पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

सरगर्मी बढ़ी:कोई कर रहा अपने कार्यों की बखान तो योजना में लूट की खोल रहा पोल, सभी कर रहे अपने-अपने दावे

बिक्रमगंज16 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
  • विभिन्न पंचायतों के वार्डों में वोट के लिए जोड़-तोड़ शुरू

त्रिस्तरीय पंचायत चुनाव को लेकर गांव में राजनीतिक सरगर्मी काफी तेज हो गई है संभावित उम्मीदवार अपने अपने समर्थक को लेकर पंचायत के वार्ड में जनसंपर्क अभियान शुरू कर दिए हैं। पंचायत चुनाव को लेकर उम्मीदवार अपने अपने इलाकों से मनपसंद चुनाव लड़ने को लेकर अभियान काफी बढ़ा दिया है।

वैसे नोखा प्रखंड का पंचायत चुनाव दसवीं चरण में होना है। लेकिन प्रत्याशी अभी से अपनी जीत सुनिश्चित करने के लिए पंचायत के गांव एवं एक एक घरों तक संपर्क स्थापित कर अपनी जीत सुनिश्चित करने में लगे हैं। इस बार के चुनाव में हर कोई का वार्ड सदस्य प्रति ज्यादा रुझान देखने को मिल रहे हैं।

पिछली पंचायत सरकार में सरकार द्वारा वार्ड सदस्य को ज्यादा अधिकार देने के बाद इस बार वार्ड सदस्य पद के लिए सबसे ज्यादा उम्मीदवार क्षेत्र में भ्रमण कर रहे हैं। इस बार के पंचायत चुनाव में प्रत्याशी अपनी जीत सुनिश्चित करने के लिए प्रत्याशी पंचायत के वार्डों में वोट की जोड़-तोड़ भी शुरू कर दी है।

बाहरहाल अभी चुनाव दसवीं चरण में होने हैं। मुखिया पंचायत समिति सदस्य जिला परिषद सदस्य समेत पंचायत के नए पुराने उम्मीदवार अभी से मैदान में उतर कर वोटरों को रिझाने में लग गए हैं। वर्तमान जीते हुए जनप्रतिनिधि के साथ साथ पिछले चुनाव में दूसरे नंबर रहे उम्मीदवार भी इस बार फिर मैदान में ताल ठोकने को तैयार हैं।

निवर्तमान जनप्रतिनिधियों की प्रतिष्ठा लगी है दांव पर
पिछली बार पंचायत चुनाव में जीत हासिल कर जनता के वादे पर खरे नही उतरने वाले जनप्रतिनिधियों की इस बार उनके लिये जीत थोड़ी टेढ़ी दिखाई पड़ रही है।नोखा प्रखंड के पंचायत चुनाव में निवर्तमान जनप्रतिनिधियों में फेरबदल होने की संभावना भी दिखाई पड़ रही है। वोटर इस बार किसी प्रत्याशी के झांसे में आते नही दिखाई दे रहे है।

वर्तमान प्रतिनिधि अपने पांच साल के कार्यों का कर रहे गुणगान
निवर्तमान जनप्रतिनिधि अपने अपने क्षेत्र में 5 साल में कराया गया कार्यों का बखान करने से नहीं थक रहे हैं। त्रिस्तरीय पंचायत चुनाव की सुगबुगाहट धीरे धीरे नोखा प्रखंड में जोर पकड़ने लगी है। वही वर्तमान जनप्रतिनिधि की धड़कन भी तेज होने लगी है। वर्तमान जनप्रतिनिधि अपनी कुर्सी बचाने के लिए जी तोड़ मेहनत कर रहे हैं।वही उनके विपक्ष में खड़े होने वाले उम्मीदवार को मान मनव्वल भी शुरू हो चुका है।

दोबारा चुनाव जीतने के लिए निवर्तमान जनप्रतिनिधियों द्वारा हर एक घर मे जाकर अपने वोटर को समझने और अपने पक्ष में करने पर तुले है।पिछली चुनाव में किये गए वादे को छूट जाने के बाद इस बार मे पूरा करने का आश्वासन दे रहे है।

खबरें और भी हैं...