पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

घायल होने के बाद से 35 लाख इलाज पर खर्च:पैसे के लिए खिलाड़ी का पैर काटने वाले डॉक्टर को 99 लाख हर्जाने का नोटिस,बक्सर उपभोक्ता फोरम का फैसला

बक्सर12 दिन पहलेलेखक: मंगलेश तिवारी
  • कॉपी लिंक

चंद पैसों के लालच में जख्मी छात्र ओंकारनाथ का पैर काट देने वाले डॉक्टर से 99 लाख 76 हजार रुपए की क्षतिपूर्ति के लिए जिला उपभोक्ता फाेरम ने डॉक्टर व अस्पताल प्रबंधन को नोटिस जारी किया है। 21 अप्रैल 2015 को एक सड़क दुर्घटना में उसे घुटने में चोट लगी थी। बेहतर इलाज के लिए बक्सर सदर अस्पताल के डॉक्टरों ने बनारस रेफर कर दिया। लेकिन, एम्बुलेंस चालक ने उसे बेवकूफ बनाकर बनारस के मैक्सवेल प्राइवेट हॉस्पिटल में भर्ती करा दिया। डॉक्टर ने पैसों के लालच में बेवजह उसका पैर काट दिया। एमओआईसी वाराणसी की जांच के बाद डॉक्टर को दोषी भी पाया गया।

इसके बाद बक्सर औद्योगिक थाने में एफआईआर दर्ज हुई। लेकिन, उसपर कोई कार्रवाई नहीं हुई। जिले के डीएवी स्कूल का पूर्व छात्र ओंकार खो-खो का जिला चैंपियन रहा है। बहरहाल वह डीयू के हंसराज कॉलेज से पीजी करने के बाद बायजूस कंपनी में ऑडिटर की नौकरी कर रहा है।

घायल होने के बाद से 35 लाख इलाज पर खर्च हुआ
ओंकारनाथ का बीएचयू वाराणसी से उसका इलाज चल रहा है। करीब 35 लाख रुपए खर्च हो गए हैं। ओंकार की मां मंटू देवी ने बताया कि उनपर 20 लाख रुपए कर्ज हो गए हैं। बीएचयू के डॉक्टरों ने इसी माह बताया कि नकली पांव लगाने के लिए उसका पैर पुनः काटना पड़ेगा। क्योंकि लापरवाही से पैर काटे जाने के कारण कृत्रिम पैर लगाना सम्भव नहीं है। 2013 में जब वह जिला स्तरीय खो-खो का सिरमौर बना था। वर्ष 2014 के हंसराज आर्यन टूर्नामेंट में उसने 1500 मीटर के रेस में भी बाजी मारी थी।

खबरें और भी हैं...

    आज का राशिफल

    मेष
    Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
    मेष|Aries

    पॉजिटिव- कुछ रचनात्मक तथा सामाजिक कार्यों में आपका अधिकतर समय व्यतीत होगा। मीडिया तथा संपर्क सूत्रों संबंधी गतिविधियों में अपना विशेष ध्यान केंद्रित रखें, आपको कोई महत्वपूर्ण सूचना मिल सकती हैं। अनुभव...

    और पढ़ें