आक्रोश मार्च:जातीय जनगणना करवाने को राजद ने निकाला आक्रोश मार्च

बक्सर3 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
आक्रोश मार्च निकालते राजद विधायक व अन्य। - Dainik Bhaskar
आक्रोश मार्च निकालते राजद विधायक व अन्य।

बिहार अत्यंत पिछड़ा राज्य हैं और इस प्रान्त में बसी आबादी का अधिकांश दीर्घावधि से शोषित पीड़ित और काफी निर्धन व लाचार हैं। जो एक तरफ आसमान छू रही, रोज मर्रा के प्रयोग की सामग्री की कीमतों से परेशान हैं। दूसरी तरफ़ बेरोजगारी एवं भ्रष्टाचार के चरम पर पहुँचने से सामान्य जीवन यापन कि समस्या से पीड़ित हैं।

गरीब और पिछड़े परिवार के युवाओं को रोजगार एवं नौकरी में आरक्षण का लाभ भी मंडल कमीशन की रिपोर्ट एवं पूर्ववर्ती जनता दल की केंद्रीय सरकार द्वारा लागू निर्णयानुसार नहीं मिल पा रहा है। जिससे प्रदेश मे सामाजिक आर्थिक पिछड़ेपन कि समस्या गहराती जा रही हैं।

जिसके खिलाफ राष्ट्रीय जनता दल बक्सर इकाई ने बैठक कर वर्तमान सरकार की पूर्वेक्षित समस्याओं की अनदेखी का प्रतीक व विरोध का निर्णय लिया है। और सरकार को अधोलिखित जनहितकारी मुद्दाें पर तत्काल निर्णय और क्रियान्वयन की मांग करता है।

जिसमे राज्य क्षेत्रांतर्गत जातिय जनगणना कराई जाए। मंडल आयोग की अनुशंसा हू ब हू लागू की जाए। आरक्षण में बैक लग व्यवस्था को क्रियान्वित कराया जाए। भ्रष्टाचार एवं घुसखोरी को तत्काल रोकने की करवाई की जाए। कार्यक्रम में बिहार प्रदेश राष्ट्रीय जनता दल के वरिष्ठ नेता एवं बक्सर जिला के प्रभारी आदिव रिजवी, ब्रह्मपुर विधायक शम्भु नाथ यादव, अंगद यादव, सत्येंद्र सिंह, भरत यादव, सत्येंद्र आज़ाद, गणपति मंडल, धनपति चौधरी, वीरेंद्र सिंह, संतोष भारती, भुट्टो खा, विनोद यादव, धर्मराज सिंह, बृज बिहारी सिंह, बद्री सिंह, अखिलेश यादव, शारदा, घुरभारी,यादव, राजनारायण राम, जिला मीडिया प्रभारी हरेन्द्र कुमार सिंह, इफ्तिखार अहमद, हरेराम यादव आदि थे।

खबरें और भी हैं...