पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

मनमानी:मशीन खराब होने का बहाना, जब मरम्मत के लिए पहुंचे इंजीनियर तो सिर्फ 8 लोग ही पहुंचे शिविर

बिहारशरीफ18 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
शिविर में पॉश मशीन ठीक करते इंजीनियर। - Dainik Bhaskar
शिविर में पॉश मशीन ठीक करते इंजीनियर।
  • बिना पॉश मशीन के ही किसानों को दे रहे खाद

किसान को निर्धारित मूल्य पर उर्वरक उपलब्ध कराने का दवा धरातल पर नही दिख रहा। अभी भी बिना पॉश मशीन के ही दुकानदार उर्वरक की बिक्री कर रहे हैं। जिसके कारण मनमानी कीमत वसूली जा रही है। इस संबंध में पूछे जाने पर विक्रेता पॉश मशीन खराब होने की बात कहकर अधिकारी से पीछा छुड़ा लेते हैं। जबकि हकीकत कुछ और ही है।

मशीन ठीक रहने के बाद भी दुकानदार पॉश मशीन का प्रयोग नहीं कर रहे हैं। उर्वरक की खपत करने के लिए बिना आधार नम्बर के ही गांव स्तर पर बिना लाइसेंस के संचालित दुकानों को उपलब्ध कराया जा रहा है। इस बात का खुलासा बुधवार को पॉश मशीन ठीक करने के लिए बुधवार को आत्मा सभागार में लगाए गए शिविर के दौरान हुआ। डीएओ द्वारा सूचना देने के बाद भी मात्र 8 लोग ही मशीन लेकर पहुंचे जिसे ठीक कर दिया गया। डीएओ संजय कुमार ने कहा कि बहानेबाजी नहीं चलेगी।

लोग पॉश मशीन खराब होने की बात करते हैं और जब इंजीनियर को बुलाया गया तो लोग पहुंचे ही नहीं। उर्वरक की कालाबाजारी करने के लिए लोग पॉश मशीन का इस्तेमाल नहीं कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि जिस दुकानदार द्वारा पॉश मशीन से उर्वरक बिक्री नहीं की जा रही है उन्हें उर्वरक का आवंटन नहीं किया जाएगा।

कर रहे हैं बहानेबाजी
कृभको के प्रतिनिधि आरके श्रीवास्तव ने कहा कि नालंदा में हमेशा विक्रेताओं द्वारा बहानेबाजी की जाती है। पिछली बार भी कई लोगों ने मशीन खराब होने की शिकायत की थी लेकिन जब इंजीनियर पहुंचे तो मात्र 10 मशीन खराब मिला। इस बार भी विक्रेता ज्यादा संख्या में नहीं पहुंचे। मात्र 8 मशीन में ही खराबी पाई गई। उन्होंने कहा कि जब तक पॉश मशीन से बिक्री नहीं होगी तब तक कंपनी को भी अनुदान नहीं मिलेगा।

हिदायत: डीएओ बोले- नहीं मानेंगे बात तो खाद का आवंटन नहीं

डीएओ संजय कुमार ने जिले में कार्यभार संभालने के बाद सबसे पहली बैठक उर्वरक विक्रेताओं के साथ ही की थी। निर्देश दिया गया था कि बिना पॉश मशीन की बिक्री नहीं करना है। इसपर विक्रेताओं ने कहा कि अधिकांश लोगो का पॉश मशीन खराब है।

इसके बाद डीएओ द्वारा कंपनी के इंजीनियर को बुलाकर बुधवार को आत्मा सभागार में शिविर लगाया गया । लेकिन काफी कम दुकानदार ही पहुंचे। उन्होंने कहा कि दुकानदार सिर्फ बहानेबाजी कर रहे हैं। निर्धारित मूल्य पर उर्वरक उपलब्ध कराने की इनकी मंशा नही है।

खबरें और भी हैं...