पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

विश्व पर्यावरण सप्ताह दिवस:कुमार नयन के बूंद-बूंद जल बचाओ अभियान को समर्पित विषय पर सेमिनार आयोजित

बक्सर6 दिन पहले
  • कॉपी लिंक

पूर्व निर्धारित कार्यक्रम के तहत विश्व पर्यावरण सप्ताह दिवस के तहत दो दिवसीय कार्यक्रम का शुभारंभ 5 जून को भारत की जनवादी नौजवान सभा डी.वाई. एफ.आई. के तत्वावधान में किया गया। जिसके दूसरे दिन एक सेमिनार का आयोजन किया गया जिसका विषय “ बूंद बूंद पानी बचाओ सह कुमार नयन का प्रकृति प्रेम पर बंगाली टोला स्थित निजी विद्यालय परिसर में किया गया।

जिसका नेतृत्व एआईवाईएफ के रितेश श्रीवास्तव, डीवाईएफआई के विरेंद्र कुमार चौधरी एवं राजद के नेता गोविंद जायसवाल ने संयुक्त रूप से किया। कार्यक्रम की अध्यक्षता कांग्रेस नेता डॉक्टर सत्येंद्र कुमार ओझा एवं डॉक्टर निसार अहमद तथा मंच संचालन एआईएसएफ के छात्र नेता बबलू जी ने किया। इस अवसर पर कुमार नयन की तैलचित्र पर माल्यार्पण एवं पुष्प अर्पित कर उन्हें याद किया गया। सेमिनार को संबोधित करते हुए कॉमरेड राजेश शर्मा ने कहा कि कुमार नयन दा के नेतृत्व में प्रकृति से संबंधित सैकड़ों कार्यक्रमों में शामिल होने एवं पर्यावरण के समीप होने का अवसर प्राप्त हुआ।

जिनमें से कुछ प्रमुख कार्यक्रम नौनिहालों के पक्ष में उन पर होने वाली हिंसा के खिलाफ सूर्योदय से सूर्यास्त तक अंबेडकर चौक अंबेडकर जी की स्थल पर एक दिवसीय अनशन बूंद बूंद पानी बचाओ अभियान सहित सैकड़ों उपलब्धियां उनके नाम दर्ज हैं। आज पर्यावरण दिवस पर उन्हें हम शिद्दत से याद करते हैं और अपनी श्रद्धांजलि अर्पित करते हैं।

अन्य वक्ताओं में महातम शर्मा, कमाल खान, निहाल खान, रितेश श्रीवास्तव, धीरेंद्र कुमार चौधरी, नदीम खान, सलाउद्दीन खान, संतोष कुमार शर्मा, सतीश कुमार वर्मा ने अपने संबोधन में कहा कि प्रकृति दिवंगत पर्यावरण प्रेमी कुमार नयन को शांति प्रदान करें। उन्होंने कहा कि नयन दा समाज की विविधता एवं संचालन की विधि को काफी गहराई से समझते थे।

लोक एवं समाज कल्याण के लिए उन्होंने सैकड़ों उल्लेखनीय कार्य किया उनके कार्यों में सबसे महत्वपूर्ण कार्य समाज के बीच अपनी प्रगतिशीलता एवं गतिशीलता की बदौलत हजारों परिवारों एवं घरों के बीच आपसी संबंधों को बढ़ावा दिया समाज के दबे कुचले लोगों के लिए संसद से लेकर सड़क तक आंदोलन चलाया ताकि वंचित से समाज के निचले तबके के लोगों के लिए मौलिक संसाधन उपलब्ध हो सके।

खबरें और भी हैं...