कोविड-19:रविवार की रात पुणे-मुंबई से आये 268 यात्रियों में 9 पॉजिटिव, 2 संक्रमित भागे

अजय राय | बक्सर8 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

रविवार की रात मुंबई और पुणे से आने वाले 268 यात्रियों की कोविड जांच की गई। जिसमें 9 यात्री कोरोना पॉजिटिव पाए गए। स्टेशन पर लचर व्यवस्था के कारण दो पॉजिटिव मरीज डॉक्टर को चकमा देकर फरार हो गए। बाकी सभी पॉजिटिव मरीजों को एंबुलेंस से जिला आइसोलेशन सेंटर भेजा गया। पुणे से आने वाली उत्तर प्रदेश के भरौली जा रही एक महिला यात्री की जांच रिपोर्ट पॉजिटिव मिली। रिपोर्ट आने के बाद महिला को अलग बैठाया गया था। ताकि संक्रमण का प्रसार न हो। लेकिन, स्टेशन पर अधिक यात्रियों के भीड़ होने और सुरक्षा की लचर व्यवस्था के कारण महिला चकमा देकर अपने परिजनों के साथ निकल गयी।

वही, दूसरा पुरुष मरीज एंबुलेंस में बैठने के दौरान डॉक्टर को चकमा देकर भागने में सफल रहा। डॉक्टरों का कहना है कि सुरक्षा की लचर व्यवस्था के कारण जांच के दौरान सोशल डिस्टेंसिंग और पॉजिटिव पाए गए मरीजों की सुरक्षा नहीं हो पा रहा है। जिसके कारण जिले में कोरोना विस्फोट होना तय है। वहीं सुरक्षा व्यवस्था पुख्ता नहीं होने के कारण सैकड़ों यात्री पिछले गेट से निकल कर भाग रहे हैं। पुणे-दानापुर एक्सप्रेस से उतरे 121 यात्रियों का सैंपल जांच किया गया। जिसमें एक सैम्पल पॉजिटिव पाया गया। मुम्बई लोकमान्य तिलक एक्सप्रेस उतरे 147 यात्रियों में से 8 यात्री पॉजिटिव पाए गए। जिसमें 2 यात्री डॉक्टर को चकमा देकर फरार होने में सफल रहे।

स्टेशन पर सुरक्षाकर्मी कर रहे मनमौजी ड्यूटी
प्रशासन की ओर से दावा किया जा रहा है कि ट्रेन से उतरे यात्रियों को कोरोना जांच करने को लेकर डॉक्टरों की टीम के साथ पर्याप्त मात्रा में सुरक्षा बल स्टेशन पर तैनात किए गए है।लेकिन, तैनात सुरक्षाकर्मी मनमौजी ड्यूटी करते नजर आ रहे। जिससे जांच प्रभावित हो रहा है। सुरक्षाकर्मियों की लापरवाही के कारण स्टेशन पर कोविड जांच कर रहे डॉक्टर खुद सुरक्षा और सोशल डिस्टेंस का पालन कराने में लग गए थे। सुरक्षा व्यवस्था में तैनात पुलिसकर्मियों की लापरवाही के करण पुणे और मुंबई से आने वाले यात्री प्लेटफार्म के पीछे से उतर कर मुसाफिर गंज होते हुए अपने घर जा रहे हैं।

खबरें और भी हैं...