पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

एहतियात:रैपिड रिस्पॉन्स टीम का गठन

बिहारशरीफ9 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
  • पिछले साल कतरीसराय के सैदपुर गांव में बर्ड फ्लू के कारण करीब 1 हजार मुर्गी को मारकर जमीन के नीचे दबाना पड़ा था
  • बर्ड फ्लू को लेकर विभाग अलर्ट, लोगों को किया जा रहा जागरूक
  • जिले के कुछ इलाकों में पूर्व में बर्ड फ्लू की शिकायत मिल चुकी है, पॉल्ट्री फॉर्म की मैपिंग व रूट चार्ट होगा तैयार

बर्ड फ्लू को लेकर जिले में पशुपालन विभाग अलर्ट हो गया है। जिले के कुछ इलाकों में पूर्व में बर्ड फ्लू की शिकायत मिल चुकी है। जिसे देखते हुए विभाग द्वारा पूरी सावधानी बरती जा रही है। संबंधित अधिकारियों को भी अपने-अपने क्षेत्र में लोगों को जागरूक करने का निर्देश दे दिया गया है। साथ ही जिला स्तर पर रैपिड रिस्पॉन्स टीम का किया जा चुका है। ताकि कहीं से भी पक्षी की मौत या बर्ड फ्लू की शिकायत मिलती है तो तुरंत कार्रवाई जा सके। इसके अलावा प्रखंड स्तर पर भी संबंधित अधिकारियों व कर्मियों को जागरुकता से संबंधित दिशा-निर्देश जारी कर दिया गया है। प्रभारी डीएएचओ डॉ. सूर्यनारायण सिंह ने बताया कि पिछले साल कतरीसराय के सैदपुर गांव में बर्ड फ्लू के कारण करीब 1 हजार मुर्गी को मारकर जमीन के नीचे दबाना पड़ा था। इसी को ध्यान में रखते हुए इस बार बर्ड फ्लू की फैलने की आशंका को लेकर पहले से ही पूरी तैयारी की जा रही है। जिला स्तर पर टीम गठित करने के साथ-साथ प्रखंड स्तर पर भी तैयारी करने का निर्देश दे दिया गया है। प्रखंड स्तर पर सीओ व फील्ड हेल्थ वर्कर के साथ बैठक कर गांव में जागरुकता संबंधित कार्यक्रम आयोजित करने को कहा गया है। कहीं से भी पक्षियों व मुर्गियों के मरने की सूचना प्राप्त होती है तो जांच के लिए सीरम, स्वैव व मृत पक्षी को संग्रह कर जिला सहायक कुक्कुट पदाधिकारी को उपलब्ध कराने का निर्देश संबंधित अधिकारियों को दिया गया है। ताकि जांच कर संक्रमण फैलने से रोका जा सके।

गठित टीम में छह पदाधिकारी को शामिल किया गया
प्रभारी डीएएचआे ने बताया कि बर्ड फ्लू को फैलने से रोकने के लिए जिला स्तर पर रैपिड रिस्पॉन्स टीम का गठन किया गया है। इस टीम में जिला व प्रखंड स्तर के 6 पदाधिकारी को शामिल किया गया है। ताकि कहीं से भी संक्रमण मिलने की सूचना प्राप्त होती है तो रोकने के लिए त्वरित कार्रवाई की जा सके। रैपिड रेस्पांस टीम में सहायक कुक्कुट पदाधिकारी डॉ. नेहा मालविका सिंह, बिलारी के भ्रमणशील पशु चिकित्सा पदाधिकारी डॉ. नरेन्द्र कुमार, परबलपुर के भ्रमणशील पशु चिकित्सा पदाधिकारी डॉ. शंभु शरण, रहुई के भ्रमणशील पशु चिकित्सा पदाधिकारी डॉ. शशि शेखर, ओईयाव के रात्री प्रहरी दिलीप कुमार, बिंद के अनुसेवक कमलेशकान्त निराला को शामिल किया गया है।

विशेष नजर रखने का आदेश जारी
बर्ड फ्लू को लेकर सभी प्रखंड पशुपालन व भ्रमणशील पशु चिकित्सा पदाधिकारी को अपने-अपने क्षेत्र के पॉल्ट्री फार्म का मैपिंग व रूट चार्ट तैयार कर जिला को उपलब्ध कराने का निर्देश दे दिया गया है। ताकि कहीं से भी संक्रमण फैलने की शिकायत मिलती है तो बिना किसी सहयोग के रैपिड रिस्पॉन्स टीम सम्बंधित गांव व पॉल्ट्री फार्म तक पहुंच सके। उन्होंने कहा कि पूर्व में जहां बर्ड फ्लू की शिकायत मिली है उस प्रखंड व गांव पर विशेष नजर रखने का आदेश दिया गया है।

