सतर्कता जरूरी:खतरे के निशान से 16 सेमी नीचे बह रही गंगा, पांच प्रखंड बाढ़ की चपेट में

बक्सर3 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
सड़क पर चढ़ा बाढ़ का पानी - Dainik Bhaskar
सड़क पर चढ़ा बाढ़ का पानी
  • शनिवार दाेपहर तीन बजे तक गंगा नदी का जलस्तर 59.54 सेंटीमीटर दर्ज किया गया
  • 60.32 सेंटीमीटर मापा गया है जिले में गंगा नदी में खतरा का निशान, विभाग अलर्ट

शनिवार को गंगा नदी खतरे के निशान के करीब पहुंच गई है। गंगा नदी में आई बाढ़ का लेबल खतरे के निशान से महज 16 सेंटीमीटर नीचे है।गंगा नदी में आई बाढ़ का पानी जिले पांच प्रखंडों को अपनी आगोश में ले लिया है।जानकारी के मुताबिक बरहमपुर, चक्की,सिमरी,चौसा और इटाढ़ी प्रखंड के रिहायशी इलाके में बाढ़ का पानी प्रवेश कर गया है।

केंद्रीय जल आयोग के कनीय अभियन्ता नीलाम्बर शर्मा ने बताया कि शनिवार को चार बजे शाम को गंगा नदी का जलस्तर खतरे के निशान से महज 16 सेंटीमीटर नीचे बह रही है। उन्होंने बताया कि तीन बजे तक गंगा का जलस्तर 59.54 सेंटीमीटर दर्ज किया गया। जिले का खतरा का निशान 60.32 सेंटीमीटर मापा गया है।

उन्होंने बताया की गंगा नदी शनिवार की सुबह 8 बजे ही चेतावनी बिंदु 59.78 दर्ज किया गया। 24 घंटे में 2 सेंटीमीटर के रफ्तार से बढ़ोतरी दर्ज किया है। अगर इसी रफ्तार से बढ़ोतरी होती रही तो रविवार की सुबह तक गंगा नदी खतरे के निशान के पार पहुंच जाएगी गंगा। बताते चले की सुबह 8 बजे गंगा नदी 59.78 सेंटीमीटर दर्ज किया वही,चार बजे गंगा का जल स्तर बढ़ते 60.16 सेंटीमीटर दर्ज किया गया। 9 घंटे के अंदर गंगा का रफ्तार 3 सेंटीमीटर कि रफ्तार से 28 सेंटीमीटर दर्ज किया है।

रिहायशी इलाके में प्रवेश किया बाढ़ का पानी
गंगा नदी में आई बाढ़ का पानी जिले के रिहायशी इलाके में प्रवेश कर गया है। जिले ब्रह्मपुर, चक्की,सिमरी,चौसा और इटाढ़ी क्षेत्र में बाढ़ का पानी गांव की तरफ बढ़ रहा है। आई बाढ़ से कई गांव के सम्पर्क पथ से सम्पर्क टूट गया है। सड़क पर पानी बहने के कारण लोग गांव के दूसरे रास्ते से बाहर निकल रहे है। वहीं जिला प्रशासन ने लोगों से धैर्य बनाए रखने की अपील की है।

खबरें और भी हैं...