पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

जगलाल चौधरी की 126वीं जयंती:जाति व्यवस्था के घोर विरोधी थे स्वतंत्रता सेनानी जगलाल चौधरी

बिहारशरीफ20 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
  • स्वास्थ्य मंत्री रहने के बावजूद जिस सादगी से रहा करते थे, इससे हमलोगों को सीख लेनी चाहिए

साहित्यिक मंडली शंखनाद कार्यालय में महान समाजसुधारक व स्वतंत्रता संग्राम सेनानी जगलाल चौधरी की 126वीं जयंती मनायी गयी। कार्यक्रम की अध्यक्षता शंखनाद के अध्यक्ष डा. लक्ष्मीकांत सिंह और संचालन नवनीत कृष्ण ने किया। इस मौके पर सचिव राकेश बिहारी शर्मा ने कहा कि बिहार के गांधी नाम से चर्चित स्वतंत्रता सेनानी जगलाल चौधरी ने सर्वसमाज की बहुमुखी सेवा की। ये राजनीतिक, सामाजिक एवं आध्यात्मिक नेता के साथ-साथ एक अच्छे चिकित्सक भी थे।

इन्होंने अपना पूरा जीवन राष्ट्र भक्ति व समाज की सेवा में बिता दिया। स्वास्थ्य मंत्री रहने के बावजूद जिस सादगी से वे रहा करते थे, इससे हमलोगों को सीख लेनी चाहिए। जगलाल चौधरी पहली बार 1937 में कांग्रेस के उम्मीदवार के रूप में बिहार विधानसभा के लिए चुने गए थे और वह चौथे मंत्री बने, तब बिहार में सिर्फ चार ही मंत्री बनते थे।

1938 में सर्वप्रथम समाजहित के लिए बिहार प्रदेश में उन्होंने ही मद्द निषेध कानून लागू करवाया था। 14 अगस्त 2000 को जगलाल चौधरी के नाम पर भारत सरकार ने डाक टिकट जारी कर सम्मानित किया था। साहित्यकार डा. लक्ष्मीकांत सिंह ने कहा कि जगलाल चौधरी एक महान स्वतंत्रता सेनानी थे।

वे बचपन से ही इतने मेधावी थे कि उन्हें राज्य सरकार की ओर से कक्षा 9 से ही 5 रुपया वजीफा मिलता था। इन्होंने कक्षा 10 में पूरे छपरा जिले में प्रथम स्थान प्राप्त किया था। इन्हें गोल्ड मेडल भी मिला था। ये जब मेडिकल के अंतिम वर्ष के छात्र थे उसी समय सन 1921 में महात्मा गांधी के संपर्क में आए। वर्ष 1932 के नमक आंदोलन में वे जेल भी गए।

लागू की थी शराबबंदी कानून

शंखनाद के उपाध्यक्ष बेनाम गिलानी ने कहा कि बिहार में शराबबंदी कानून लागू करने की हिम्मत चौधरी जी ने ही उस दौरान की थीं जब देश में शराब और अंधविश्वास का बोल-बाला था। आबकारी मंत्री के रूप में अपने कार्यकाल के दौरान उन्होंने बिहार में शराबबंदी कानून लागू की और शिक्षा के प्रचार-प्रसार पर व्यापक जोर दिया।

शायर नवनीत कृष्ण ने कहा कि स्वतंत्रता सेनानी जगलाल चौधरी का जन्म एक निर्धन, अशिक्षित पासी जाति के परिवार में हुआ था। इनके पिता का नाम मुसन चौधरी एवं माता का नाम तेतरी देवी था। इनके बड़े भाई भीष्म चौधरी फौजी थे, जिन्होंने अपने अनुज के लिए समय पर अपने तनख्वाह से पैसा बचाकर भेजा और श्री जगलाल चौधरी के पढ़ने के हौसले को बुलंद रखा।

प्रखर समाज सुधारक थे जगलाल चौधरी

साहित्यकार डा. आनंद वर्द्धन ने कहा कि बिहार के गांधी नाम से चर्चित स्वतंत्रता सग्राम सेनानी व पूर्व मंत्री जगलाल चौधरी एक प्रखर समाज सुधारक भी थे। जो महिलाओं के अधिकारों, दलितों की मुक्ति, शिक्षा और बिहार में भूमि सुधार के लिए हमेशा याद किए जाते रहेंगे।

जगलाल जी ने कुरसेला एस्टेट के जमींदार के उम्मीदवार को चुनाव में पराजित किया था। डा. आशुतोष कुमार मानव ने कहा कि जगलाल चौधरी आजीवन सत्ता स्वार्थ लौलुप्य एवं दलगत राजनीति से अपने को अलग रखा।

खबरें और भी हैं...

    आज का राशिफल

    मेष
    Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
    मेष|Aries

    पॉजिटिव- आज ग्रह गोचर और परिस्थितियां आपके लिए लाभ का मार्ग खोल रही हैं। सिर्फ अत्यधिक मेहनत और एकाग्रता की जरूरत है। आप अपनी योग्यता और काबिलियत के बल पर घर और समाज में संभावित स्थान प्राप्त करेंगे। ...

    और पढ़ें