आयोजन:विद्यालयों में हुई साक्षरता अभियान की जांच परीक्षा

चौगाई9 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • चौगाई में 15 वर्ष से लेकर 45 वर्ष तक की महिलाओं को साक्षर बनाने का चला यह टेस्ट

चौगाई प्रखंड के लगभग 4 विद्यालयों में 15 वर्ष से लेकर 45 वर्ष तक की महिलाओं को साक्षर बनाने के लिए टेस्ट परीक्षा का आयोजन किया गया। इस आयोजन के लिए विगत 6 महीने से टोला सेवक लगे हुए थे। इन टोला सेवकों के द्वारा ढूंढ ढूंढ कर ऐसी महिलाओं को साक्षर करने का काम किया जा रहा था। जिन को पढ़ना लिखना नहीं आता था।

उन महिलाओं को विगत 6 महीने से अलग-अलग जगहों पर टोला सेवकों के द्वारा साक्षर बनाने का काम किया जा रहा था। इसी कार्यक्रम के तहत इनके पढ़ाई के उपरांत इमलोगो का बुनियादी साक्षरता अभियान के तहत टेस्ट परीक्षा का आयोजन माझी प्राथमिक विद्यालय चौगाई में किया गया। इसके अलावे चौगाई प्रखंड के इंदिरा आवास कॉलोनी नोखपुर, मध्य विद्यालय खेवली, आदर्श मध्य विद्यालय लक्ष्मीपुर चौगाई में यह टेस्ट परीक्षा का कार्यक्रम चलाया गया।

इस कार्यक्रम की देखरेख केआरपी मीना विश्वकर्मा कर रही थी। वही इस कार्यक्रम की निरीक्षण का कार्य विभिन्न विद्यालयों पर बीआरपी प्रवीण कुमार के द्वारा किया गया। इस मौके पर बोलते हुए बीआरपी प्रवीण कुमार ने कहा कि आज भी हमारे समाज में ऐसे लोग हैं। जिनको अभी अपना हस्ताक्षर करने तक नहीं आता। इसी कार्यक्रम के तहत महिलाओं को साक्षर बनाने के लिए यह कार्यक्रम बिहार सरकार के द्वारा चलाया जा रहा है।

ताकि यह महिलाएं भी कम से कम अपना हस्ताक्षर कर ले। वहीं उन्होंने कहा कि इसके लिए विभिन्न विद्यालयों का चयन किया गया। जहां पर प्रत्येक विद्यालयों से 50 50 महिलाओं का जत्था को एक टेस्ट परीक्षा लिया गया। इस टेस्ट परीक्षा के बाद इन लोगों को सर्टिफिकेट भी बुनियादी साक्षरता अभियान के तहत दिया जाएगा। जिससे समाज में इनका मान सम्मान बढ़ेगा। वहीं इस टेस्ट परीक्षा में मुख्य भूमिका निभाने वाले टोला सेवकों में रवि किशन,सहीना खातून, अजमेर अख्तर,जिन्नत कौशर की भूमिका महत्वपूर्ण रही।

खबरें और भी हैं...