पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

दमदारी से कर रहे चोरी:बखरी अनुमंडल में चोरी का नया ट्रेंड : पिकअप से लाद कर ले जा रहे एस्बेस्टस व बांस के टुकड़े

बखरी2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • पिछले दिनों 70 पीस 12 फीट वाले एस्बेस्टस को पिकअप पर लादकर ले गए चोर

बखरी अनुमंडल क्षेत्र में इन दिनों चोरों ने चोरी करने का नया ट्रेंड अपना लिया है। चोर चोरी की हालिया घटनाओं में पिकअप का इस्तेमाल कर दुकान के बाहर रखे एस्बेस्टस और बांस के टुकड़े को निशाना बनाना शुरू कर दिया है। प्राप्त जानकारी के अनुसार, एस्बेस्टस चोरी की घटना नावकोठी प्रखंड अंतर्गत हसनपुर बागर गांव से शुरू हुई।

यहां चोरों ने एक ही दुकान अमित ट्रेडर्स को तीन-तीन बार निशाना बनाया। चोरों के गिरोह ने सबसे पहले 18 मई की रात करीब 67 पीस एस्बेस्टस पिकअप पर लोड कर चलते बनें। दूसरी बार 21 मई की रात इसी दुकान से 72 पीस एस्बेस्टस को उठा लिया।इतना ही नहीं बेखौफ चोरों ने फिर से बीते आठ जून को इसी दुकान से 127 पीस एस्बेस्टस पिकअप पर लोड कर तीसरी बार दुस्साहस कर दिखाया।

इस तरह चोरों के गिरोह ने करीब दो लाख रुपये मूल्य के कुल 266 पीस एस्बेस्टस पर हाथ साफ कर दिया। इस घटना के ठीक चार दिन बाद चोरों के गिरोह ने 12 मई की रात बखरी प्रखंड सह अनुमंडल मुख्यालय जाने वाली मुख्य सड़क पर स्थित फरकिया सीमेंट की दुकान को अपना निशाना बनाया। जहां से करीब 70 पीस 12 फीट वाले एस्बेस्टस को पिकअप पर लादकर ले गए। जिसका बाजार मूल्य तकरीबन 50 हजार रुपये बताया गया है। इस घटना के ठीक तीन दिन बाद चोरों का गिरोह गढ़पुरा बाजार को अपना निशाना बनाया। जहां से बीते 15 जून मंगलवार की रात चोरों ने गौरव ट्रेडर्स की दुकान के आगे रखे करीब 70 पीस एस्बेस्टस को गायब कर दिया। जिसका भी बाजार मूल्य करीब 56 हजार रुपए बताया गया है। इस तरह चोरों ने तीनों प्रखंड से करीब तीन लाख रुपये मूल्य का एस्बेस्टस चोरी कर ले गए। अब यहां गौर करने वाली बात यह है कि चोर इतनी भारी मात्रा में चोरी किए गए एस्बेस्टस को किस बाजार में खपा रहे हैं।

बांस के टुकड़े काे पिकअप से ले भागा

इतना ही नहीं बुधवार की रात चोरों ने नावकोठी प्रखंड स्थित महेशवाड़ा चौर से सब्जी खेत में कद्दू में अलान लगाने के उद्देश्य से रखे गए किसान के करीब पांच सौ पीस बांस के टुकड़े चोरी कर लिए। जो अपने आप में चोरी की अनोखी घटना कही जा सकती है। लोगों की मानें तो चोरी की इस घटना में भी पिकअप से चोरी करने वाले गिरोह का हाथ होने की संभावना है।

चूंकि इतनी भारी मात्रा में बांस के टुकड़े को बगैर वाहन का इस्तेमाल किए चोरी किया जा नामुमकिन है। पीड़ित दुकानों के प्रोपराइटर की मानें तो एस्बेस्टस सब दिन दुकान के बाहर सामने में ही पड़ा रहता था। लेकिन आज तक चोरी की घटना कभी नहीं हुई। किन्तु इधर चोर पिकअप का इस्तेमाल कर एस्बेस्टस की चोरी करने लगे हैं। खास बात यह है कि चोरों ने चोरी का नया तरीका इजाद कर लिया है। अमूमन बाहर रखी जाने वाली महत्वहीन चीजों पर हाथ साफ कर माल बनाने में जुट गए हैं।

खबरें और भी हैं...