सुलझाये गये। कुल मिलाकर अपराधिक, सिविल, विद्युत व अन्य के कुल 368 मामलों का रिकार्ड निपटारा कोर्ट केस के तौर पर हुआ।

22 दिन में ही पक्षकारों को नोटिस समेत अन्य कार्य निपटा कर आयोजन की सफलता की रूप रेखा तय की गई। श्री झा ने कहा कि जिला विधिक सेवा प्राधिकार के अध्यक्ष सह जिला एवं सत्र न्यायाधीश डा. रमेश चंद्र द्विवेदी के मार्गदर्शन की भी महत्वपूर्ण भूमिका रही। समय-समय पर उन्होंने इससे संबंधित निर्देश जारी करते हुए इसकी सफलता के लिए अहम बैठकें की।

सचिव के रूप में श्री झा ने पहली बार कार्य करते हुए शानदार परिणाम प्राप्त किया। अपर जिला एवं सत्र न्यायाधीश पंचम का कार्य करते हुए यह सफलता प्राप्त की। साथ में उन्होंने यह भी ध्यान रखा कि कोई भी कार्य इससे प्रभावित न हो और न ही लंबित रहे।

खबरें और भी हैं...