पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

कोरोना से जंग जारी:कोरोना से विम्स में चार लोगों की मौत, पाॅजिटिव फिर सौ के पार, रोज लिए जाएंगे एक हजार सैंपल

बिहारशरीफ15 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
  • जिले में अब तक 29 लोगों की मौत, 101 नये मरीज मिले, संक्रमितों का आंकड़ा पहुंचा 2250
  • आइसोलेशन सेंटर पर होगी ऑक्सीमीटर की व्यवस्था, सुबह और शाम की जाएगी जांच

कोरोना ने चार और लोगों की जान ले ली। शुक्रवार को विम्स में चार लोगों की कोरोना से मौत हो गयी। शुक्रवार को 101 नये संक्रमित मरीज की पहचान हुई। जिसके बाद जिले में संक्रमितों की संख्या बढ़कर 2250 हो गयी है। संक्रमितों में एक निजी विद्यालय के संचालक, पति-पत्नी, जदयू नेता, डाक्टर और विम्स के कर्मी भी शामिल हैं। वीटीएम और एटीएम जांच में 41 लोग पॉजिटिव मिले।

जिसमें 18 शहरी क्षेत्र के हैं। एंटीजन में 60 लोगों की पॉजिटिव रिपोर्ट आयी है। जिसमें सबसे ज्यादा बिहारशरीफ से 13 और नगरनौसा से 9 लोग शामिल हैं। मरने वालों में दो नालंदा और दो नवादा के मरीज हैं। नालंदा में दो लोगों की मौत के बाद अब तक कोरोना से जान गंवाने वालों की संख्या 29 हो गयी है। एक मृतक शहर के लहेरी मुहल्ला और एक रहुई प्रखंड का निवासी है।
मृतकों में दो नवादा के
मरने वालों में रहुई प्रखंड के 85 वर्षीय केदार प्रसाद हैं। वह लंबे समय से बीमार चल रहे थे। जिन्हें इलाज के लिए पावापुरी मेडिकल कॉलेज अस्पताल में भर्ती कराया गया था। जहां इलाज के दौरान उनकी मौत हो गई। वहीं शहर के लहेरी मुहल्ला निवासी 80 वर्षीय मो. हसन की मौत भी इलाज के दौरान हो गई। विम्स के अधीक्षक डॉ. ज्ञानभूषण ने बताया कि छाती में दर्द की शिकायत थी। गुरुवार को विम्स में भर्ती किया गया था। इस दौरान कोरोना जांच के लिए सैंपल भी लिया गया था जिसमें पॉजिटिव रिपोर्ट आयी है। वहीं नवादा के मरने वाले मरीजों में 85 वर्षीय श्रीचंद प्रसाद और 58 वर्षीय पिंकी देवी की भी मौत कोरोना से हो गई है।
आइसोलेशन सेंटर में अब ऑक्सीजन लेवल की जांच
जिले के आइसोलेशन सेंटर में अभी तक पॉजिटिव मरीजों का आक्सीजन लेवल जांचने के लिए आक्सीमीटर की व्यवस्था नहीं थी। विभाग का अब इस ओर ध्यान गया है। अब मरीजों के मौत की बढ़ती संख्या को देखते हुए सभी आइसोलेशन सेंटर पर आक्सीमीटर की व्यवस्था की जा रही है। सुबह-शाम आइसोलेशन सेंटर में भर्ती मरीजों के ऑक्सीजन लेवल की जांच होगी।

सीएस डॉ. राम सिंह ने बताया कि आईसोलेशन सेंटर में कोरोना के गंभीर मरीजो को नहीं रखा जाता है। जिसके कारण ऑक्सीमीटर की व्यवस्था नहीं थी। अब विभाग द्वारा सभी आईसोलेशन सेंटर पर ऑक्सीजन लेवल मापने के लिए ऑक्सीमीटर उपलब्ध कराने का निर्देश दिया गया है। उन्होंने बताया कि सभी सेंटर पर कम से कम 2-2 मशीन उपलब्ध कराया जाएगा।

वेंटिलेटर के लिए तलाश की जा रही जगह
गंभीर कोरोना मरीजों के इलाज के लिए सदर अस्पताल को वेंटिलेटर उपलब्ध कराया गया है। इसे रखने के लिए उचित स्थान नहीं है। पहले से लगा वेंटिलेटर डायलेसिस सेंटर कैम्पस में हैं। यदि यहां कोविड के मरीजों को रखा जायेगा तो डायलेसिस के अलावे एआरआई सेंटर, बच्चा वार्ड प्रभवित होगा। सीएस ने बताया कि वेंटिलेटर वहीं लगाना है जहां ऑक्सीजन के लिए पाइपलाइन बिछा हुआ है। लेकिन सदर अस्पताल में जिस जगह ऑक्सीजन के लिए पाइपलाइन बिछा है वहां कोरोना का मरीज नहीं रखा जा सकता है। इसके अलावे नए स्थान पर तत्काल के लिए पाइपलाइन बिछाना भी संभव नहीं है। ही जगह तलाश की जा रही है।

20-25 प्रतिशत लक्षण वाले लोग हो रहे हैं निगेटिव
सीएस ने बताया कि प्रति दिन होने वाले रैपिड किट द्वारा की जा रही जांच में 20-25 प्रतिशत सिम्टमेटिक लोग भी निगेटिव मिल रहे हैं। हालांकि ऐसे सभी लोगों का सैंपल दोबारा जांच के लिए पटना भेजा जा रहा है। सिम्टमेटिक मरीजों की पहचान संदिग्ध लोगों द्वारा दी गयी जानकारी के आधार पर ही की जा रही है।
पर्याप्त संख्या में किट उपलब्ध: सैंपल जांच का साइज बढ़ाया जा रहा है। सीएस ने बताया कि पहले 470 से अधिक सैंपल लिया जा रहा था लेकिन अब प्रतिदिन 1 हजार लोगों का सैंपल लिया जायेगा। जिसके लिए पर्याप्त संख्या में किट उपलब्ध कराया गया है। अब जांच में और तेजी आएगी।
चिकित्सकों को प्रोत्साहन की जरूरत
नाम नहीं छापने के शर्त पर अस्पताल के चिकित्सक ने बताया कि पॉजिटिव मरीज का ईलाज करने वाले और सामान्य रोगियों का ईलाज करने वाले चिकित्सकों व कर्मियों को एक ही सुविधा मिलती है। रहने के लिए भी कोई विशेष सुविधा नहीं मिल रही है। ताकि परिवार को सुरक्षित रख सकें। सुरक्षा के दृष्टिकोण से भी कोई विशेष सुविधा नहीं दी जा रही है। उन्होंने कहा कि नौकरी के डर से कोई कहने को तैयार नहीं है लेकिन आईसोलेशन सेंटर में दिन रात काम करने वाले डॉक्टर, एएनएम व अन्य कर्मियों को अतिरिक्त भत्ता देने की जरूरत है। ताकि मनोबल उंचा रहे।

0

आज का राशिफल

मेष
मेष|Aries

पॉजिटिव - धर्म-कर्म और आध्यामिकता के प्रति आपका विश्वास आपके अंदर शांति और सकारात्मक ऊर्जा का संचार कर रहा है। आप जीवन को सकारात्मक नजरिए से समझने की कोशिश कर रहे हैं। जो कि एक बेहतरीन उपलब्धि है। ने...

और पढ़ें