इंसानों में भी फैलने की संभावना
बर्ड फ्लू को लेकर स्वास्थ्य विभाग ने भी गाइडलाइन जारी की है। पशुपालन विभाग को अलर्ट करन के साथ-साथ सभी प्रभारी चिकित्सा पदाधिकारी को भी अपने स्तर से सावधान रहने का निर्देश दिया गया है। सीएस डॉ. राम सिंह ने बताया कि चिड़िया से इंसान व इंसान से चिड़िया में बर्ड फ्लू के फैलने का खतरा बेहद कम है। बावजूद इसके सतर्क रहने की जरूरत है। एवियन इंफ्लूएंजा मल, लार व संक्रमित पक्षी के स्राव के जरिये इंसानों में फैलता है। खासकर पोल्ट्री कारोबार से जुड़े लोगों में बर्ड फ्लू का खतरा ज्यादा होता है, लेकिन एहतियात बरतते हुए वह खुद को बचा सकते हैं। पोल्ट्री फार्म में काम करने वाले लोग ग्लब्स आदि का इस्तेमाल करें और साफ-सफाई रखें तो बर्ड फ्लू के खतरे को टाल सकते हैं। अगर फार्म में मुर्गी मर जाती है तो छुएं नहीं और इसकी जानकारी तत्काल पदाधिकारियों को दें।

लोगों को जागरूक किया जाएगा| जिला एपेडेमियोलॉजिस्ट डॉ. मनाेरंजन कुमार ने बताया कि बर्ड फ्लू संक्रमण को फैलने से रोकने के लिए स्वास्थ्य विभाग ने भी गाइडलाइन जारी किया है। सभी प्रभारी चिकित्सा पदाधिकारी को सावधानी से संबंधित निर्देश उपलब्ध करा दिया गया है ताकि आशा, एएनएम व अन्य स्वास्थ्य कर्मियों के माध्यम से लोगों को जागरूक करा सकें।

इन बातों का रखें ख्याल| जिला एपेडेमियोलॉजिस्ट ने बताया कि बर्ड फ्लू से संबंधित कुछ महत्वपूर्ण बातें है जिसका ध्यान रखना बहुत जरूरी है। बीमार पक्षियो के सीधे सम्पर्क में न आएं तथा मास्क का प्रयोग करें। साथ ही बीमार पक्षियो के पंख, श्लेष्मा और बीट को नहीं छुएं। अगर गलती से छू भी लेते हैं ते साबुन से अच्छी तरह हाथ को धो लें।

उड़ते-उड़ते आसमान से गिरे कबूतर की मौत,चिकित्सा पदाधिकारी ने की जांच
नगरनौसा |
प्रखंड के रामघाट बाजार के एक होटल के समीप मंगलवार की दोपहर एक कबूतर आसमान में उड़ते हुए जमीन पर गिर गया। जमीन पर गिरते ही कबूतर की मौत हो गयी। कबूतर के मौत की खबर आग की तरह फैल गयी। लोग बर्ड फ्लू की आशंका जता रहे हैं। रामघाट बाजार के एक होटल आगे सड़क किनारे अचानक आसमान में उड़ता हुआ एक कबूतर जमीन पर गिर गया। 2 मिनट तक फड़फड़ाने के बाद कबूतर की मौत हो गई। कबूतर को नीचे जमीन पर गिरता हुआ देख आसपास में खड़े लोगों में हड़कंप मच गया। कबूतर की इस तरह से गिरकर हुई मौत से लोग बर्ड फ्लू की आशंका से भयभीत हैं। कबूतर के मौत की सूचना मिलते ही भ्रमणशील पशु चिकित्सा पदाधिकारी डा. नागमणि ने घटनास्थल पर पहुंच मामले की जांच की।

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- आपने अपनी दिनचर्या से संबंधित जो योजनाएं बनाई है, उन्हें किसी से भी शेयर ना करें। तथा चुपचाप शांतिपूर्ण तरीके से कार्य करने से आपको अवश्य ही सफलता मिलेगी। परिवार के साथ किसी धार्मिक स्थल पर ज...

और पढ़ें

Open Dainik Bhaskar in...
  • Dainik Bhaskar App
  • BrowserBrowser