पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

ऑक्सीजन की किल्लत:ऑक्सीजन के लिए हाहाकार, हथियारों के साए में लाने पड़े सिलेंडर

बिक्रमगंज12 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
ऑक्सीजन गैस सिलेंडर के साथ परिजन। - Dainik Bhaskar
ऑक्सीजन गैस सिलेंडर के साथ परिजन।
  • औरंगाबाद स्थित बॉटलिंग प्लांट से ऑक्सीजन सिलेंडर लाए जाने के दौरान हो रही लूटपाट की कोशिश

कोरोना संक्रमित का तादाद बढ़ने के साथ ही ऑक्सीजन के लिए भी शहर में हाहाकार मच गया है। जिम्मेवार अधिकारियों के पास जब अस्पतालकर्मियों ने फोन किया तो कुछ देर में बता रहे हैं कहकर फोन काट दिया गया। दुबारा न अधिकारी बात किए और न ही फोन करने पर रिसीव ही किए। पीड़ित के ऑक्सीजन लेवल गिर रहा था परिजनों में कोहराम मचा हुआ था। अस्पतालकर्मी जब ऑक्सीजन सप्लायर से बात किए तो उन्होंने कहा कि औरंगाबाद से ऑक्सीजन लाने में कई तरह के दिक्कत हो रही है।

बीच रास्ते मे लोग लूट-पाट करने लग रहे हैं। प्रशासन सुरक्षा मुहैया कराए तो वह उपलब्ध करा सकते हैं। लेकिन प्रशासनिक अधिकारियों से जब सुरक्षा की बात कहा जा रहा है तो जिम्मेवार किसी तरह की जिम्मेवारी लेने से कनी काट रहे हैं। तब कोरोना संक्रमित के परिजन तैयार हुए और रायफल के साथ ऑक्सीजन सप्लायर के साथ औरंगाबाद पहुंचे और ऑक्सीजन लेकर रात के 1.30 बजे काेराेना अस्पताल पहुंचे। जहां पीड़ित को लगाया गया। इस तरह पूरी रात अस्पताल कर्मियों व परिजनों के बीच ऑक्सीजन को लेकर आपाधापी होती रही।

अस्पतालकर्मियाें काे हाेना पड़ रहा परिजनों का काेपभाजन
ऑक्सीजन की कमी को लेकर अस्पताल कर्मियों को भी संक्रमित मरीजों के परिजनों का कोपभाजन होना पड़ रहा है। जिस तरह के स्थिति बन रही है ऐसे हालात में अस्पताल कर्मी भी अपने को असुरक्षित महसूस कर रहे है। अस्पताल कर्मियों ने बताया कि आक्रोशित भीड़ द्वारा हाथापाई की नौबत उत्पन्न हो जा रहा है ऐसा ही हालात रहा तो जो कोविड-19 के मरीज एडमिट है उनके इलाज के बाद अस्पताल को ही बंद करना पड़ सकता है। ऑक्सीजन सप्लायर ने बताया कि पिकअप को नासरीगंज में पीड़ितों के आक्रोशित परिजनों ने रोक कर जोर जबर्दस्ती उतारने के कोशिश करने लगे।

प्लांट से ऑक्सीजन लाने के दाैरान नहीं दी जा रही सुरक्षा

औरंगाबाद बॉटलिंग प्लांट से उसका ऑक्सीजन गैस आता है ऐसे में उन्हें सुरक्षा नही दिया जाता है तो उसे ऑक्सीजन बिक्रमगंज लाने में दिक्कत है। रविवार को देर रात पीड़ित के परिजनों ने खुद बोलेरो से गैस सिलेंडर के पिकअप के साथ आए तो सुरक्षित बिक्रमगंज मुख्यालय पहुंचा। कोरोना संक्रमण के खतरनाक रुप को देख एक तो पहले से बिक्रमगंज के अधिकतर डॉक्टर अस्पताल बंद कर चुके हैं। ऐसे में जो अस्पताल इलाज कर रहे हैं उन्हें प्रशासन सुरक्षा उपलब्ध कराने में भी नाकाम दिख रहा है।

खबरें और भी हैं...

    आज का राशिफल

    मेष
    Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
    मेष|Aries

    पॉजिटिव- समय कड़ी मेहनत और परीक्षा का है। परंतु फिर भी बदलते परिवेश की वजह से आपने जो कुछ नीतियां बनाई है उनमें सफलता अवश्य मिलेगी। कुछ समय आत्म केंद्रित होकर चिंतन में लगाएं, आपको अपने कई सवालों के उत...

    और पढ़ें