संकट:उच्च विद्यालय कल्याणबिगहा के 32 परीक्षार्थियों के परीक्षा से वंचित होने के मामले में अब नया मोड़

बिहारशरीफ़5 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
डीएम कार्यालय में उपस्थित छात्र-छात्राएं - Dainik Bhaskar
डीएम कार्यालय में उपस्थित छात्र-छात्राएं
  • छात्र-छात्राओं ने दोषी बताए जा रहे एचएम को निर्दोष बताया है, डीएम से साल बर्बाद नहीं होने देने की गुहार लगाई
  • कल्याणबिगहा के राजकीय उच्च विद्यालय कल्याण बिगहा के इंटर विज्ञान संकाय के 119 छात्र-छात्राओं का पंजीयन था,32 छात्र-छात्राओं का प्रवेश पत्र बोर्ड ने जारी नहीं किया
  • तत्काल एचएम पर प्रपत्र क का गठन कर विभाग को पत्र लिखा गया है

इंटर परीक्षा से वंचित 32 छात्र-छात्राओं के मामले में नया मोड़ आया है। परीक्षा से वंचित छात्र छात्राओं ने इस मामले में दोषी बताए जा रहे एचएम को निर्दोष बताया है। शुक्रवार को इन छात्र छात्राओं ने डीएम से अपना एक साल बचाने की गुहार लगाई। बता दें कि सीएम के पैतृक गांव कल्याण बिगहा के राजकीय उच्च विद्यालय कल्याण बिगहा के इंटर विज्ञान संकाय के 119 छात्र-छात्राओं का पंजीयन कराया गया था। इनमें से 32 छात्र-छात्राओं का प्रवेश पत्र बोर्ड द्वारा जारी नहीं किया गया है। जिसके कारण छात्र-छात्राएं दो दिनों से लगातार प्रदर्शन कर रही हैं। परीक्षा से वंचित छात्र-छात्राओं ने डीएम से मिलकर अपनी समस्या से उन्हें अवगत कराया। छात्रों के साथ उनके अभिभावक भी उपस्थित थे। करीब 20 मिनट तक वार्ता हुई। छात्र-छात्राओं ने बताया कि डीएम ने आश्वासन दिया है कि किसी भी परीक्षार्थी का सेशन बर्बाद नहीं होगा। उन्होने कहा कि अगर इस वार्षिक परीक्षा में शामिल होने का मौका नहीं दिया गया तो अप्रैल में होने वाली विशेष परीक्षा में शामिल करा दिया जाएगा। डीएम शशांक शुभंकर ने बताया कि बच्चों को परीक्षा में शामिल कराने के लिए बोर्ड को पत्र लिखा गया है। बच्चों का भविष्य बर्बाद होने नहीं दिया जाएगा। उन्होने कहा कि इस प्रकरण में जो भी दोषी पाये जाएंगे उनपर भी कार्रवाई की जाएगी।
बच्चों ने कहा- एचएम की कोई गलती नहीं
स्कूल की छात्रा रानी कुमारी, आंचल कुमारी, ज्योति कुमारी आदि ने डीएम से कहा कि इस गड़बड़ी के लिए एचएम सर दोषी नहीं है। उनपर कार्रवाई नहीं कीजिए। छात्राओं ने कहा कि इस पूरे मामले में अरुण सर मुख्य रूप से दोषी है। जिन्होने फीस लेने के बावजूद हम सभी के फॉर्म को बोर्ड के साइट पर अपलोड नहीं किए। जिसके कारण 32 परीक्षार्थियों को परीक्षा से वंचित रहना पड़ रहा है।

बयान हुए दर्ज : डीएम से मिलने आए छात्र-छात्राओं के बयान को कलमबद्ध किया गया। इस दौरान एचएम के बयान को भी दर्ज किया गया। डीईओ केशव प्रसाद ने बताया कि पूरे मामले की जांच की जा रही है। जांच में दोषी पाए जाने पर कार्रवाई की जाएगी। तत्काल एचएम पर प्रपत्र क का गठन कर विभाग को पत्र लिखा गया है। उन्होने बताया कि विद्यालय के शैक्षणिक माहौल की शिकायत भी बराबर मिल रही है। अब विभाग के पदाधिकारियों द्वारा विद्यालय पर नजर रखी जाएगी।

इन बच्चों ने डीएम से लगाई गुहार : रानी कुमारी, आंचल कुमारी, ज्योति कुमारी, रुचि कुमारी, निक्की कुमारी, मोनी कुमारी, सोनी कुमारी, राधा कुमारी, पूजा कुमारी, अनिशा कुमारी, सरोजन कुमारी, शिवानी कुमारी, राहुल कुमार, रौशन कुमार, अनिकेत कुमार आदि।

खबरें और भी हैं...