पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

बिहारशरीफ:बूथों पर मेडिकल कचरा निस्तारण के लिए रखे जाएंगे पीले डस्टबिन

बिहारशरीफ8 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • कोरोना संक्रमण को रोकने के लिए निर्वाचन आयोग की गाइडलाइन के अनुसार स्वास्थ्य विभाग तैयारियों को अंतिम रूप देने में जुट गया
  • पहले आओ- पहले पाओ के आधार पर मिलेगा टोकन

कोरोना को लेकर इस बार का चुनाव कई मायनों में अलग होगा। बूथों पर कई नई सुविधाएं देखने को मिलेंगी। कई नए नियमों का भी पालन करना होगा। जिले में 3 नवंबर को मतदान होना है।जिसे देखते हुए कोरोना संक्रमण को रोकने के लिए निर्वाचन आयोग के गाइडलाइन्स के अनुसार स्वास्थ्य विभाग तैयारियों को अंतिम रूप देने में जुट गया है।

मतदान केंद्रों पर संक्रमण से बचाव के लिए हाथ धोने का साबुन, सैनिटाइजर व मास्क की व्यवस्था की जा रही है। जिला प्रशासन व स्वास्थ्य विभाग के द्वारा मतदान कर्मियों व मतदाताओं को मास्क लगाने, साबुन से हाथ धोने व शारीरिक दूरी के नियमों का पालन करने को लेकर जागरूक भी किया जा रहा है। मतदान कर्मियों के लिए पर्याप्त संख्या मास्क, ग्लब्स, पीपीटी किट के साथ सैनिटाइजर के भी इंतेजाम किये जा रहे हैं।
डस्टबिन में डाले जाएंगे ग्लब्स और पीपीई किट: मतदान केंद्रों पर साबुन, ग्लब्स आदि के साथ-साथ पीले रंग के डस्टबिन भी रखे जाएंगे। जिनमें अलग-अलग ग्लब्स, मास्क के साथ-साथ मतदान कर्मियों को दिए जाने वाले पीपीई किट डाले जाएंगे। मतदान कर्मियों को इस संबंध में प्रशिक्षण के दौरान जानकारी दे दी गई है। साथ ही मतदाताओं को भी इस संबंध में जागरूक किया जा रहा है। सीएस ने बताया कि कितने डस्टबिन व अन्य जरूरी संसाधनो की जरूरत पड़ेगी,इसका आकलन किया जा रहा है।
मतदान से पहले थर्मल स्क्रीनिंग

सिविल सर्जन डॉ. राम सिंह ने बताया कि मतदान की पूरी प्रक्रिया निर्वाचन आयोग के गाइडलाइन्स के अनुसार पूरी होगी। गाइडलाइन्स के अनुसार मतदान के पूर्व सभी कर्मियों की थर्मल स्क्रीनिंग की जाएगी। साथ ही केंद्रों पर वोट डालने के लिए आने वाले मतदाताओं की भी जांच की जाएगी। इसके लिए आशा कर्मियों को प्रशिक्षित किया जा चुका है।

यदि किसी मतदाता के शरीर का तापमान अधिक पाया जाएगा, तो उन्हें कुछ देर के लिए बैठाया जाएगा। 15 मिनट बाद उनकी दोबारा जांच होगी। यदि तापमान सामान्य होगा तभी उन्हें मतदान करने की अनुमति दी जाएगी। वअगर तापमान सामान्य नहीं हुआ, तो उन्हें मतदान के अंतिम एक घंटे में वोट देने की अनुमति दी जाएगी।
टोकन के आधार पर कराई जाएगी वोटिंग: मतदाताओं को पहले ‘आओ-पहले पाओ के आधार’ पर टोकन दिया जाएगा। ताकि लोगों को कतार में इंतजार नही करना पड़े। इसके अलावा बूथों पर शारीरिक दूरी का पालन करना के लिए जमीन पर निशान भी बनाए जाएंगे। उन्होंने बताया कि दो मतदाताओं के बीच कम से कम 6 फीट की दूरी होगी।

महिला व पुरुष मतदाताओं के लिए अलग-अलग टेंट लगाए जाएंगे। जहां वह अपने टोकन का नंबर आने का इंतजार करेंगे। सभी केंद्रों के मुख्य द्वार पर साबुन और पानी उपलब्ध कराया जाएगा। उन्होंने बताया कि चुनाव आयोग के गाइडलाइंस का पूरी तरह से पालन होगा।

खबरें और भी हैं...