समस्या गंभीर / 45 दिनों से जला है शिवपुरी मोहल्ले का मोटर, लोगों को हो रहा जलसंकट

Motor of Shivpuri locality has been burnt for 45 days, people are getting water crisis
X
Motor of Shivpuri locality has been burnt for 45 days, people are getting water crisis

  • एक ट्यूबवेल के भरोसे 10 हजार लोगों को जैसे-तैसे मिल रहा पानी

दैनिक भास्कर

May 24, 2020, 05:00 AM IST

बिहारशरीफ. गर्मी के दस्तक देते ही शहर में पेयजल की समस्या सामने आने लगी है। लेयर भागने के साथ-साथ मोटर जलने की शिकायत भी मिल रही है। वार्ड संख्या 22 के शिवपुरी मुहल्ला स्थित खलिहान पर पंप हाउस का मोटर जल गया है। करीब 45 दिन मोटर के जले हुए हो गये लेकिन अभी तक कोई ठोस कदम नहीं उठाया जा सका है। यहां नये मोटर की जरूरत बतायी जा रही है।

विभागीय सूत्र बताते हैं कि पदाधिकारी के हस्ताक्षर के इंतजार में नया मोटर खरीदने में परेशानी हो रही है। फिलहाल एक बोरिंग के सहारे लोगों का जैसे-तैसे काम चल रहा है। कई लोगों को तो पानी के लिए रात में जागना पड़ता है। मुहल्लेवासियों का कहना है कि हर दो-तीन दिन पर जेई से इस संबंध में बात होती है लेकिन दो दिन में समस्या दूर होने का आश्वासन मिलता है। इसी तरह सवा महीने हो गये।
एक बोरिंग बुझा रही प्यास: रामचन्द्रपुर वार्ड संख्या 22 में दो बोरिंग से चार वार्ड में पानी सप्लाई होता है। जिसमें से एक बोरिंग खराब है। मसानी पर स्थित बोरिंग से ही कनेक्शन पर पानी आपूर्ति की जा रही है। इसके अलावा तीन स्टैंड पोस्ट हैं लेकिन इससे आसपास के लोगों को ही लाभ मिल पाता है। स्थानीय लोगों ने बताया कि दोनों बोरिंग की स्थिति खराब है। दो माह के अंदर दोनों बोरिंग 8 बार खराब हो चुका है। जिसमें चार बार मोटर जला है। खलिहान पर का बोरिंग खराब होने के कारण मात्र एक बोरिंग से चार वार्ड 20, 21, 22 और 25 के कुछ भाग को पानी मिल पा रहा है।
10 हजार आबादी प्रभावित
वार्ड पार्षद अमरनाथ कुमार ने बताया कि दोनों बोरिंग से चारों वार्ड के करीब 10 हजार आबादी को पानी मिलती है। 12 अप्रैल से ही एक मोटर खराब है। एक बोरिंग को तीन शिफ्ट में चलाने के बाद भी प्रेशर के साथ पानी नहीं मिल पा रहा है। दूर के लोगों को भी रात भर जागने के बाद भी पानी नहीं मिल पा रहा है। बोरिंग के आसपास रहने वाले लोगों को भी पानी लेने के लिए सड़क पर आना पड़ रहा है।
बनने के तुरंत बाद खराब हो जाता है मोटर
वार्ड पार्षद ने बताया कि दोनों बोरिंग आठ बार खराब हो चुका है। चार बार तो मोटर ही जला है। मोटर बनने के सप्ताह भर बाद ही जल जाता है। यह भी आरोप लगाया कि एक ही मिस्त्री को मोटर बनाने की जिम्मेवारी दी गयी है लेकिन कोई जवाबदेही नहीं तय की गयी है कि बनाया गया मोटर चलेगा या नहीं। इस पर कोई पूछताछ भी नही होती सीधे भुगतान कर दिया जाता है।
हस्ताक्षर बनी बाधा: वार्ड पार्षद ने बताया कि जेई नये मोटर की जरूरत बता रहे हैं। पूर्व में खरीदी गयी मोटर का भुगतान नहीं होने के कारण दुकानदार नया मोटर नहीं दे रहा है। नगर निगम में फाइल बनी हुई है। जब तक पदाधिकारी के हस्ताक्षर से भुगतान नहीं होता तब तक नये मोटर की खरीददारी समस्या है। उप नगर आयुक्त जयेश कुमार ने बताया कि उन्हें इस संबंध में कोई जानकारी नहीं है। जेई से बात कर समाधान निकाला जायेगा।
जानकारी नहीं- इस समस्या की जानकारी नहीं थी। इतने समय से मोटर खराब रहना गंभीर बात है। नये मोटर लगाने की प्रक्रिया शुरू की जायेगी। बोरिंग पुराना होने के कारण लेयर भागने की समस्या भी आ रही है। जिन वार्डों में नल जल योजना के तहत बोरिंग हो चुका है वहां सभी घरों में कनेक्शन देने का निर्देश दिया गया है। -अंशुल अग्रवाल, नगर आयुक्त

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना