शिकायत / प्रवासी श्रमिक बोले- साहब! सुरत से आने के लिए 810 की जगह वसूला गया 1700 रुपए किराया

श्रमिकाें को बक्सर से दानापुर तक पहुंचाने को लेकर बक्सर स्टेशन से दो श्रमिक एक्सप्रेस ट्रेन चलाई गई। श्रमिकाें को बक्सर से दानापुर तक पहुंचाने को लेकर बक्सर स्टेशन से दो श्रमिक एक्सप्रेस ट्रेन चलाई गई।
X
श्रमिकाें को बक्सर से दानापुर तक पहुंचाने को लेकर बक्सर स्टेशन से दो श्रमिक एक्सप्रेस ट्रेन चलाई गई।श्रमिकाें को बक्सर से दानापुर तक पहुंचाने को लेकर बक्सर स्टेशन से दो श्रमिक एक्सप्रेस ट्रेन चलाई गई।

  • श्रमिकों ने कहा कि एक टिकट पर सभी से दो सौ रुपये अधिक ले लिया गया
  • 21 मई को सूरत से चले थे, तीन दिन में दो जगह मिला खाना

दैनिक भास्कर

May 24, 2020, 05:59 AM IST

बक्सर. सूरत से बक्सर आने वाले श्रमिकों ने कहा कि साहब वहा रेलवे टिकट का भाड़ा अधिक ले लिया गया। ऐसे में पॉकेट पूरी तरह ढ़िली हो गई। हालांकि खाने को दो जगहों पर मिला। जिसमें वीणा में चूरा का पोहा व डीडीयू में पुड़ी भुजिया आदि मिला। ये बातें शनिवार को सूरत से आने वाली श्रमिक एक्सप्रेस से उतरने वाले आधा दर्जन से अधिक श्रमिकों ने कहा कि रेलवे टिकट से अधिक वहां स्टेशन से आने से पहले ही टिकट देकर ले लिया गया।

जिले के नियाजीपुर के संतोष कुमार ने एक टिकट को दिखाते हुए कहा कि टिकट पर 810 रुपये अंकित था। जबकि सत्रह सौ रुपये ले लिया गया। यही कहना था प्रदीप कुमार पटेल का है। जिनसे 810 रुपये की जगह 1700 रूपया वसूल लिया गया।  वहीं कई श्रमिकों ने कहा कि एक टिकट पर सभी से दो सौ रुपये अधिक ले लिया गया।

21 मई को सूरत से चले इन यात्रियों ने कहा कि तीन दिन में दो जगह पर खाना मिला। जिसमें एक जगह चूड़ा का पोहा व डीडीयू में पुड़ी भुजिया आदि दिया गया। वहीं बक्सर में उतरते ही इन यात्रियों का सबसे पहले काउंसिलिंग किया गया। साथ ही उन्हें नाश्ते का पैकेट दिया और साथ में पानी का बोतल दिया गया। जिससे पाकर भूखे प्यासे इन श्रमिकों ने राहत महसूस किया। 
14 हजार चार सौ अस्सी रुपये का राजस्व: एक जून से चलायी जाने वाली ट्रेन को लेकर रिजर्वेशन टिकट काउंटर पर दूसरे दिन चौदह हजार चार सौ अस्सी रुपये का राजस्व प्राप्त हुआ। यहां कुल 18 टिकटों की बुकिंग हुई। इसको लेकर बक्सर रेलवे स्टेशन पर एक ही रिजर्वेशन काउंटर खोली गई है। जो एक ही शिफ्ट में संचालित की जा रही है। इस तरह बुकिंग काउंटर के खोले जाने से यात्रियों के बीच एक नई उम्मीद जग गई है। 
बक्सर से दानापुर के लिए खुली ट्रेन, सरकार ने दिया भाड़ा, प्रवासियों को मिली राहत
श्रमिकाें को बक्सर से दानापुर तक पहुंचाने को लेकर बक्सर स्टेशन से दो श्रमिक एक्सप्रेस ट्रेन चलाया गया। शनिवार को ट्रेन दोपहर 3 बजे खुली। जिसमें कई दर्जन श्रमिक सवार हुए। इन श्रमिकों के लिए प्लेटफार्म पर पानी वगैरह देने की व्यवस्था की गई। इसके पहले उन्हें सेंटर पर खाना वगैरह खिलाया गया। हालांकि इन श्रमिकों को टिकट का किराया बिहार सरकार द्वारा दिया जा रहा है।

जिला वाहन कोषांग के नोडल प्रभारी सह डीटीओ मनोज कुमार रजक खुद इसकी माॅनिटरिंग कर रहे थें। ट्रेन का भाड़ा बिहार सरकार के गाइड लाइन पर आबादी निष्क्रमण यानी आपदा द्वारा 2 लाख 11 हजार चार सौ रुपये का चेक रेलवे को दिया गया। डीटीओ ने बताया कि राज्य सरकार के निदेश पर जिला प्रशासन द्वारा यहां बाहर से आने वाले श्रमिकों व यहां से बाहर बाहर गंतव्य स्थान पर पहुंचाने को लेकर इस तरह की व्यवस्था की गई है। 
तत्पर दिखे रेल कर्मी व अधिकारी: श्रमिक एक्सप्रेस ट्रेन को खोलने को लेकर दो टिकट काउंटर खोला गया है। काउंटर की मॉनिटरिंग आदि को लेकर बुकिंग सुपरवाइजर एच खान के साथ बुकिंग स्टॉफ कमलाकर राय, नरेशदत्त सिंह, पियूष राज, चंदन पटेल आदि पूरी तरह से तत्पर रहे। इस दौरान आरपीएफ इंस्पेक्टर महेन्द्र चौधरी, उपनिरीक्षक श्याम बिहारी द्विवेदी व आरक्षी एसके ओझा के साथ ही जीआरपी के थानाध्यक्ष अवधेश कुमार सिंह की टीम पूरी तरह से मुस्तैद रही।

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना