पहल:पीड़ित महिलाओं को हर कानूनी सहायता मिलेगी

बिहारशरीफ2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

जिला एवं सत्र न्यायाधीश सह विधिक सेवा प्राधिकार के अध्यक्ष डा. रमेश चंद्र द्विवेदी के आदेशानुसार एवं जिला विधिक सेवा प्राधिकार के सचिव सह अपर जिला एवं सत्र न्यायाधीश मोहम्मद मंजूर आलम के निर्देशन में वर्द्धमान आयुर्विज्ञान संस्थान अस्पताल पावापुरी में एसिड हमले के पीड़ितों के लिए विधिक सेवा एवं घरेलू हिंसा अधिनियम विषय पर जागरूकता शिविर लगाया गया। कार्यक्रम में अस्पताल सुप्रीटेंडेंट डा. ज्ञान भूषण के साथ डॉ. अब्बास मुस्तफा, डाॅ. विजेंद्र कुमार, डाॅ. अंजनी कुमार, डाॅ. प्रेम सागर चौधरी, डाॅ. नरेंद्र प्रसाद ने सहयोग किया। पैनल अधिवक्ता जया वर्मा एवं पारा विधिक स्वयंसेवक राजीव कुमार द्वारा तेजाब हमलों के पीड़ितों के लिए विधिक सेवा योजना 2016, घरेलू हिंसा अधिनियम, बिहार पीड़िता मुआवजा 2018, 2019 विषय पर विधिक जानकारी दी गई। पैनल अधिवक्ता जया वर्मा ने बताया कि सबसे अधिक प्रभावित बालिकाएं एवं महिलाएं होती है। जिला विधिक सेवा प्राधिकार द्वारा एसिड हमलों के पीड़ितों को चिकित्सा सुविधा, पुनर्वास तथा सभी प्रकार की कानूनी सहायता निःशुल्क प्रदान करती है। धारा 326 ए के तहत तेजाब हमला करने वाले को 10 वर्ष तथा तेजाब हमले का प्रयास करने वाले को धारा 326 बी के तहत 5 वर्ष की सजा का प्रावधान है।

खबरें और भी हैं...