कमी देख बिफरे:वेंटिलेटर और ऑक्सीजन लगे बेड को देख बोले- मुझे ऑक्सीजन की जरूरत है, 10 मिनट बाद पहुंचा टेक्नीशियन पर नहीं चालू हुआ वेंटिलेटर

बिहारशरीफ13 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
सदर अस्पताल में तैयारी का जायजा लेते डीएम शशांक शुभंकर। - Dainik Bhaskar
सदर अस्पताल में तैयारी का जायजा लेते डीएम शशांक शुभंकर।
  • सदर अस्पताल का निरीक्षण करने पहुंचे डीएम ने किया कोविड से लड़ने की तैयारी का रियलिटी चेक
  • ईटेट को सेपरेट कोविड वार्ड बनाने का निर्देश, व्यवस्थित करने के लिए दिया 24 घंटा का समय

जिलें में तेजी से दस्तक दे रही कोरोना संक्रमण के बीच जिले के नए डीएम ने सबसे पहले स्वास्थ्य विभाग की नब्ज़ टटोली। बढ़ रहे कोरोना संक्रमण से बचाव के लिए स्वास्थ्य विभाग द्वारा की जा रही तैयारी का जायजा लेने शुक्रवार को डीएम सदर अस्पताल पहुंचे। उन्होंने सभी व्यवस्थाओं की बारिकी से जांच की । जहां भी कमियां मिली उन्होंने सम्बन्धित को फटकार भी लगाई। इस दौरान उन्होंने कोरोना इमरजेंसी की हालत में किस तरह से सर्विस मिलेगी। इसका रियलिटी चेक भी कर लिया। दिन के करीब 12 बजे डीएम शशांक शुभंकर सदर अस्पताल पहुंचे थे। ये सबसे पहले कोविड आईसीयू वार्ड पहुंचे। वहां बेड को देखा। इसी दौरान वेंटिलेटर व ऑक्सीजन कंसंटेटर पर उनकी नजर पड़ी। मौके पर ही उन्होंने इसकी रियलिटी जांच ली। डीएम बोले- सीएस साहब मान लीजिये अभी हमें ऑक्सीजन की आवश्यकता है, कैसे देंगे? कहां है टेक्नीशियन और कहां हैं आपके स्टाफ, नर्सेज? डीएम को कोई जवाब नहीं मिला। लगभग 10 मिनट बाद एक गार्ड पहुंचा और वेंटिलेटर के तार को इधर-उधर करने लगा। इसके बाद वेंटिलेटर संचालित करने के लिए प्रतिनियुक्त चिकित्सक भी पहुंचे। वह भी तार को इस प्लग से उस प्लग करने लगे। लेकिन मशीन चालू नहीं हुआ। यहां तक कि ऑक्सीजन के लिए फेस मास्क तक वार्ड में उपलब्ध नहीं था। डीएम ने कहा जब मास्क नहीं है तो ऑक्सीजन कैसे देंगे। इसी बीच सीएस ने नए डीएस से परिचय कराने का प्रयास किया । डीएम बोले किसकी अनुमति से डीएस की प्रतिनियुक्ति समाप्त की । इसपर मिलिए, बात करेंगे। इसके बाद शौचायल आदि का भी निरीक्षण किया। उन्होंने पूरे सिस्टम को अच्छी तरह से एक्टिव करने का निर्देश दिया।

कंट्रोल रूम को रखना होगा सक्रिय
कंट्रोल रूम को पूरी तरह सक्रिय करने का निर्देश दिया गया है। डीएम ने कहा कि सभी पीएचसी के एम्बुलेंस चालक का नम्बर उपलब्ध होनी चाहिए। साथ ही सुनिश्चित करना होगा कि सभी संक्रमित मरीजों को मेडिकल किट उपलब्ध कराया जा रहा है या नही। डीएम ने बताया कि होम आइसोलेशन में रहने वाले सभी व्यक्तियों से कंट्रोल रूम के माध्यम से संपर्क कर मेडिकल किट प्राप्ति से संबंधित जानकारी एवं स्वास्थ्य से संबंधित नियमित फीडबैक लेते रहने का निर्देश दिया गया है। डीएम ने प्रतिनियूक्त सभी कर्मियों को निर्धारित एसओपी के संबंध में प्रशिक्षित करने का भी निर्देश दिया । उहोंने कहा कि कोविड या वैक्सीनेशन से संबंधित किसी भी तरह की जानकारी लेना हो तो सदर अस्पताल के नियंत्रण कक्ष में टॉल फ्री नंबर 18003456119 तथा हंटिंग लाइन 06112 -236710/ 236711/ 236712/ 236713/ 266714 पर संपर्क कर सकते हैं।

आज फिर निरीक्षण
डीएम ने कहा कि वर्तमान में कोरोना संक्रमण के प्रसार की स्थिति को देखते हुए जिला में 4 डेडिकेटेड कोविड हेल्थ सेंटर (डीसीएचसी) तैयार किया जा रहा है। चौथे डीसीएचसी के रूप बीड़ी श्रमिक अस्पताल को 2-3 दिन के अंदर तैयार करने का निर्देश दिया। सदर अस्पताल में 20 बेड ऑक्सीजन सुविधा के साथ तैयार किया गया है। सभी बेड पर पाइपलाइन, सिलेंडर या ऑक्सीजन कंसंट्रेटर के माध्यम से ऑक्सीजन की आपूर्ति को शाम तक चालू स्थिति में रखने का निर्देश दिया गया है।

सेपरेट कोविड वार्ड बनाने का निर्देश
डीएम ने ईटेट वार्ड, कंट्रोल रूम, डायलेसिस सेंटर, आईटीसीटी सेंटर एवं वृद्धजन वार्ड का भी निरीक्षण किया। उन्होंने इस बिल्डिंग को कोविड के लिए सुरक्षित वार्ड बनाने का निर्देश दिया। उन्होंने कहा कि डायलेसिस के लिए अलग से प्रवेश द्वारा बनाकर इस पूरे परिसर को कोविड के लिए सुरक्षित बनाने का निर्देश दिया गया है। वृद्धजन वार्ड से भी कचरा को साफ करते हुए कोविड वार्ड बनाने का निर्देश दिया गया है। इसके अलावे आईसीटीसी सेंटर में डॉक्टर एवं नर्स के लिए जगह बनाने का निर्देश दिया गया है। उन्होंने का कि हर हाल में 24 घंटा के अंदर पूरा सिस्टम सुविधा देने योग्य बन जाना चाहिए। अभी चेतावनी है। आगे समझ लें।

मे आई हेल्प यू डेस्क बनाया जाएगा
डीएम ने सभी वार्ड के लिए अलग-अलग चिकित्सक एवं पारा मेडिकल स्टाफ की प्रतिनियुक्ति का रोस्टर अविलंब तैयार करने का निर्देश दिया है। साथ ही कोविड से संबंधित लोगों की सहूलियत के लिए अस्पताल के मेन गेट के समीप मे आई हेल्प यू डेस्क भी बनाया जाएगा। डीएम ने सभी जगहों पर फ्लैक्स द्वारा कोविड हेल्थ केयर से संबंधित आवश्यक संकेत लगाने को भी कहा है। तीनों अनुमंडल के भूमि सुधार उप समाहर्ता को डीसीएचसी के लिए प्रशासक के रूप में जवाबदेह बनाया गया है। डीएम ने कहा कि दिये गए निर्देश पर क्या अमल हुआ है। इसके लिए शनिवार को भी निरीक्षण करेंगे।

खबरें और भी हैं...