जानकारी:पीएम ने सीधा संवाद में 75 फसलों के प्रभेदों के बारे में किसानों को दी जानकारी, मिलेगा लाभ

बिक्रमगंज सदर2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
कार्यक्रम में सम्मिलित वैज्ञानिक। पीएम के संवाद को सुनते किसान । - Dainik Bhaskar
कार्यक्रम में सम्मिलित वैज्ञानिक। पीएम के संवाद को सुनते किसान ।
  • ग्रीन शेड एवं पॉलीहाउस में खेती के बारे में दी जानकारी, लोग उठा सकते है अब लाभ

कृषक वैज्ञानिक समागम कार्यक्रम का आयोजन कृषि विज्ञान केंद्र, बिक्रमगंज के प्रांगण में किया गया। इस कार्यक्रम में आभासी माध्यम से प्रधानमंत्री द्वारा किसानों से सीधा संवाद के जरिए कृषि के कई उन्नत तकनीकों की जानकारी दी। प्रधानमंत्री ने सरकार के द्वारा चलाई जा रही योजनाओं एवं सुविधाओं के बारे में भी किसानों से जानकारी प्राप्त की। प्रधानमंत्री ने इस मौके पर मौसम के अनुकूल 75 फसलों के विभिन्न प्रभेदों को जनता को समर्पित किया। इस अवसर पर कृषि विज्ञान केंद्र बिक्रमगंज, रोहतास में जलवायु अनुकूल कृषि कार्यक्रम के अंतर्गत किसानों को मौसम से जुड़ी उनके क्षेत्र विशेष को ध्यान में रखते हुए खेती की विभिन्न तकनीकों से अवगत कराया। जैसे धान की सीधी बुवाई, ड्रम सीडर से बुआई, एकल धान का बिचड़ा रोपाई, मेड़ पर अरहर की बुआई आदि।
अवशेष नहीं जलाने की सलाह : कृषि विज्ञान केंद्र के वरीय वैज्ञानिक एवं प्रधान आर के जलज ने किसानों को मौसम अनुकूल खेती के तहत रबी मौसम में लगाए जाने वाले विभिन्न तकनीकों एवं विभिन्न प्रभेदो की जानकारी कृषकों को दी। उन्होंने कृषकों से यह आग्रह किया कि अपने खेतों में पुआल ना जलाएं। पुआल को राउंड स्ट्रॉबेल मशीन से जमा कर बाद के मौसम में पशु चारा के रूप में इस्तेमाल करें। इस अवसर पर वीर कुंवर सिंह कृषि महाविद्यालय के वैज्ञानिक डॉक्टर प्रकाश सिंह ने किसानों को धान के मध्यम अवधि, लंबी अवधि तथा कम अवधि के विभिन्न प्रजाति के बारे में विस्तृत रूप से जानकारी दी गई। उन्होंने धान फसल में लगने वाले झुलसा एवं एवं गलका बीमारी का इलाज बताया।
ग्रीन शेड एवं पॉलीहाउस में खेती के बारे में दी जानकारी :
इस अवसर पर कृषि विज्ञान केंद्र के वैज्ञानिक रतन कुमार ने जलवायु अनुकूल कृषि तथा सब्जी, फल- फूल की खेती के बारे में किसानों को बताया। उन्होंने ग्रीन शेड एवं पॉलीहाउस में खेती की जानकारी किसानों को दी। जिससे पानी की बचत होती है एवं प्रतिकूल मौसम में भी सब्जियों की खेती की जा सकती है। इस अवसर पर महाविद्यालय की छात्राओं ने किसानों को जलवायु अनुकूल कृषि की विभिन्न पद्धतियों के बारे में विस्तार पूर्वक चर्चा की। कार्यक्रम में 250 विभिन्न प्रखंडों के किसानों ने शिरकत की। किसान संतोष कुमार, सोनू कुमार, यशवंत सिंह, अरविंद पांडेय, रामनरेश पांडेय, मीरा देवी सहित महिला एवं पुरुष किसानों ने भाग लिया। इस कार्यक्रम में ग्रामीण कृषि कार्य अनुभव में अध्ययनरत 19 छात्र एवं छात्राओं ने बढ़ चढ़कर हिस्सा लिया। कार्यक्रम में प्रवीण पटेल, अभिषेक कौशल, सुबेश कुमार, राकेश कुमार आदि मौजूद रहे।

खबरें और भी हैं...