कोरोना से लड़ाई / बाहर से आ रहे प्रवासी कामगारों को किया जा रहा क्वारेंटाइन, पंचायतों से आ रही खाने की शिकायतें

Quarantine to migrant workers coming from outside, complaints about food coming from panchayats
X
Quarantine to migrant workers coming from outside, complaints about food coming from panchayats

  • प्रवासियों को दी जा रही रोजगार योजनाओं की जानकारी, क्वारान्टीन सेंटर में भर्ती युवक को पीटकर किया जख्मी

दैनिक भास्कर

May 23, 2020, 05:00 AM IST

बिहारशरीफ. बाहर से आ रहे प्रवासियों को प्रखंडों में बने क्वारेंटाइन सेंटर में रखा जा रहा है। सामान्य तौर पर प्रखंड स्तरीय क्वारेंटाइन सेंटरों पर सुविधाओं को लेकर कोई खास शिकायत नहीं मिल रही है। पंचायत स्तर पर खाने-पीने की शिकायतें मिल रही है। शुक्रवार को भी सिलाव के पांकी पंचायत में क्वारेंटाइन लोगों ने हंगामा किया। सरमेरा में क्वारेंटाइन सेंटर में भर्ती युवक को मार-पीटकर जख्मी कर दिया गया है। जिला प्रशासन द्वारा क्वारेंटाइन सेंटर में रह रहे लोगों को रोजगार योजनाओं की जानकारी भी दी जा रही है। बैंक लोन योजनाओं के बारे में बता रहा।काम के इच्छुक लोगों का मनरेगा जॉब कार्ड भी बनाया जा रहा।
क्वारान्टीन सेंटर में भर्ती युवक को मारपीट कर किया जख्मी 
सरमेरा थाना क्षेत्र के बड़ी मलामा के उच्च विद्यालय स्थित क्वारेंटाइन सेंटर में शुक्रवार को सिंघौल निवासी शिशपाल को मारपीट कर जख्मी कर दिया गया। घटना की सूचना पाकर आई पुलिस जख्मी को इलाज के लिए अस्पताल लाई। घटना के संबंध में बताया जा रहा है कि सेंटर पर भर्ती ग्रामीणों को बिछावन नहीं मिला था। कंट्रोल रूम में शिकायत के बाद बिछावन दिया गया। उसी दौरान बिछावन की छीना-झपटी में मारपीट हुई। सेंटर में रह रहे ग्रामीणों ने बताया कि उन लोगों को खाना-नाश्ता के अलावा कुछ नहीं मिलता। थानाध्यक्ष राकेश कुमार ने बताया कि घटना की जांच की जा रही है।
सिलाव: तीन दिन से भूखे प्रवासी कामगारों ने काटा बवाल
बाहर से आये प्रवासी कामगारों को गोरमा पांकी पंचायत के उच्च विद्यालय पांकी में क्वारेंटाइन किया गया है। खाना नहीं मिलने से नाराज प्रवासियों ने शुक्रवार को प्रखंड मुख्यालय पहुंचकर हंगामा किया। मिली जानकारी के अनुसार यहां 80 से अधिक कामगार त्रिपुरा, दिल्ली एवं हरियाणा से मंगलवार को सिलाव पहुंचे थे। सभी को पंचायत के क्वारेंटाइन सेंटर पांकी स्थित हाई स्कूल में ठहराया गया है। शुक्रवार की सुबह तक किसी को भोजन नहीं दिया गया। खाना नहीं मिलने पर प्रवासी मजदूर प्रखंड कार्यालय पहुंचकर भोजन की मांग करने लगे।

इन लोगों ने बिछावन भी नहीं दिये जाने का आरोप लगाया है। बीडीओ डा. अंजनी कुमार ने बताया कि प्रखंड स्तरीय सेंटर में भोजन की व्यवस्था प्रखंड स्तर पर किया जा रहा है। पंचायत या गांव में बनाये गये सेंटर में सुख सुविधा देने की जिम्मेवारी मुखिया की है। जानकारी मिलते ही एसडीओ और डीएसपी क्वारेंटाइन सेंटर पहुंचे। प्रवासी मजदूरों से घटना की जानकारी ली। एसडीओ संजय कुमार ने कहा कि शिकायत की जांच कर दोषी पर कार्रवाई की जायेगी।
नूरसराय: 37 प्रवासी को दिया गया जॉब कार्ड
14 दिनों पूरा होने पर डायट क्वारेंटाइन सेंटर से घर जा रहे प्रवासी मजदूरों को कार्यक्रम पदाधिकारी अनील कुमार ने जॉब कार्ड दिया। उन्होंने कहा कि मनरेगा के तहत पुरुष मजदूरों को 80 घन फीट मिट्टी कटाई पर 194 रुपया व महिला मजदूरों को 68 घन फीट मिट्टी कटाई करने पर 194 रुपया मजदूरी मिलेगा। प्रवासियो को बताया कि जो जॉब कार्डधारी मजदूर अपने निजी जमीन पर जीवकोपार्जन के लिए बकरी शेड, मुर्गी शेड, मछली पालन के लिए पोखर निर्माण करना चाहते हैं उन्हें मनरेगा से निर्माण कार्य कराया जायेगा। बीडीओ राहुल कुमार ने सभी को एक-एक अमरूद का पौधा भी दिया।
इस्लामपुर: गांवों में पहुंच रहे प्रवासी, ग्रामीण भयभीत
खुदागंज थाना क्षेत्र के विभिन्न गांव में बाहर से प्रवासी कामगार पहुंच रहे हैं। जिससे ग्रामीण भयभीत हैं। प्रवासियों के बिना जांच कराये घर चले आने से लोगों में कोरोना संक्रमण का भय सता रहा है। ग्रामीणों ने बताया कि परिजन भी घर से बाहर रहने को कह रहे हैं। परिजन के मना करने पर प्रवासी कामगारों ने स्कूल और पंचायत भवन में रहना शुरू कर दिया है। उत्क्रमित माध्यमिक विद्यालय मदारगंज, उत्क्रमित मध्य विधालय अर्जुन सेरथुआ सराय, पंचायत भवन कोचरा आदि जगहों के क्वारेंटाइन सेंटर पर शौचालय आदि की सुविधा नहीं है।

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना