सड़क सुरक्षा:26,27 और 28 को मुख्यमंत्री विद्यालय सुरक्षा कार्यक्रम के तहत होगी कार्यशाला

बिहारशरीफ़एक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • इसके तहत बचाव और विद्यालयों में बच्चों की सुरक्षा कार्यशाला में चर्चा का विषय

आगामी 26,27 और 28 अक्टूबर को नालंदा कॉलेजिएट प्लस टू विद्यालय में मुख्यमंत्री विद्यालय सुरक्षा कार्यक्रम के तहत कार्यशाला का आयोजन किया जाएगा। कार्यशाला में सड़क सुरक्षा के तहत बचाव और विद्यालयों में बच्चों की सुरक्षा विषय पर परिचर्चा की जाएगी। डीईओ केशव प्रसाद ने बताया कि कार्यशाला का मुख्य उद्देश्य मुख्यमंत्री विद्यालय सुरक्षा कार्यक्रम के तहत विद्यालय के बच्चे जोखिम न्यूनीकरण की तरफ कितने अग्रसर हुए है,इसपर चर्चा करनी है। डीईओ ने बताया कि सभी सड़क किनारे विद्यालयों को यातायात मार्गदर्शिका का शत-प्रतिशत पालन करने का दिशा-निर्देश दिया गया है। इसको लेकर विद्यालयों के शिक्षकों को मास्टर ट्रेनरों द्वारा प्रशिक्षण भी दिया गया है। उन्होने बताया कि नई सड़कों के निर्माण एवं गाड़ियों की बढ़ती संख्या से भी दुर्घटनाएं बढ़ रही है। थोड़ी सावधानी बरतकर एवं सजग होने के साथ-साथ नियमों का पालन कर इन दुर्घटनाओं से होने वाली मौतों को कम कर सकते है। उन्होने बताया कि बच्चों की सुरक्षा घर से विद्यालय एवं विद्यालय से पुनः घर लौटने तक होनी चाहिए।
कार्यशाला में ये होंगे शामिल
प्रशांत प्रियदर्शी,भावेश कुमार,रंजन कुमार,राकेश कुमार,डॉ अभिनव कुमार

सड़क सुरक्षा के तहत कितने बच्चों ने किया अपने आदत में बदलाव ।मास्टर ट्रेनर डॉ अभिनव कुमार ने बताया कि कार्यशाला में घर से विद्यालय और विद्यालय से घर तक सुरक्षित लौटने की कोशिश को किस हद तक बच्चों ने आत्मसात किया है। इस बातों पर जिले से आए प्रतिनिधियों के बीच परिचर्चा की जाएगी। उन्होने बताया कि सुरक्षित बिहार के निर्माण की शर्त है कि बिहार के हर नागरिक में आपदाओं के जोखिम की पहचान,उनकी समझ एवं निपटने की क्षमता का विकास हो सके। वाहन चलाते समय यातायात के नियमों का शत प्रतिशत पालन करना चाहिए। उन्होने बताया कि प्रशिक्षण के दौरान शिक्षकों को बच्चों को यातायात नियमों की जानकारी देने के बारे में भी बताया गया था। ताकि बच्चे अपने परिवार, समाज एवं सम्पर्क में रहने वाले सभी लोगों को भी वाहन चलाते समय यातायात के नियम का पालन के लिए प्रेरित करें। इन सभी बिन्दुओं पर कार्यशाला में चर्चा होगी कि बच्चों ने सड़क सुरक्षा तहत अपनी आदत में कितने बदलाव लाए है।

मार्गदर्शिका में दिए गए निर्देश। मास्टर ट्रेनर प्रशांत प्रियदर्शी ने मार्गदर्शिका के बारे में बताया कि व्यस्त सड़कों पर छोटे बच्चों को साइकिल नहीं देने, ऐसे विद्यालय जिनके मुख्य सड़क पर गेट बना हो उसे बंद रखने, मुख्य गेट के पास स्पीड ब्रेकर बनाने, दो पहिए वाहनों पर बैठे बच्चों को सोने नहीं देने, 18 वर्ष से कम उम्र के बच्चों को दो पहिए या चार पहिए वाहनों को चलाने नहीं देने, अगर 18 साल से अधिक उम्र का हो तो उसे वाहनों को चलाने के लिए लाइसेंस बना लेने की जानकारी दी गई है। बच्चों को यह भी बताएं कि दो पहिया वाहन चलाते समय हेलमेट का उपयोग निश्चित रूप से करें,वाहन चलाते समय मोबाइल का प्रयोग नहीं करें,ट्रैफिक लाइट के अनुसार चले एवं सावधानी बरते,बच्चों को सड़क के किनारे फुटबॉल,क्रिकेट खेलने से रोके सहित यातायात नियमों के बारे में जागरूक करने संबंधी जानकारी दी गई है।

कार्यशाला में कब कौन होंगे शामिल
6-10-2021- राजगीर एवं हिलसा अनुमंडल के सभी प्रखंड - उच्च विद्यालय के सभी प्रधानाध्यापक एवं प्रखंड साधन सेवी
27-10-2021- बिहारशरीफ़ अनुमंडल एवं मदरसा,संस्कृत विद्यालय- उच्च विद्यालय के सभी प्रधानाध्यापक एवं प्रखंड साधन सेवी,मदरसा एवं संस्कृत विद्यालय के प्रतिनिधि
28-10-2021- सभी प्रखंड के निजी विद्यालय,महाविद्यालय,सैनिक स्कूल,नवोदय विद्यालय एवं केंद्रीय विद्यालय- 6 से 12 तक संचालित निजी विद्यालय के संचालक,महाविद्यालय के प्रतिनिधि,सैनिक स्कूल,नवोदय विद्यालय तथा केंद्रीय विद्यालयों के प्राचार्य व उनके प्रतिनिधि।

खबरें और भी हैं...