आज पूजी जाएंगी मां सिद्धिदात्री:11 लाख लोगों का लौटा आत्मविश्वास, 500 स्थानों पर सजे मां के द्वार, शारदीय नवरात्रि के आठवें दिन मां महागौरी की श्रद्धालुओं ने की आराधना

बक्सर2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
मठिया मोड़, नया बाजार - Dainik Bhaskar
मठिया मोड़, नया बाजार

बुधवार को जिले में मां जगदंबा के आठवां स्वरूप मां महागौरी की पूजा की गई। गुरुवार को मां सिद्धिदात्री की पूजा की जाएगी। दो वर्षों के बाद पहला मौका है जब श्रद्घालु कोरोनामुक्त उत्सव मना रहे हैं। महामारी से मुक्ति के लिए मां जगत जननी से कामना की गई। जिले में 500 से अधिक स्थानों पर मां जगतजननी की पूजा की जा रही है।

पूजा पंडालों के पास लोगों की भीड़ देर रात तक देखी गई। हालांकि स्वास्थ्य विभाग ने लोगों को कोविड प्रोटोकॉल का पालन करने की सलाह दी है। जिले में लगभग 11 लाख लोगों को वैक्सीनेट कर दिया गया है। इस कारण लोगों का आत्मविश्वास बढ़ा है। शहर के जगमगाते लाइटों व झालरों ने देवलोक की छटा बिखेर दी है। सुबह से ही श्रद्धालु मंदिर में दर्शन को उमड़ रहे हैं।

सज गए पंडाल, पहुंचेंगे श्रद्धालु
मां दुर्गा की नौवीं स्वरूप मां श्री सिद्धिदात्री हैं। जो सभी प्रकार की की सिद्धियों की दाता हैं। नवरात्रि के नवम दिन इनकी पूजा और आराधना की जाती है। धनसोई निवासी ज्योतिषाचार्य डॉ. रामशब्द पाण्डेय ने बताया कि सिद्धिदात्री माता की कृपा से मनुष्य सभी प्रकार की सिद्धियां प्राप्त कर मोक्ष पाने में सफल होता है।

मार्कण्डेयपुराण में अणिमा, महिमा, गरिमा, लघिमा, प्राप्ति, प्राकाम्य, ईशित्व व वशित्वये आठ सिद्धियां बतलायी गयी है। भगवती सिद्धिदात्री यह सभी सिद्धियां अपने उपासक को प्रदान करती हैं। इसलिए मां की इस स्वरूप की पूजा मन से छल कपट, भेदभाव असहिष्णुता निकाल कर करनी चाहिए।

पुड़ी, रोट, हलवा का भोग लगा
शारदीय नवरात्र के आठवें दिन मां महागौरी की पूजा की गई। इस दौरान महा निशा पूजा भी की गई। जहां वैदिक मंत्रोचार के बीच मां की पूजा अराधना की गई। शहर के विभिन्न मुख्य सड़कों पर बनाए गए हैं। जहां मां अलग-अलग मुद्रा में विराजमान हैं। इस बीच मां को अलग-अलग प्रकार के व्यंजनों का भोग लगाया गया।

महा निशा पूजा के दौरान मां महा गौरी को 56 प्रकार के भोग लगाया गया। जहां पुड़ी, दही, रोट, हलवा, फल, नारियल, मेवा, पान, कसैली, लौंग इलायची समेत विविध प्रकार के व्यंजन का भोग लगाया गया। वहीं माता के आठवें स्वरूप को दर्शन व पूजन करने के लिए शहर के विभिन्न पूजा पंडालों समेत मंदिरों में सुबह से देर रात तक भक्तों का जमावड़ा लगा रहा। दुसरी ओर शहर के रामरेखा घाट स्थित मंदिर, नाथ मंदिर, पंचमुखी हनुमान मंदिर, गौरीशंकर मंदिर समेत विभिन्न मन्दिरों में भी भक्तों का पूजा आराधना का दौर जारी रहा है।

आंबेडकर चौक।
आंबेडकर चौक।
खबरें और भी हैं...