सफलता:रंगमंच के कलाकार रविकांत को जूनियर फैलोशिप मिली

चंडी7 दिन पहले
  • कॉपी लिंक

केंद्रीय संस्कृति मंत्रालय भारत सरकार की ओर से पटना रंगमंच के कलाकार रविकांत सिंह को वर्ष 2019-20 के लिए जूनियर फैलोशिप मिली है। वह बिहार के एक मात्र कलाकार हैं, जिन्हें इस बार यह फेलोशिप मिली है। चंडी प्रखंड के मुबारक गांव में जन्मे और पले-बढ़े रविकांत पटना रंगमंच से जुड़े हुए हैं। इनके पिता बिंदा सिंह स्वतंत्रता सेनानी है। रविकांत अब तक कई तरह के नाटक प्रस्तुत कर चुके हैं। कला के माध्यम से इन्हें 2014-15 में भिखारी ठाकुर युवा सम्मान (राज्य कला सम्मान) मिल चुका है। ये इप्टा, मंच, राग, प्रेरणा, रंगमाटी में भी काम कर चुके हैं। रविकांत ने कहा कि उनके द्वारा अभिनीत प्ले, दस दिन का अनशन (सोलो टाइम 50 मिनट का) महुआ, रक्तकल्याण, साला मैं तो साहब बन गया, उमराव जान जैसे नाटक निर्देशित है। साथ ही बताया कि यूनिसेफ के द्वारा डोको ड्रामा, 2009 में भारत रंग महोत्सव में उमराव जान प्ले में अभिनय किया।
इन फिल्म में मुख्य भूमिका निभाया
द जिंक्स फिल्म में मुख्य रूप से भूमिका निभाया। द जिंक्स एक हॉरर फिल्म है। जिसका मतलब अपशकुन होता है। इस फिल्म में हीरो की भूमिका रविकांत सिंह व हीरोइन गोरखपुर के कनक पांडे का मुख्य भूमिका है। यह फिल्म हीरो मैक्स प्लेयर पर आ चुकी है। दूसरी हिंदी फिल्म लिपस्टिक बॉय भी जल्द आने वाला है।

खबरें और भी हैं...