वर्चस्व की लड़ाई:करहसी में गोलीबारी में 6 आरोपी गिरफ्तार; नाटा सिंह ने बाहर से बुलाए थे समर्थक, उन्हीं से कराई थी फायरिंग

बक्सर2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

मुफ्फसिल थाना क्षेत्र के करहसी गांव में गोलीबारी मामले में पुलिस ने दोनों तरफ से छह आरोपियों को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया है। बताया जा रहा है कि सोमवार को दो मुखिया प्रत्याशी के बीच शक्ति प्रदर्शन को लेकर गोलीबारी की वारदात को अंजाम दिया गया था। रम्भा सिंह और डिंपी सिंह के परिजनों के बीच चल रहे विवाद को तूल को हाई प्रोफाइल बनाकर मतदाता की सहानुभूति के लिए नाटा सिंह ने साजिश किया था।

साजिश के तहत दर्जनों राउंड हवाई फायरिंग की गई थी। जिसमे नोनियापुर डेरा के कुख्यात संदीप यादव को भी बदनाम किया जाए। लेकिन, पुलिस ने समय रहते दोनों तरफ से छह आरोपियों को रात में छापेमारी कर गिरफ्तार कर लिया। गिरफ्तार सभी समर्थक और आरोपी दूसरे जगह के बताए जा रहे है।

नाटा सिंह ने मामले को टूल देने को लेकर राजपुर थाना क्षेत्र के डेहरी गांव से कुछ लोगो को बुलाए थे। नाटा सिंह गिरफ्तार आरोपियों की पहचान राजपुर थाना क्षेत्र के डिहरी गांव के पवन राम, विकास राम और मुफस्सिल थाना के करहसी के लक्ष्मण चौबे को पुलिस ने गिरफ्तार किया।

वहीं, मुन्ना सिंह के समर्थकों की पहचान करहसी के श्रीकांत सिंह,शशिभूषण सिंह और संजय सिंह के रूप में गिरफ्तार किया गया है। पुलिस गिरफ्तार लोगों से पूछताछ कर लक्ष्य जुटाने में लगी हुई है। थाना प्रभारी अमित कुमार ने बताया कि करहसी गोलीबारी मामले में पुलिस ने छापेमारी कर छह लोगों को गिरफ्तार की है।

गिरफ्तार आरोपियों से पूछताछ कर जेल भेज दिया गया है। सोमवार को हुई फायरिंग किए बाद करहसी पंचायत चुनाव अब हॉट सीट बन गया गया। क्योकि, जीत को लेकर नाटा सिंह ने प्रतिष्ठा बना लिया है।

चौकीदार के बयान पर 36 लोगों पर केस दर्ज
थाना प्रभारी अमित कुमार ने बताया कि सोमवार को करहसी गांव में हुए गोलीबारी मामले में पुलिस ने चौकीदार के बयान पर छह नामजद और 30 अज्ञात लोगों पर केस दर्ज कराया गया। उन्होंने बताया की दोनों तरफ के लोगों पर आदर्श आचार संहिता और आर्म्स एक्ट का मुकदमा दर्ज किया गया है।

बताया जा रहा है कि सोमवार को हुई फायरिंग में बाहर के कार्यकर्ताओ के नाम सामने आया है। नाम सामने आते ही पुलिस ने मंगलवार की रात छापेमारी कर दूसरे जगह के छह समर्थकों को गिरफ्तार किया है।वही, छापेमारी के दौरान कई समर्थक अँधेरे का फायदा उठाते हुए पुलिस को चकमा देकर फरार हो गए। मुन्ना सिंह और नाटा सिंह मतदान करने को लेकर दिन रात एक किए हुए हैं।

खबरें और भी हैं...