पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

हंगामा:कोेविड सेंटर पहुंचते ही महिला की हुई मौत, परिजनों ने किया हंगामा एम्बुलेंस में तोड़फोड़, चालक को भी पीटा, परिजनों पर एफआईआर

बिहारशरीफएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • जहानाबाद निवासी महिला तबीयत खराब होने के बाद परिवार के यहां रामचन्द्रपुर गांव आयी थी, छह मई की शाम भर्ती किया गया था

बीड़ी श्रमिक अस्पताल स्थित कोविड केयर सेंटर पहुंचते ही मरीज की माैत हो जाने पर शुक्रवार को परिजनों ने एम्बुलेंस चालक पर गुस्सा उतार दिया। इस दौरान परिजनों ने एम्बुलेंस में तोड़-फोड़ करने के साथ-साथ चालक की भी पिटाई कर दी। घटना की सूचना मिलते ही बीडीओ, सीओ, दीपनगर थाना प्रभारी दल-बल के साथ पहुंचे और हंगामे को रोका। जहानाबाद जिला निवासी 62 वर्षीय उषा देवी की मौत हुई थी। तबीयत खराब होने के बाद वह अपने परिवार के यहां रामचन्द्रपुर आई थी। उन्हें सदर अस्पताल में भर्ती कराया गया था। स्वास्थ्य प्रबंधक हेमंत कुमार ने बताया कि महिला को 6 मई की शाम पांच बजे भर्ती कराया गया था। उस समय मरीज का ऑक्सीजन लेवल 65 प्रतिशत था। कोविड की जांच भी नहीं कराई गई थी। शाम होने के कारण सदर अस्पताल में भी जांच नहीं हो सकी। लेकिन सारा सिमटम कोरोना से संबंधित था। भर्ती लेकर इलाज भी शुरू कर दिया गया। करीब 8 बजे तक महिला का आॅक्सीजन लेवल 98 पहुंच गया था। स्थिति भी सामान्य हो गई। रात में खाना भी खाई है। चूंकि इमरजेंसी में ज्यादा समय तक नहीं रख सकते थे इसलिए लक्षण को देखते हुए सुबह 8 बजे सरकारी एम्बुलेंस से बीड़ी श्रमिक अस्पताल भेज दिया गया था।

आरोप: जिस एंबुलेंस में मरीज को भेजा उसमें ऑक्सीजन नहीं था

सदर अस्पताल से रेफर करने के बाद एम्बुलेंस जैसे ही कोविड केयर सेंटर पहुंची, महिला की मौत हो गई। परिजनों का आरोप है कि जिस एम्बुलेंस में मरीज को भेजा गया उसमें ऑक्सीजन नहीं था। जिसके कारण मरीज की मौत हुई है। लापरवाही की गई है। वहीं अस्पताल प्रबंधन की माने तो ऑक्सीजन नहीं रहने का झूठ आरोप लगाया जा रहा है। मरीजों को लाने ले जाने के लिए रखे गए सभी एम्बुलेंस में ऑक्सीजन है।

परिजनों को समझाकर मामला शांत कराया गया
मरीज की मौत के बाद परिजनों ने जमकर हंगामा मचाया और एम्बुलेंस को भी क्षतिग्रस्त कर दिया। साथ ही चालक की भी पिटाई कर दी। घटना की सूचना मिलते ही बिहारशरीफ बीडीओ राजीव रंजन कुमार, सीओ सुनील कुमार सिंह ,दीपनगर थानाध्यक्ष मो. मुश्ताक अहमद बीड़ी श्रमिक अस्पताल पहुंचे और परिजनों से बातचीत कर मामला शांत कराया। एकाउंटेंट सुजीत कुमार ने बताया कि परिजनों के विरुद्ध प्राथमिकी दर्ज कराई गई है।

जानलेवा संक्रमण: कोरोना से दो महिला समेत छह की मौत

बिहारशरीफ | बीते पांच दिनों से प्रति दिन 5-6 मरीज की कोरोना से जान जा रही है। शुक्रवार का दिन भी कोरोना मरीजों के लिए ठीक नही रहा। दो महिला समेत छह लोगों की मौत होने के बाद दूसरी लहर में कोरोना से मरने वालों की संख्या 123 पहुंच गई है। अस्पतालों में जगह नहीं मिलने के कारण भी लोग मौत के शिकार हो रहे हैं। कोरोना से जंग हारने वालों में दो महिला शाामिल है । जिनकी मौत बीड़ी श्रमिक अस्पताल में हो गई। मरने वालों में जहानाबाद निवासी 62 वर्षीय उषा देवी है। परवलपुर प्रखंड के पिलीच गांव निवासी 50 वर्षीय मिनता देवी की मौत भी शुक्रवार को हो गई। 3 मई को उन्हें भर्ती कराया गया था। इसलामपुर निवासी सेवा निवृत शिक्षक 75 वर्षीय गयानंद पाण्डेय की मौत शुक्रवार को विम्स में हो गई। तेलमर निवासी 50 वर्षीय उमेश हलवाई की मौत एनएमसीएच में इलाज के दौरान हो गई। वे बीते 4 दिनो से इलाजरत थे। चंडी के खरजम्मा निवासी 55 वर्षीय मुकेश कुमार की मौत होम आईसोलेशन में हो गई। वहीं बिंद प्रखंड के कुशहर गांव निवासी 50 वर्षीय धनंजय कुमार की मौत शुक्रवार को पटना में हो गई। 10 दिन पूर्व ही उनकी रिपोर्ट पॉजिटिव आई थी।

खबरें और भी हैं...