विशेष तैयारी:कोरोना संकट में नहीं होगी दिक्कत, मिलेंगे 32 एंबुलेंस

बिहारशरीफ8 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
मुख्यमंत्री ग्राम परिवहन योजना की एंबुलेंस - Dainik Bhaskar
मुख्यमंत्री ग्राम परिवहन योजना की एंबुलेंस
  • संक्रमितों को त्वरित एवं सुरक्षित ढंग से आइसोलेशन केंद्र-अस्पताल तक पहुंचाने की कवायद
  • किराये पर चलायी जाएंगी मुख्यमंत्री ग्राम परिवहन योजना के तहत जिले में संचालित हो रहीं एंबुलेंस

कोरोना संक्रमण की रफ्तार पीक पर पहुंचने पर एम्बुलेंस की समस्या हो जाती है। सभी जरूरतमंद लोगों को एम्बुलेंस नहीं मिल पाता है। मजबूरी में लोग जैसे तैसे जुगाड़ लगाकर मरीज को अस्पताल पहुंचाते हैं। इसका कारण मरीजों की तुलना में एम्बुलेंस की संख्या कम होना है। कोरोना की दूसरी लहर के दौरान एम्बुलेंस के लिए मची अफरातफरी को देखते हुए इस बार तीसरी लहर के दौरान संक्रमित मरीजों के त्वरित परिवहन एवं सुरक्षित ढंग से आइसोलेशन केंद्र अथवा अस्पतालों तक पहुंचाने के लिए जिलों में परिचालित 102 एंबुलेंस सेवा के अलावा अतिरिक्त एंबुलेंस की जरूरत महसूस की जा रही है। इसके लिए भाड़े पर एम्बुलेंस की व्यवस्था की जा रही है।

जरूरत के अनुसार उपयोग : मुख्यमंत्री ग्राम परिवहन योजना के तहत जिले में 32 की संख्या में एंबुलेंस क्रय एवं निबंधन परिवहन विभाग बिहार सरकार द्वारा किया गया है। इन एंबुलेंस को भाड़े पर रखने के लिए कार्यपालक निदेशक संजय कुमार सिंह ने पत्र जारी कर डीएम, सीएस एवं डीपीएम को आवश्यक दिशा निर्देश दिया है। दिए गए दिशा निर्देश के अनुसार सिविल सर्जन जिला में प्रखंडों की संख्या के आधार पर प्रति दो प्रखंड पर 1 एंबुलेंस की अधिकतम सीमा के तहत मुख्यमंत्री ग्राम परिवहन योजना के अंतर्गत परिचालित एंबुलेंस में से आवश्यकतानुसार एंबुलेंस भाड़े पर रख सकते हैं। तीसरी लहर के मद्देनजर अस्पतालों में इसका जरूरत के अनुसार उपयोग किया जाएगा।

एसी एम्बुलेंस के लिए होगा 33000 का भुगतान : भाड़े पर एम्बुलेंस की व्यवस्था के लिए किराया भी निर्धारित कर दिया गया है। मुख्यमंत्री ग्राम परिवहन योजना के तहत संचालित एंबुलेंस को भाड़े पर रखने की स्थिति में 33000 रुपये प्रति एसी - एंबुलेंस (ड्राइवर एवं 1000 किलोमीटर परिचालन) के लिए दिया जाएगा। यदि किसी परिस्थिति में एम्बुलेंस 1000 किलोमीटर से अधिक चलता है तो 11 रुपये प्रति किलोमीटर की दर से अतिरिक्त राशि का भुगतान किया जाएगा। बता दें कि इसके अलावा निजी एम्बुलेंस के पहले ही किराया निर्धारित किया जा चुका है। निर्धारित किराया से ज्यादा वसूली की शिकायत पर कार्रवाई की चेतावनी भी दी गई है।

खबरें और भी हैं...