लापरवाही:कवलदह पार्क में शराब का रैपर देख भड़के लोग, शराबियों का अड्डा बना एकमात्र पार्क

बक्सरएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
कवलदह पार्क में शराब पीकर फेंके गए पैकेट व गिलास देखते लोग। - Dainik Bhaskar
कवलदह पार्क में शराब पीकर फेंके गए पैकेट व गिलास देखते लोग।
  • कवलदह तालाब पार्क में महात्मा गांधी की प्रतिमा के पीछे शराब की खाली पाउच का रैपर मिला

शराबबंदी के नाम पर सरकार द्वारा नित नए नए फरमान जारी किए जाते हैं। पर इस पर सरकार के नुमाइंदे कितना सजग हैं, इसका जीता जागता उदाहरण बक्सर के स्टेशन रोड स्थित कवलदह पोखरा पार्क में देखने को मिल रहा है। बगल में शहीद स्मारक है तथा बापू की प्रतिमा भी लगी हुई है। पास में शहीद स्मारक भी है।

बापू की प्रतिमा के ठीक बगल में दर्जनों शराब के खाली रैपर एवं गिलास फेंकी गई है, जिसे देख लोग भी खुद भौचक हैं। इससे बड़ा बक्सर के लिए दुर्भाग्य की बात और क्या हो सकती है, जिस बापू ने ताउम्र शराब को हाथ नहीं लगाई तथा शराब के खिलाफ थे। उसी बापू की प्रतिमा के ठीक बगल में पियक्कड़ों का जमावड़ा लग रहा है।

लेकिन बक्सर के पुलिस एवं उत्पाद विभाग की टीम को इसकी भनक तक नहीं लग रही है। ऐसे पुलिस एवं अधिकारियों को क्या कहा जा सकता है। लोगों का कहना है कि आखिर सरकार शराबबंदी के नाम पर लोगों को क्यों गुमराह कर रही है। जबकि पियक्कड़ों को आराम से जब चाहे जहां चाहे शराब उपलब्ध हो जा रहा है। आखिर इसके लिए दोषी कौन है?

लोगों का कहना है कि जब किसी के घर से शराब की बरामदगी होती है तो उसके ऊपर कार्रवाई की जाती है। लेकिन जब सरकार के नुमाइंदों की लापरवाही से ऐसे कार्यों को अंजाम दिया जा रहा है तो क्यों नहीं उन पर कार्रवाई सुनिश्चित की जा रही है। कमलदह पोखरा पार्क में दर्जनों की संख्या में शराब के रैपर व गिलास का मिलना बक्सर जैसे धार्मिक एवं पौराणिक शहर के लिए शर्म की बात है।

दर्जनभर से अधिक फ्रूटी पैक का रैपर देख लोग दंग
बता दें कि इस पार्क में सुबह शाम टहलने वालों की भीड़ लगती है। ऐसे में लोगों ने जब बापू की प्रतिमा के बगल में काफी संख्या में शराब के रैपर एवं गिलास देखा तो एक बार तो अचंभित रह गए। लोग जमकर पुलिस एवं प्रशासन को कोस रहे थे। वहां टहलने वाले राजेंद्र गुप्ता, पंकज मानसिंहका, बृज मोहन प्रसाद ने बताया कि इस पार्क सूरज ढलते ही असामाजिक तत्वों का जमावड़ा लग जाता है।

लेकिन पुलिस इससे बेखबर है। या यूं कहा जाए कि पुलिस इसे जानबूझकर नजरअंदाज कर रही है। तभी तो पार्क में स्थित बापू की प्रतिमा के ठीक बगल में शराबियों का जमावड़ा लग रहा है। इसका जीता जागता उदाहरण बापू की प्रतिमा के बगल में शराब के खाली पड़ी दर्जनों रैपर एवं गिलासें हैं। अगर पुलिस समय रहते इस पर रोक नहीं लगाती है तो यह शहर ही नहीं पूरे जिले के लिए शर्म की बात है।

खबरें और भी हैं...