पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

परेशानी:नगर की सफाई कर काली स्थान के आसपास के सड़क पर डंप कर रहे कचड़े, दुर्गंध से परेशानी बढ़ी

बिक्रमगंजएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक

नगर सरकार के द्वारा घर से निकलने वाले कचरे को उठाकर सड़क के किनारे यत्र तत्र फेंका जा रहा है। डुमराव रोड हो काव नदी पुल पटेल कॉलेज के निकट धन गाई में तालाब के निकट तो काली स्थान के आसपास सड़क के किनारे भी कचरे को डंप किया जा रहा है। सबसे आश्चर्य की बात है कि थाना चौक के निकट शिव मंदिर से थोड़ी ही दूरी पर खुलेआम कचरे को गलियों एवं सड़कों से निकालकर फेंका जा रहा है। जिससे निकलने वाले दुर्गंध आवागमन करने वाले लोगों को परेशान जरूर करते हैं। ऐसा नहीं है कि मेन रोड के किनारे शिव मंदिर के निकट यह जो कचरे डंप किए जाते हैं। उसी रास्ते से आने जाने वाले नगर सरकार के अधिकारी अनुमंडल के आला अधिकारियों को नहीं दिखाई पड़ते होंगे और बात है कि इनके गाड़ियों के शीशे बंद रहते हैं तो दुर्गंध तक नहीं पहुंच पाती है।

बिक्रमगंज का हृदय स्थली कहा जाने वाला सासाराम रोड मुख्य मार्केट में डीएसपी आवास के निकट बने नाले की उड़ा ही नहीं किए जाने से बारिश का पानी सड़कों पर यही पसर जाता है। ऐसा नहीं है कि इसे अधिकारी नहीं जानते हैं वार्ड नंबर 3 के वार्ड पार्षद पूर्व उपाध्यक्ष गुप्तेश्वर प्रसाद गुप्ता ने बताया कि कई बार सफाई करने वाले एनजीओ से बोला गया।

नही हुआ क्षेत्र विस्तार, लेकिन बढ़ गया सफाई पर खर्च
पहली बार जब नगर पंचायत से नगर परिषद की घोषणा हुई थी तो उस वक्त नगर अध्यक्ष रंजू देवी हुआ करती थी। उस समय अवधि समाप्त होने पर अनुमंडल अधिकारी के अधीन चल रहे नगर सरकार में 4,60000 तक एनजीओ सफाई करने के लिए दिए जाते थे। नई सरकार के गठन पार्क इसी एनजीओ के द्वारा उतने ही रकम में कुछ माह तक कार्य किए गए। लेकिन सितंबर माह से इसे बढ़ाकर 17 लाख रुपए किया गया। कुछ दिन तक चला।

खबरें और भी हैं...