पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

जन्माष्टमी:घर से ही किया जय कन्हैया लाल की... सोशल मीडिया पर शेयर की गईं बाल गोपाल की वेशभूषा में बच्चों की तस्वीरें

बक्सर2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

जिला मुख्यालय समेत सभी प्रखंडों में गृहस्थ श्रीकृष्ण जन्माष्टमी धूमधाम से गई है। लेकिन, कोरोनकाल और 16 अगस्त तक लॉक डाउन के कारण कहीं भी सार्वजनिक आयोजन नहीं हुआ। मंदिरों में भी लोगों की भीड़ नहीं देखी गई। ऐसे में यह जरूर कहा जा सकता है कि इस वर्ष कोरोना के कारण श्री कृष्ण जन्माष्टमी घरों व सोशल मीडिया तक ही सीमित रह गया।

इस क्रम में सुबह में लोगों ने पूजा अर्चना करने के बाद बच्चों को गिरधर गोपाल और राधे के परिधानों से सुसज्जित कर सेल्फी और फोटो क्लिक की। जिसे फेसबुक, ट्वीटर आदि सोशल प्लेटफॉर्म पर जमकर शेयर किया गया। इस क्रम में बच्चे मुंह पर मास्क लगाकर कोरोना से बचाव का संदेश देते नजर आए। बच्चों का कहना है कि इस बार कोरोना से बचाव पर ही सारा फोकस है। अगली बार मटकी जरूर फोड़ेंगे। वहीं, रंगारंग परिधानों में सजे बच्चों के लिए मंगलवार का दिन बेहद खास रहा।

नियमों का पालन करते हुए सुरक्षित रहकर त्योहार मनाने की धर्मगुरुओं ने की अपील
राज्य सरकार ने 16 अगस्त तक लॉक डाउन की घोषणा की है। वहीं, केंद्र सरकार के गृह मंत्रालय की अधिसूचना में भी 16 अगस्त तक सभी मंदिरों को आम जनता के लिए बंद रखने का भी निर्देश दिया है। इस क्रम में बिहार इंटरफेथ फोरम फॉर चिल्ड्रेन (बीआईएफसी) बिहार के सभी प्रमुख धार्मिक तथा अध्यात्मिक संगठनों का स्वैच्छिक मंच है।

बीआईएफसी सदस्य गायत्री परिवार के डॉ. अशोक कुमार, आत्म कल्याण केंद्र से आचार्य सुदर्शन जी महाराज और ब्रह्मकुमारी इस्वरीय विश्वविद्यालय से राजयोगिनी संगीता बहन, बी के ज्योति बहन ने लोंगों से अपील करते हुए कहा है कि श्री कृष्ण जन्माष्टमी लोग घरों में ही मनाए और संक्रमण से सबको बचाएं। साथ ही मंदिर के बाहर व अंदर बिल्कुल भीड़ न लगाए; मास्क पहन कर ही घर से बाहर निकले। दही हांडी जैसी सामूहिक गतिविधियों का आयोजन नहीं करें।

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- अगर आप कुछ समय से स्थान परिवर्तन की योजना बना रहे हैं या किसी प्रॉपर्टी से संबंधित कार्य करने से पहले उस पर दोबारा विचार विमर्श कर लें। आपको अवश्य ही सफलता प्राप्त होगी। संतान की तरफ से भी को...

और पढ़ें