बिहार का बेटा पाकिस्तान की जेल में:बक्सर में 12 साल पहले मां कर चुकी है अंतिम संस्कार, विदेश मंत्रालय के पत्र से मां खुशी से रो पड़ी

बक्सर5 महीने पहले

बिहार के बक्सर में 12 साल पहले जिस लापता बेटे को मरा समझकर मां ने अंतिम संस्कार कर दिया था। उसके पाकिस्तान की जेल में होने की जानकारी सामने आई है। विदेश मंत्रालय से जब ये चिट्‌ठी उसके घर पहुंची तो मां के जहन में अपने बेटे छवि की 'छवि' उतर आई। वो खुशी के मारे रो पड़ी। मां को अब अपने बेटे के घर लौटने का इंतजार है। 12 साल पहले जब वो घर से लापता हुआ था तो उसकी दिमागी स्थिति ठीक नहीं थी। परिवार ने उसकी काफी तलाश की लेकिन जब उसकी कोई सूचना नहीं मिली तो उसे मरा हुआ समझ लिया। मामला बक्सर जिले के खिलाफतपुर का है। युवक का नाम छवि मुशहर है।

विदेश मंत्रालय से मुफस्सिल थाने में उसकी पहचान के लिए कुछ पेपर आए थे। छवि ने पाकिस्तान के प्रशासन को अपना, अपने माता-पिता-गांव और पड़ोसियों का नाम सही-सही बताया है। वह कैसे पाकिस्तान पहुंच गया इसको लेकर लोग कई तरह की चर्चा कर रहे हैं। पुलिस को बुलाने पर थाने पहुंचे परिजनों ने युवक की तुरंत पहचान कर ली। परिजन अचंभित भी हैं कि जिस शख्स की मिलने की आस छोड़ अंतिम संस्कार कर दिया था। वह अब भी जिंदा है लेकिन अफसोस कि वह पाकिस्तान में है।

छवि कुमार अभी पाकिस्तान की जेल में बंद है।
छवि कुमार अभी पाकिस्तान की जेल में बंद है।

12 साल पहले अचानक लापता हो गया था
मुफस्सिल थाना क्षेत्र के चौसा नगर पंचायत स्थित खिलाफतपुर की दलित बस्ती में सैकड़ों परिवार मेहनत मजदूरी करते हैं। छवि इन्हीं के बीच पला बढ़ा। उसकी शादी हुई एक बच्चा भी है। लेकिन, एक दिन दलित बस्ती से वो अचानक लापता हो गया। बड़े भाई पिता और आसपास के लोगों ने काफी खोजबीन की। लेकिन, काफी दिन बीत जाने के बाद भी छवि का कोई अता-पता नहीं चला।

भाई बोले- देखते ही पहचान गए थे
छवि कुमार के बड़े भाई रवि कुमार ने कहा कि- "छवि जब लापता हुआ था तब उसकी उम्र 20 साल के आसपास थी। हालांकि, इसकी सूचना थाने में नहीं दी गई थी। क्योंकि इसके पहले भी घर से गायब होता था तब वह कुछ दिनों के बाद घर लौट जाता था। लेकिन, इस बार लंबे दिनों के बाद भी जब घर वापस नहीं आया तो उसको मृत मान अंतिम संस्कार कर दिया गया। लेकिन, थाने से जानकारी मिली है कि वह पाकिस्तान के जेल में बंद है। हम लोग उसकी तस्वीर देखते ही उसको पहचान गए।"

मां की इच्छा है कि बेटा घर वापस आए
मां वृति देवी ने अपनी भाषा में बताया कि- "मैंने बेटे की जिंदा रहने की आस ही छोड़ दी थीं। लेकिन, बेटा पाकिस्तान में बताया गया है। कब आएगा ये नहीं बताया।" सारी बातें कहते हुए मां की ममता छलक उठी और वह फफक कर रोने लगीं। उनकी इच्छा फिर से जाग उठी है कि मरने से पहले बेटे को अपने पास देखें। विदेश मंत्रालय की कागज पर बेटे का फोटो देख मां रोती और निहारती रही।

पत्नी ने लापता होने के दो साल बाद कर ली थी शादी
छवि मुशहर की शादी 14 साल पहले अनिता कुमारी से हुई थी। लापता होने के बाद पत्नी ने इसके बच्चे को भी जन्म दिया था। लेकिन, दो साल इंतजार के बाद वह दूसरी शादी कर ली और अपने बच्चे को लेकर वहां से चली गई।

वहीं, मुफस्सिल थानाध्यक्ष अमित कुमार ने बताया कि शिनाख्त के लिए कल संबंधित विभाग से कागजात आए थे। उसकी पहचान हो गई है। रिपोर्ट तैयार कर भेज दी गई है। पाकिस्तान में कहां और कब से है इसकी जानकारी नहीं है। बाकी जानकारी इससे संबंधित विभाग ही दे सकता है।