पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

निर्देश:मुखिया 40 हजार, जिप 1 लाख तक कर सकेंगे खर्च

बिहारशरीफ़5 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
  • अभ्यर्थियों को नामांकन एवं रिजल्ट घोषणा की तिथि की अवधि में चुनावी खर्च का हिसाब रखना होगा

निर्वाचन आयोग द्वारा जारी दिशा-निर्देश के अनुसार जिला परिषद सदस्य के प्रत्याशी अधिकतम 1 लाख रुपए तक चुनाव में खर्च कर सकते हैं। इसी तरह मुखिया और सरपंच पद के प्रत्याशियों के लिए खर्च की सीमा 40 हजार निर्धारित की गई है। पंचायत समिति सदस्य पद के प्रत्याशी 30 हजार रुपए तक खर्च कर सकते हैं। वहीं, ग्राम पंचायत सदस्य और पंच के पद के प्रत्याशियों के लिए खर्च की सीमा 20 हजार रुपए निर्धारित की गई है। जिला निर्वाचन पदाधिकारी सह डीएम योगेंद्र सिंह ने बताया कि अभ्यर्थियों को नामांकन की तिथि एवं रिजल्ट घोषणा की तिथि की अवधि में चुनाव से जुड़े सभी खर्च का ब्यौरा रखना होगा। प्रत्येक पद के प्रत्याशी निर्धारित राशि के अंदर ही खर्च कर सकेंगे। चुनाव में खर्च की गई राशि का हिसाब भी सभी को देना पड़ेगा। प्रत्याशियों को मतों की गणना का कार्य संपन्न होने के बाद चुनाव खर्च का ब्यौरा उपलब्ध कराना अनिवार्य होगा। चुनाव को शांतिपूर्ण व निष्पक्ष रुप से संपन्न कराने को लेकर आयोग के निर्देशों का पालन किया जा रहा है। 15 दिनों के अंदर देना होगा खर्च का विवरण : परिणाम के प्रकाशन की तिथि से 15 दिनों के अंदर खर्च का ब्योरा देना होगा। प्रत्याशी को प्रपत्र-29 में व्यय विवरणी निर्वाची पदाधिकारी को एक शपथ पत्र (प्रपत्र-30) के साथ देना होगा। आयोग ने यह भी कहा है कि 10 रुपया शुल्क के आधार पर खर्च का ब्यौरा निरीक्षण के लिए उपलब्ध रहेगा।

बैलगाड़ी व घोड़ागाड़ी से प्रचार कर सकेंगे प्रत्याशी

यदि प्रत्याशी बैलगाड़ी व घोड़ागाड़ी से प्रचार करना चाहते हैं तो उन्हें इसकी अनुमति दी जा सकती है। पंचायत निर्वाचन के लिए आयोग द्वारा ग्राम पंचायत के सदस्य व ग्राम कचहरी के पंच के प्रत्याशी को चुनाव प्रचार के लिए मात्र एक दोपहिया वाहन, मुखिया, सरपंच व पंचायत समिति के सदस्य पदों के प्रत्याशी को दो दोपहिया वाहन तथा एक हल्का मोटर वाहन तथा जिला परिषद सदस्य पद के लिए अधिकतम चार दोपहिया या दो हल्के वाहन तथा एक हल्का मोटर वाहन इस्तेमाल करने की अनुमति प्रदान की गई है।

मतदान के दिन प्रत्याशी इन वाहनों का कर सकेंगे उपयोग
जिला परिषद - एक हल्का मोटर वाहन सिर्फ अभ्यर्थी अथवा उनके निर्वाचन अभिकर्ता के लिए।
पंचायत समिति सदस्य- चालक सहित एक यांत्रिक दुपहिया वाहन सिर्फ अभ्यर्थी अथवा उनके निर्वाचन अभिकर्ता के लिए।
मुखिया - चालक सहित एक यांत्रिक दुपहिया वाहन सिर्फ अभ्यर्थी अथवा उनके निर्वाचन अभिकर्ता के लिए।
सरपंच - चालक सहित एक यांत्रिक दुपहिया वाहन सिर्फ अभ्यर्थी अथवा उनके निर्वाचन अभिकर्ता के लिए।
ग्राम पंचायत सदस्य - कोई भी यांत्रिक वाहन अनुमान्य नहीं।
पंच - कोई भी यांत्रिक वाहन अनुमान्य नहीं।

खबरें और भी हैं...