पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

लॉकडाउन:सुबह में दिखी चहल-पहल, दोपहर बाद सन्नाटा शाम 4 बजे नहीं दिखी पुलिस तो सड़क पर बढ़ी चहलकदमी

बिहारशरीफ़2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
सड़क पर उतरी पुलिस। - Dainik Bhaskar
सड़क पर उतरी पुलिस।
  • लापरवाही सुबह सात बजे से लेकर ग्यारह बजे दिन तक आवश्यक सामग्रियों की दुकानंे खोलने की इजाजत है, सब्जी मंडियों की भीड़ चिंताजनक
  • दवा की दुकानों को छोड़ लगभग सभी दुकानें बंद रही, यात्री बसों का भी परिचालन कम रहा

लॉकडाउन के दौरान चार घंटे की छूट दी गई है। सुबह सात बजे से लेकर ग्यारह बजे दिन तक आवश्यक सामग्रियों की दुकानंे खोलने की इजाजत है। ऐसे में छूट के ये चार घंटे कहीं भारी नहीं पड़ जाये। चार घंटे शहर में गजब की भीड़ हो रही है। सब्जी मंडियों की हालत सबसे खराब है। ना तो दुकानदार सोशल डिस्टेंसिंग का पालन कर रहे हैं और ना ही खरीदार। ग्यारह बजे से पहले जरुरत के समानों की खरीदारी करने के लिए लोग टूट पड़ रहे हैं। ऐसे में संक्रमण का बढ़ना तय है।
तीसरे दिन रहा मिलाजुला असर
भीड़ में एक संक्रमित व्यक्ति कई लोगों में संक्रमण फैला देगा कहना मुश्किल है। लॉकडाउन के तीसरे दिन भी शहर में मिला जुला असर रहा। सुबह सड़कों पर काफी चहल पहल दिखी। जरूरी वस्तुओं की खरीदारी के लिए लोग घरों से निकले और पुन: घर जाकर कैद हो गये। 11 बजे के बाद सड़क पर धीरे धीरे सन्नाटा पसरना शुरू गया। प्रशासनिक सख्ती के साथ ही संक्रमण के डर से भी लोगों ने घर से निकलने में परहेज किया। इधर, बाजार में दवा की दुकानों को छोड़ लगभग सभी दुकानें बंद रही। सार्वजनिक परिवहन सेवा के तहत यात्री बसों का भी परिचालन भी कम रहा।

दोपहर तक चुस्त दिखी पुलिस| दोपहर तक चुस्त दिखी पुलिस। यातायात थाना पुलिस ने बेवजह सड़कों पर मटरगश्ती करने वालों को समझा कर घर भेजा। लॉकडाउन के सख्ती से पालन कराने को लेकर जगह-जगह पुलिस भी तैनात दिखी। बाजार समिति समेत अन्य सब्जी मंडी पर दुकानदारों को हर हाल में सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करने को कहा गया। कृषि क्षेत्र से संबंधित दुकानों को भी लॉकडाउन से अलग रखा गया है। खाद, बीज सहित अन्य कृषि उत्पाद की दुकानें भी खुली रही। बिना आवश्यक काम के सड़कों पर निकले बाइक चालकों को पूछताछ के बाद पुलिस ने वापस लौटाया।

सब्जी मंडी में लगी लोगों की भीड़।
सब्जी मंडी में लगी लोगों की भीड़।

4 बजे नहीं दिखी पुलिस। शाम 4 बजे चौक-चौराहों पर से पुलिस हटी तो आम लोगों की चहलकदमी बढ़ गयी। लोग बेफिक्र होकर घुमते दिखे। दुकानें बंद रही। लोगों का अनावश्यक घुमना जारी रहा। शाम 4 बजे शहर के अस्पताल चौराहा और भरावपर चौराहा पर एक भी पुलिस नहीं दिखी। कुछ दुकानदार अपनी-अपनी दुकानों के आगे बैठे थे। आम लोग भी आ जा रहे थे। सड़क पर बाइकें भी दौड़ रही थी। कहीं कोई रोक टोक करने वाला नही था।

ई. रिक्शा चालकों ने बढ़ाया भाड़ा। लॉकडाउन के बावजूद सड़क पर ई. रिक्शा का परिचालन धड़ल्ले से हो रहा है। ये लोगों की मजबूरी का खूब फायदा उठा रहे हैं। भाड़ा दुगुना कर दिया है। 10 रुपये से कम कहीं का भाड़ा नहीं ले रहे हैं। बोलने पर झगड़ा पर उतारू हो जाते हैं। पुलिस नही रहने का भी ये नाजायज फायदा उठा रहे। इधर शहर में लाउडस्पीकर के माध्यम से लॉकडाउन के नियमों का पालन करने एवं मास्क पहनने को लेकर लोगों में जागरूक किया जा रहा है। डीएम योगेंद्र सिंह ने लोगों से अपील की है कि लोग अपने घरों पर ही रहें।

खबरें और भी हैं...